लेखक परिचय

पंडित दयानंद शास्त्री

पंडित दयानंद शास्त्री

ज्योतिष-वास्तु सलाहकार, राष्ट्रीय महासचिव-भगवान परशुराम राष्ट्रीय पंडित परिषद्, मोब. 09669290067 मध्य प्रदेश

Posted On by &filed under विविधा.


 

प्रिय पाठकों, आज के समय पर जॉब मिलना आसान नहीं है और अगर आपको मन चाही जॉब मिल भी गई तो भी कुछ लोग ऐसे होते हैं, जिनके कारण आपको ऑफिस काटने को दौड़ता है। हर एक ऑफिस में मौजूद इस तरह के लोगों से छुटकारा पाना आसान नहीं होता है। हम अपने दिन के करीब आठ से दस घंटों का समय ऑफिस में ही बिताते हैं, इसलिए अगर लाइफ में खुश रहना है तो ऑफिस में खुश रहना बेहद जरूरी है, लेकिन इसके लिए आपको अपने ऑफिस में मौजूद इस तरह के लोगों से जरा बच कर रहना चाहिए |

आप सभी जानते हैं ऑफिस में सबका चहेता होने का अपना अलग ही मजा होता है. अगर आपको सभी लोग पसंद करते हैं तो चाहे कितना ही काम का बोझ क्यों न हो, आप उसे हंसते-हंसते झेल लेंगे. आप ऑफिस में खुश होंगे और तनाव आपके पास तक नहीं आएगा. आप ज्यादा और अच्छा काम कर पाएंगे, आपकी तरक्की की संभावनाएं भी अधिक होंगी. लेकिन ऑफिस में सबका प्यारा बनना इतना आसान नहीं. लेकिन नीचे दिए गए टिप्स आपकी राह आसान बना देंगें |

जल्दी से जल्दी सहकर्मियों के नाम याद करें —
आप अपने नए ऑफिस में सहकर्मियों के नाम जल्दी से जल्दी याद करें. और उन्हें उनके सही नाम से बुलाएं | और इशारा करके तो बिल्कुल न बुलाएं |नाम भलूने पर माफी मांगें|

अनुशासित रहें—

ध्यान रखें अनुशासन सफलता की पहली सीढ़ी है. शुरुआती दिनों में ऑफिस सही समय पर पहुंचें. ऑफिस के समय अपना निजी काम न करें. कंपनी के नियमों का सम्मान करें |

—दफ्तर में लगातार काम करते हुए आपको एक छोटे ब्रेक की जरूरत पड़ती है, ताकि आप सांस तो ले सकें। इस दौरान कुछ ऐसा करने की कोशिश कर लें, जो आपको एक्टिव बना दे।

अपनी जान पहचान (नेटवर्क) विकसति करें–

आप अपने सहकर्मियों के साथ ऑफिस कैंपस के बाहर चाय-कॉफी पीने जा सकते हैं. इस तरह उसके साथ इंटर्नल नेटवर्क विकसित करें. इसके अलावा अपने आइडियाज़ थोपने की बजाय कलिग के सुझावों को भी सुनें. कंपीटिशन के माहौल के बजाय टीम वर्क में कार्य करें. आप उस ऑफिस का हिस्सा हैं इसलिए साथियों के साथ मिलजुल कर काम करने की चाह व्यक्त करें. अपनी टीम की तरफ ईमानदार रहें |

आभार जताना न भूलें—

हालांकि आपकी मदद करना सहकर्मियों की जॉब है लेकिन फिर भी इसके लिए उन्हें धन्यवाद कहना न भूलें. इसके अलावा आप अपनी तरफ से हेल्प ऑफर करके उनसे अपने पर्सनल रिश्ते मजबूत कर सकते है. ध्यान रहे हेल्प करने का प्रस्ताव इस तरह से न दें कि आपके ऑफर को पूरी टीम सुनें और लगे कि आप एक्स्ट्रा वर्क करके अपने नंबर बढ़ाना चाहते हैं |

अपनी आलोचना खुशी-खुशी स्वीकार करें —

किसी प्रोजेक्ट पर आपका काम नहीं पसंद आता है और ऑफिस के लोग आपके काम की आलोचना करता है तो उसे दिल पर न लें. प्रोफेश्नल रहें और अपनी आलोचना को स्वीकार करें. हमेशा सीखने के लिए तैयार रहें. शुरुआती दिनों में आपको काम कम ही दिया जाएगा, लेकिन काम जल्दी खत्म हो जाने पर खाली अगली चीज का इंतेजार करने के बजाए खुद से पहल करें और काम मांगें |

ऑफिस की राजनीति से दूर रहें—

अधिकांश ऑफिसों में इधर-उधर की बातें, कानाफूसी, गॉसिप आम बात है. लेकिन नई-नई जॉब में आपको इन सबमें उलझने की जरूरत नहीं. किसी और के बारे में जरूरत से ज्यादा न बोलें, क्योंकि वह बात कभी भी तीसरे इंसान तक जा सकती है. अकसर ऑफिसों में लोग टीम का माहौल ठीक न होने, सैलरी कम होने, परेशान होकर जॉब चेंज करने की बात करते रहते हैं. आप इन बातों पर ध्यान न दें. नकारात्मकता से दूर रहें. हमेशा मेहनत करते रहें. एक्टिव, क्रिएटिव रहें और नए-नए आइडियाज़ अपने बॉस से शेयर करें |

बचकर रहें गॉसिप करने वाले–
हर एक ऑफिस में गॉसिप करने वाले लोग सबसे कॉमन होते हैं। ये वो लोग होते हैं, जो अपने काम पर कम दिमाग लगाते हैं और ऑफिस में क्या चल रहा है, उस पर ज्यादा। आपको इस तरह के लोगों से दूरी बना कर रखनी चाहिए, क्योंकि इनके साथ रहने से ऑफिस में आपकी छवि पर बुरा असर पड़ता है। आपको कभी भी गॉसिप में शामिल नहीं होना चाहिए, क्योंकि ये किसी को पता नहीं होता कि आपकी बोली हुई एक बात आप पर कब भारी पड़ जाएगी। इसलिए हमेशा नकारात्मक वार्ता से खुद को दूर रखें और अपने काम पर ध्यान दें |

विशेष सावधानी —-यदि आप अपने ऑफिस के पर्सनल कंप्यूटर या लैपटॉप पर ऑनलाइन शॉपिंग करते हैं या फिर नई नौकरी ढूंढ़ने के लिए या कोई मूवी डाउनलोड करने के लिए आप ऑफिस के वर्कस्टेशन का सहारा लेते हैं तो सावधान रहें,भीलकर भी यह गलती ना करें क्यों की आपके ऑफिस के कंप्यूटर पर आपकी हर गतिविधि ऑफिस के आईटी डिपार्टमेंट की नजरों में होती है और जरूरत पड़ने पर वो आपकी विजिट की गई हर वेबसाइट की जानकारी निकाल सकते हैं | आपको अपना काम करते हुए संगीत सुनना पसंद है और आप चाहते हैं कि आपका पर्सनल कलेक्शन आपके ऑफिस के वर्कस्टेशन पर भी हो, लेकिन इसके लिए कभी भी आपको कोई एक्सटर्नल हार्ड ड्राइव या यूएसबी नहीं जोड़ना चाहिए. याद रखिए कि आपके ऑफिस के नेटवर्क से या उसमें ट्रांसफर होने वाला कोई भी डेटा अपने साथ वायरस या गैर-कानूनी सॉफ्टवेयर ला सकता है और पूरे नेटवर्क को मुश्किल में डाल सकता है | अपनी कंपनी के वर्कस्टेशन पर पर्सनल चीजें ना रखें, खासतौर पर वैसी चीजें जो आप नहीं चाहते कि आपके साथ काम करने वाले लोग या बॉस देखें. आपकी मेडिकल रिपोर्ट, बैंक स्टेटमेंट, परिवार या दोस्तों के साथ आपकी तस्वीरें या आपके बारे में कोई सेंसिटिव इंफॅार्मेशन- इनमें से कुछ भी वर्कस्टेशन पर होना आपकी प्राइवेसी को खतरे में डाल सकता है |

सावधान रहें पूरा दिन ऑफिस में बिताने वाले साथियों से–
कई ऑफिस में ज्यादातर लोग ऐसे होते हैं, जो समय पर घर निकलना पसंद करते हैं, लेकिन पूरे स्टाफ में दो-चार ऐसे भी होते हैं, जिन्हें ऑफिस से इतना प्यार होता है कि वो उसे छोड़कर जाना ही नहीं चाहते। ऐसे लोगों के साथ रहना ठीक है, लेकिन इनके साथ ज्यादा रहने नुकसानदेह भी है। ऐसे लोगों के साथ रहने से आपकी सोशल लाइफ पर बुरा असर पड़ता है और आप बस ऑफिस तक ही सीमित रह जाते हैं।

सजग रहें दुनिया से मतलब नहीं रखने ऑफिस के साथियों से–
दफ्तर में कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जिनके डेली रूटीन में कभी कोई बदलाव नहीं आता है। इस तरह के लोग ऑफिस आते ही अपने काम में लग जाते हैं, लंच ब्रेक लेते हैं और फिर शाम तक काम में लगे रहते हैं। कहने का मतलब ये है कि इस तरह के लोगों को ऑफिस में क्या चल रहा है, क्या नहीं, इससे कोई मतलब नहीं होता। अगर आप ऑफिस में कुछ नया सीखना चाहते हैं या फिर कुछ अलग करना चाहते हैं तो ऐसे लोगों की कंपनी में शामिल न हों।

इन उपायों द्वारा दूर भगाएं टेंशन /तनाव को–
—संगीत को तनाव दूर भगाने का सबसे अच्छा जरिया कहा गया है। अपने आई पॉड या मोबाइल पर गाने सुनें। संगीत का आनंद लेते समय इतना जरूर ध्यान दें कि आपके गाने सुनने से किसी को काम में बाधा न आए।
—-एक ही जगह पर बैठे रहना काफी नीरस प्रतीत होता है। यह पीठ की सेहत को भी नुकसान पहुंचाता है। इसलिए सीट से उठकर थोड़ा सा घूमें। कुछ नहीं तो पानी का गिलास ही भर लाएं या फिर अपने किसी कलीग से बात करें।
—ध्यान आपको शांत रखता है और काम संबंधी तनाव भी दूर भगाता है। अपनी आंखें केवल पांच मिनट के लिए बंद करें और गहरी सांसें लें। ऐसा करते समय सांस पर ध्यान दें और दिमाग को भटकने से रोकें।

इसके साथ साथ निम्न बातों का ध्यान अवश्य रखें—

जरूरत का सामान रात को ही निकालकर रखें– हो सकता है कि आपको तैयार होने के लिए रोजाना कई चीजों की जरूरत होती हो। ये आपका पर्स, रुमाल, बैग, किताबें, कागज़ात, आपके जूते आदि में से कुछ भी हो सकता है। सुनिश्चित करें कि ये सारा सामान आप एक जगह याद से निकालकर रखें ताकि सुबह ढूढ़ने में समय खराब न हो। साथ ही ऐसी कोई चीज या फाइल जो किसी विशेष दिन पर ले जानी हो उसे भी जरूर तैयार करके बाहर निकालकर रखें।

समय पर सोएं- ज्यादातर शोधों के परिणामों के आधार पर ये सलाह दी जाती है कि किशोरावस्था में बच्चों को लगभग 9-10 घंटे की नींद लेनी चाहिए। वैसे ये पूरी तरह से आप पर निर्भर करता है। कुछ लोगों के लिए जहां 11 घंटे की नींद जरूरी होती है वहीं कुछ के लिए केवल 7 घंटे की नींद काफी होती है।

अलार्म को अपनी जरूरत के अनुसार सेट करके सोएं- काफी लोग रेडियो अलार्म लगाना पसंद करते हैं। लेकिन इससे भी अच्छा तरीका है कि आप अपना पसंदीदा गाना अलार्म ट्यून पर सेट करें। ताकि उसे सुनने के बाद आपके दिन की शुरुआत अच्छी हो। सुबह जगकर तैयार होने और नाश्ता करनें में लगभग 1 घंटे का समय लेते हैं। अगर आप सुबह शॉवर से नहाना पसंद करते हैं, तो इसके लिए अलग से आधा घंटे का टाईम निकालकर रखें। क्योंकि नहाने और बाल सुखाने में लगभग इतना समय तो लग ही जाएगा।

प्रिय पाठकों, आप उपरोक्त सुझावों को अपनाकर निश्चित ही अपने ऑफिस में सभी के चहेते बन सकते हैं|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *