लेखक परिचय

अम्बा चरण वशिष्ठ

अम्बा चरण वशिष्ठ

मूलत: हिमाचल प्रदेश से। जाने माने स्‍तंभकार। हिंदी और अंग्रेजी के अनेक समाचार-पत्रों में अग्रलेख प्रकाशित। व्‍यंग लेखन में विशेष रूचि।

Posted On by &filed under राजनीति.


बेटा: पिताजी!

पिता: हाँ, बेटा।

बेटा: ग्रामीण विकास मंत्री जयराम रमेश ने कहा है कि शौचालय हमारे मंदिरों से कहीं ज़्यादा शुद्ध और स्वच्‍छ हैं।

पिता: हाँ बेटा, उन्होंने ऐसा कहा है।

बेटा: क्या यह उचित है?

पिता: बेटा, श्री जय राम बड़े पढे-लिखे समझदार व्यक्ति हैं।

बेटा: उनका अभिप्राय गिरजाघरों और मस्जिदों से भी है?

पिता: बेटा, उन्होंने ऐसा कुछ नहीं कहा है।

बेटा: क्यों?

पिता: बेटा, तू अभी बच्चा है। तू हमारे ‘सेकुलरिज़्म’ की बारीकियाँ नहीं समझता।

बेटा: मतलब?

पिता: हमारे ‘सेकुलरिज़्म’ में ऐसी बातें केवल हिन्दू धर्म के बारे ही कही जा सकती हैं।

बेटा: पिताजी, यदि दूसरे धर्मों के बारे ऐसा कह दो तो?

पिता: तो वह घृणित सांप्रदायिकता बन जाती है।

बेटा: पिताजी, जब पूजा-अर्चना करनी हो, भगवान से कुछ

प्रार्थना करनी हो तो क्या जय राम रमेश मंदिर न जाकर शौचालय में जाएंगे?

पिता: बेटा, यह तू उनसे ही पूछ।

5 Responses to “हास्य-व्यंग्‍य/ जयराम रमेश मंदिर नहीं शौचालय जाएंगे?”

  1. संजय कुमार (कुरुक्षेत्र)

    Sanjay

    जो जयराम रमेश ने कहा है वह आंशिक रूप से सही हो सकता है परन्तु कहने का तरीका और शब्दों का चुनाव 100 % गलत है .कांग्रेसी वक्त बेवक्त भौंक कर अपने सेकुलरिज़्म का सबूत देते रहते हैं .सत्ता का नशा सिर चढ़ कर बोल रहा है .जो हिन्दूओं को बड़ी गाली देगा वह उतना बड़ा राजभक्त माना जाएगा .

    Reply
  2. श्रीराम तिवारी

    shriram tiwari

    गाँव गाँव निर्मल बने, सुलभ शौच परिवेश.
    लिख देगा इतिहास तब,जय-जय राम रमेश..

    Reply
  3. डॉ. मधुसूदन

    Dr Madhusudan

    जय राम, जय राम, जय जय राम|

    जय राम, “जय राम, रमेश” राम||

    इनको सन्मति, दे दे राम|

    रघुपति राघव, राजा राम||

    Reply
  4. Binu Bhatnagar

    ये बात बिल्कुल सही है कि देश मे मंदिर मस्जिद बहुत है,और बनाने की ज़रूरत नहीं है लेकिन बात हिन्दू धर्म
    पर ही अटक जाती है क्योंकि हिन्दुओं मे सहिषणुता है।किसी और धर्म के बारे मे ग़लती से कोई कुछ कह दे तो
    उसे सांप्रदायिक कह दिया जाता है।मै इसबात से अवशय सहमत हूँ कि देश मे सार्वजनिक स्वच्छ शौचालयों की
    बहुत आवश्यकता है।

    Reply
    • श्रीराम तिवारी

      shriram tiwari

      भाई जैराम रमेश शुद्ध १००% हिन्दू है अब कोई उपमा देना है तो अपने ही धरम की देगा पडोसी का धरम काहे को उधार लेगा? फिर उन्होंने मंदिर ,भगवान् या धरम पर तो कोई टिप्पणी की नहीं केवल संख्या की तुला की है की मंदिर तो बहुत बना लिए अब मंदिर जाने लायक भी बनो याने साफ़ सफाई का ध्यान रखो .अब विरोध की भी हद होती है एक मंत्री जो कुछ करना चाहता है उसकी जुबान पकड़ी जा रही है और कई मंत्री कुछ भी न करें मज़े से सोते रहें तो किसी को कोई उज्र नहीं .भाई ये तो सरासर नाइंसाफी है.

      Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *