ऋषि दयानन्द ने अपने विद्या गुरू स्वामी विरजानन्द सरस्वती की शिक्षा एवं प्रेरणा से देश में धार्मिक एवं सामाजिक क्रान्ति की

आज स्वामी विरजानन्द सरस्वती जी की पुण्य तिथि पर

मनमोहन कुमार आर्य

आज ऋषि दयानन्द के विद्या गुरु प्रज्ञाचक्षु दण्डी स्वामी विरजानन्द सरस्वती जी की पुण्य तिथि है। 14 सितम्बर, सन् 1868 (सोमवार) को मथुरा में उनका देहान्त हुआ था। उस दिन हिन्दी तिथि आश्विन मास के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी थी। विक्रमी संवत् 1925 था। आज का दिन एक अवसर है कि ऋषि दयानन्द के सभी अनुयायी स्वामी विरजानन्द जी के व्यक्तित्व एवं कृतित्व सहित उनके द्वारा स्वामी दयानन्द के जवीन के निर्माण में योगदान व उससे देश को हुए दूरगामी लाभों को स्मरण करें। आज वैदिक धर्म व संस्कृति सुरक्षित है तो इसका सर्वाधिक श्रेय स्वामी विरजानन्द जी की स्वामी दयानन्द को शिक्षा और उन्हें धर्म व संस्कृति की रक्षा करने की प्रेरणा को ही कह सकते हैं। स्वामी दयानन्द जी स्वामी विरजानन्द जी के योग्यतम शिष्य थे। इन गुरु-शिष्यों को हम इतिहास में अपूर्व योग्यतम गुरु व शिष्य कह सकते हैं। सृष्टि के आरम्भ में ईश्वर ने जिस धर्म व संस्कृति को आदि चार ऋषियों को अपना वेद ज्ञान प्रदान कर प्रवृत्त किया था वह स्वामी दयानन्द जी (1825-1883) के समय में मरणासन्न हो रही थी। स्वामी दयानन्द ने स्वामी विरजानन्द जी से प्राप्त अमृतमय आर्ष शिक्षा व विद्या का देशवासियों को पान करा कर वैदिक धर्म व संस्कृति को पुनर्जीवित और पुनरुद्धार किया। यदि स्वामी दयानन्द और स्वामी विरजानन्द अपने अपने समय में न हुए होते तो हम भारत व विश्व की होने वाली दुर्दशा का अनुमान भी नहीं कर सकते। आज यदि संसार को ईश्वर, जीव व प्रकृति का वेद, उपनिषद् और दर्शन वर्णित यथार्थ स्वरूप विदित है तो इसमें इन दो महापुरुषों का अपूर्व योगदान है। स्वामी दयानन्द जी से हमें जो सन्ध्या व पंचमहायज्ञ पद्धति मिली है, सत्यार्थप्रकाश, ऋग्वेदादिभाष्यभूमिका, संस्कारविधि, आर्याभिविनय आदि अनेक ग्रन्थ मिले हैं, उनका श्रेय भी स्वामी विरजानन्द सरस्वती जी की स्वामी दयानन्द को शिक्षा व प्रेरणा को ही मान सकते हैं।

 

देश से स्वामी दयानन्द जी ने मूर्तिपूजा, अवतारवाद, मृतक श्राद्ध, फलित ज्योतिष, जन्मना जातिवाद पर प्रहार, स्त्री शूद्रों सहित सभी मनुष्य समुदायों को वेदाधिकार जैसे सभी कार्यों का श्रेय भी एक सीमा तक स्वामी विरजानन्द सरस्वती को है। आज देश व विश्व में हिन्दी का प्रचार हुआ है, इसके पीछे प्रत्यक्ष तो स्वामी दयानन्द और आर्यसमाज ही हैं एवं ब्रह्मसमाजी नेता श्री केशवचन्द्र सेन की प्रेरणा है वहीं स्वामी दयानन्द को सामाजिक जीवन जीने की प्रेरणा का मुख्य कार्य तो स्वामी विरजानन्द जी ने ही किया था। इस प्रकार से स्वामी दयानन्द जी ने अपने जीवन में जो भी कार्य किये, आर्यसमाज की स्थापना, गुरुकुलीय पद्धति की प्रेरणा व पुनरूद्धार, अनाथों, विधवाओं की रक्षा व पुनर्वास, पुर्न-विवाह, गुण-कर्म-स्वभाव के अनुसार युवावस्था में कन्या व युवक का विवाह, इन सब का श्रेय किसी न किसी रूप में स्वामी विरजानन्द जी की शिक्षा व स्वामी दयानन्द जी को की गई प्रेरणा व मार्गदर्शन को ही प्रतीत होता है।

 

हम आज स्वामी विरजानन्द जी के 149 वीं पुण्य तिथि पर उनको श्रद्धांजलि देते हैं। स्वामी विरजानन्द जी और स्वामी दयानन्द जी वैदिक धर्म व संस्कृति की रक्षा करने वाले महाभारत काल के बाद सबसे बड़े महापुरुष हैं। उनसे पूर्व स्वामी शंकराचार्य जी का आविर्भाव हुआ परन्तु उन्होंने वेदों एवं उनके त्रैतवाद, गुण-कर्म-स्वभाव के अनुसार वैदिक वर्ण व्यवस्था एवं वेदभाष्य आदि का कार्य नहीं किया। उन्होंने गीता, वेदान्त दर्शन एवं उपनिषदों पर भाष्य अवश्य लिखे परन्तु इनसे सामाजिक व्यवस्था में गुणात्मक सुधार हुआ हो, ऐसा दिखाई नहीं देता। इसके बाद तो मुसलमानों व अंग्रेजों ने देश को गुलाम बनाया और वैदिक धर्मियों पर अमानुषिक अत्याचार भी हुए। ऐसे सभी धार्मिक एवं सामाजिक सुधारों का कार्य स्वामी विरजानन्द सरस्वती के सुशिष्य स्वामी दयानन्द जी ने ही किया है। इनका योगदान अन्य सभी महात्माओं एवं महापुरुषाओं में सर्वाधिक है। प्रलय तक भी इनका योगदान भुलाया नहीं जा सकता। इनके शिष्यों को लोभ छोड़कर स्वामी दयानन्द के बतायें मार्ग का अवलम्बन करना चाहिये जिससे स्वामी दयानन्द जी द्वारा किया गया कार्य तीव्रता से आगे बढ़े और पूर्ण हो। ओ३म् शम्।

Leave a Reply

%d bloggers like this: