मुन्ना राजा धरमपुरा के,
सचमुच के हैं राजा |
जिसका चाहें ढोल बजा दें ,
जिसका चाहें बाजा |

पांच बजे सोकर उठते हैं ,
ब्रश मंजन करते हैं “
सारे काम फ़टाफ़ट करके ,
फिर कसरत करते हैं |
ताल ठोककर कहते हैं फिर,
कुश्ती लड़ले आजा |

कौन लडे अब उस मोटू से ,
सब डरते हैं भाई |
जो भी उससे लड़ा अभी तक ,
सबने टांग तुड़ाई |
टांग देख लो कल्लूजी की ,
टूटी ताजा -ताजा |

नाक तोड़ दी रामूजी की ,
मोहनजी की जांघ |
काम सभी मुन्ना के होते ,
बिलकुल ऊँट पटांग |
खुली छूट है सबसे कहते ,
आजा हाथ तुड़ाजा |

शौक जिन्हें होता तुड़वाता ,
हाथ पैर मुन्ना से,
लट्टू जैसा उन्हें घुमा वह,
देता है गन्नाके |
कहता है जिसको पिटना हो,
खुला हुआ दरवाजा।

Leave a Reply

%d bloggers like this: