लेखक परिचय

शकुन्तला बहादुर

शकुन्तला बहादुर

भारत में उत्तरप्रदेश की राजधानी लखनऊ में जन्मी शकुन्तला बहादुर लखनऊ विश्वविद्यालय तथा उसके महिला परास्नातक महाविद्यालय में ३७वर्षों तक संस्कृतप्रवक्ता,विभागाध्यक्षा रहकर प्राचार्या पद से अवकाशप्राप्त । इसी बीच जर्मनी के ट्यूबिंगेन विश्वविद्यालय में जर्मन एकेडेमिक एक्सचेंज सर्विस की फ़ेलोशिप पर जर्मनी में दो वर्षों तक शोधकार्य एवं वहीं हिन्दी,संस्कृत का शिक्षण भी। यूरोप एवं अमेरिका की साहित्यिक गोष्ठियों में प्रतिभागिता । अभी तक दो काव्य कृतियाँ, तीन गद्य की( ललित निबन्ध, संस्मरण)पुस्तकें प्रकाशित। भारत एवं अमेरिका की विभिन्न पत्रिकाओं में कविताएँ एवं लेख प्रकाशित । दोनों देशों की प्रमुख हिन्दी एवं संस्कृत की संस्थाओं से सम्बद्ध । सम्प्रति विगत १८ वर्षों से कैलिफ़ोर्निया में निवास ।

Posted On by &filed under कविता, साहित्‍य.


सुभाष चंद्र बोस*भारत के अमर स्वतन्त्रता सेनानी नेताजी शुभाषचन्द्र बोस के *
* जन्मदिवस २३ जनवरी के पुनीत अवसर पर श्रद्धा सुमन -*

है समय नदी की बाढ़ कि, जिसमें सब बह जाया करते हैं ,
है समय बड़ा तूफ़ान , प्रबल पर्वत झुक जाया करते हैं ।
अक्सर दुनिया के लोग समय में, चक्कर खाया करते हैं ,
लेकिन कुछ ऐसे होते हैं , इतिहास बनाया करते हैं ।।
ये उसी वीर इतिहास-पुरुष की , अनुपम अमर कहानी है ,
जो रक्तकणों से लिखी गई,जिसकी “जयहिन्द” निशानी है ।
प्यारा सुभाष, नेता सुभाष , भारत-भू का उजियारा था ,
पैदा होते ही गणिकों ने , जिसका भविष्य लिख डाला था ।।
यह वीर चक्रवर्ती होगा, या त्यागी होगा सन्यासी ,
जिसके गौरव को याद रखेंगे, युग युग तक भारतवासी।
सो वही वीर नौकरशाही ने , पकड़ जेल में डाला था ,
पर क्रुद्ध केहरी कभी नहीं , फंदे में टिकने वाला था ।।
बाँधे जाते इंसान , कभी तूफ़ान न बाँधे जाते हैं ,
काया ज़रूर बाँधी जाती, बाँधे न इरादे जाते हैं ।
वह दृढ़प्रतिज्ञ सेनानी था,जो मौक़ा पाकर निकल गया,
वह पारा था अंग्रेज़ों की , मुट्ठी में आकर फिसल गया ।।
जिस तरह धूर्त्त दुर्योधन से बचकर यदुनन्दन आए थे,
जिस तरह शिवाजी ने मुग़लों के, पहरेदार छकाए थे ।
बस उसी तरह यह तोड़ पींजड़ा , तोता सा बेदाग़ गया,
जनवरी माह सन् इकतालिस , मच गया शोर वह भाग गया।।
वे कहाँ गए, वे कहाँ रहे, ये धूमिल अभी कहानी है ।
हमने तो इसकी नयी कथा, आज़ाद फ़ौज से जानी है ।।
***********
ये १९४५ में प्रकाशित व्यास जी की कविता की पुनर्प्रस्तुति है ।
– शकुन्तला बहादुर

2 Responses to “जो रक्तकणों से लिखी गई,जिसकी “जयहिन्द” निशानी है ।”

  1. डॉ. मधुसूदन

    डॉ. मधुसूदन

    आझाद हिन्द फौज के संचलन जैसी आगे कूच करती कविता, पुनर-प्रस्तुत कर शकुन्तला जी ने अवश्य सुभाष चंद्र की “बहादुरी” का परिचय तो दिया ही है। अत्योचित प्रासंगिक कविता पढकर आज का मेरा दिन भी उत्साह से भर आया है। लगता है संचलन के साथ साथ कहीं पीछॆ, घोष (बॅण्ड) पथक भी सुनाई दे रहा है। ऐसे शब्द ही अमरता प्राप्त करते हैं। स्मरण दिलाने के लिए धन्यवाद।

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *