जस्टिन ट्रूडो ने किया कनाडा को नेट ज़ीरो करने का वादा

लेकिन कनाडा का इतिहास रहा है इस दिशा में लक्ष्य निर्धारित कर उसे हासिल ना कर पाने का। 1992 से आज तक कनाडा अपना एक भी जलवायु लक्ष्य पूरा नहीं कर पाया।

आज, 2050 तक नेट-ज़ीरो ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन तक पहुंचने का संकल्प करते हुए, अमेरिका के पड़ोसी देश कनाडा ने जापान और दक्षिण कोरिया सहित, अन्य नेट ज़ीरो के लिए प्रतिबद्ध प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं की बढ़ती संख्या में अपनी शुमार कर ली।

यह खबर आज सुबह तब आयी जब कनाडा की लिबरल सरकार ने एक नया कानून, बिल- C12: कनाडाई नेट-ज़ीरो उत्सर्जन जवाबदेही अधिनियम (कैनेडियन नेट ज़ीरो एमिशन्स एकाउंटेबिलिटी एक्ट), पेश किया, जो पारित होने पर, 2050 तक कनाडा को नेट-ज़ीरो कार्बन उत्सर्जन करने के लिए प्रतिबद्ध करेगा। कानून कनाडा को उत्सर्जन में कटौती के लिए राष्ट्रीय पंचवर्षीय अंतरिम लक्ष्यों को निर्धारित करने के लिए कानूनी ढांचा भी बनाता है, जिसमे 2030 के लिए पहला लक्ष्य निर्धारित किया गया है।

यह घटनाक्रम इस लिए भी महत्वपूर्ण है क्योंकि कनाडा के पड़ोसी अमेरिका में डोनाल्ड ट्रम्प ने जहाँ पेरिस समझौते से अमेरिका को बाहर कर दिया था, वहीँ अमेरिकी राष्ट्रपति इलेक्ट जो बिडेन ने वादा किया है कि अमेरिका 2050 तक नेट ज़ीरो हो जायेगा। साथ ही चीन ने 2060 तक कार्बन न्यूट्रल होने का वादा किया है।

अब हालाँकि कनाडा 2050 तक कार्बन न्यूट्रल होने का लक्ष्य रखकर एक नेतृत्व सा दिखा तो रहा है, लेकिन कनाडा का इतिहास रहा है लक्ष्य निर्धारित कर हासिल ना कर पाने का। 1990 के दशक की शुरुआत से, कनाडा ने अभी तक एक एकल निर्धारित उत्सर्जन कटौती लक्ष्य को पूरा नहीं किया है। पेरिस में COP21 में, कनाडा ने 2030 तक 2005 के स्तर से उत्सर्जन में 30 प्रतिशत की कटौती करने की प्रतिबद्धता जताई – पूर्व कंजरवेटिव सरकार द्वारा उसी वर्ष पहले निर्धारित किया गया लक्ष्य। 2019 के संघीय चुनाव में, लिबरल्स ने लक्ष्य को बढ़ाने का वादा किया, लेकिन कनाडा 2030 के लक्ष्य को 77 मिलियन टन से चूकने वाला है, जो के एक वर्ष में 16 मिलियन यात्री कारों से उत्सर्जन के बराबर होगा।

कनाडा के जलवायु विशेषज्ञों ने इस नए कानून का स्वागत किया, जिसमे पहली बार एक कनाडाई सरकार द्वारा उत्सर्जन में कटौती के लक्ष्यों को पूरा करने के लिए वर्तमान और भविष्य की सरकारों को जिम्मेदार ठहराने के लिए कदम उठाए गए हैं। लेकिन, कानून में कुछ प्रमुख तत्व गायब हैं जैसे यह सुनिश्चित करने के उपाय कि सरकार कई वर्षों के समय में कार्रवाई की आवश्यकता के बजाय महत्वाकांक्षी कार्रवाई पहले दिखाए। उदाहरण के लिए, कानून में 2025 के लिए लक्ष्य निर्धारित करने की आवश्यकता नहीं है। यह लक्ष्य प्राप्त करने के लिए कर्तव्य के बजाय कार्यों या प्रगति पर रिपोर्ट करने के लिए सरकार के कर्तव्य पर ज़्यादा ध्यान केंद्रित करता है।

पारित होने से पहले, कानून की हाउस ऑफ कॉमन्स में एक दूसरी रीडिंग होगी, फिर वो एक समिति के सामने पेश होगा, संभावना है कि यह पर्यावरण और स्थायी विकास पर स्थायी समिति (स्टैंडिंग कमिटी ऑन एनवायरोमेन्ट एंड सस्टेनेबल डेवलपमेंट) होगी, और फिर यह सीनेट जायेगा, और दोने में से किसी भी जगह पर इसे संशोधित किया जा सकता है। कनाडाई जलवायु विशेषज्ञ बिल में सुधार की मांग करेंगे, लेकिन पिछले पांच वर्षों में दुर्भाग्यपूर्ण प्रवृत्ति रही है कि विधायी प्रक्रिया के दौरान पर्यावरण बिल कमजोर हो जाते हैं। क्योंकि लिबरल सरकार वर्तमान में अल्पसंख्यक है, लिबरलों को सदन के माध्यम से कानून पारित करने के लिए कम से कम एक एनडीपी (NDP) या ब्लॉक के समर्थन की आवश्यकता होगी।

न्यूजीलैंड, डेनमार्क और यूनाइटेड किंगडम सहित अन्य देशों में कानून हैं जो अल्पकालिक और दीर्घकालिक (छोटे और लम्बे समय के) लक्ष्यों को बंधनकारक बनाते हैं। यूके के क्लाइमेट चेंज एक्ट ने दीर्घकालिक जलवायु लक्ष्य और पांच साल के अंतरिम लक्ष्यों को कानूनी रूप से बाध्यकारी बना दिया। यूनाइटेड किंगडम का उत्सर्जन 1990 के बाद से 45 प्रतिशत कम हो गया और 2008 में जलवायु परिवर्तन अधिनियम के पारित होने के बाद सबसे अधिक गिरावट आई, जबकि कनाडा का उत्सर्जन उसी अवधि में 21 प्रतिशत बढ़ गया।

कार्बन न्यूट्रलिटी के लिए लक्ष्य करना सही दिशा में एक कदम है और जी 7 और जी 20 दोनों में 2021 के लिए नेट-ज़ीरो एजेंडा के आसपास वैश्विक गति से मेल खता है, लेकिन जैसा कि अन्य देशों की कार्बन न्यूट्रलिटी प्रतिज्ञाओं के साथ है, कनाडा का इस लक्ष्य को प्राप्त कर पाना इस पर निर्भर करता है कि वह अपने 2030 उत्सर्जन लक्ष्य को बढ़ाए और अपने एनडीसी (NDC) को अपडेट करे। नया कानून कहता है कि अधिनियम लागू होने के छह महीने के भीतर एक नया 2030 लक्ष्य निर्धारित किया जाना चाहिए। क्षितिज पर पेरिस समझौते की वर्षगांठ के साथ, अगले कुछ हफ्तों के भीतर कनाडा को कई जलवायु घोषणाएं करने की उम्मीद है जिसमें लंबे समय से प्रतीक्षित नई जलवायु योजना, ग्रीन रिकवरी निवेश और संभावित रूप से, एक नया एनडीसी (NDC) विकसित करने पर एक अपडेट शामिल हैं।

पिछले पांच वर्षों में, लिबरल प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो के अधीन, कनाडा ने जलवायु पर एक मिश्रित रुख दिया है। हालाँकि प्रधान मंत्री ट्रूडो ने जलवायु कार्रवाई के महत्व के बारे में बार-बार बात की है, लेकिन उन्होंने अल्बर्टा आयल सेंड्स (तेल रेत) को भी चैंपियन किया है। (कनाडा में, 1990 और 2018 के बीच, तेल और गैस क्षेत्र कार्बन प्रदूषण का सबसे तेजी से बढ़ने वाला स्रोत था, जिसका मुख्य कारण कार्बन-सघन आयल सेंड्स (तेल रेत) उत्पादन में वृद्धि है। 2017 में, तेल और गैस देश के ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन के 27 प्रतिशत के लिए जिम्मेदार थे।)

• कोविड-19 आर्थिक सुधार प्रयासों के हिस्से के रूप में, कनाडा ने स्वच्छ ऊर्जा के लिए USD $ 7.95 मिलियन की तुलना में जीवाश्म ईंधन का समर्थन करने के लिए कम से कम $ 14.3 बिलियन अमरीकी डालर के लिए प्रतिबंधिता का वचन दिया है। कोविड-19 से पहले भी, सभी जी20 देशों में से कनाडा ने जीवाश्म ईंधन के लिए सार्वजनिक वित्त में प्रति जीडीपी (GDP) के आधार पर सबसे अधिक खर्च किया।

• राष्ट्रपति-इलेक्ट जो बिडेन के साथ अपने पहले आह्वान में प्रधान मंत्री ट्रूडो ने न केवल जलवायु परिवर्तन पर चर्चा की, उन्होंने कीस्टोन एक्सएल पाइपलाइन का मुद्दा भी उठाया, जो संयुक्त राज्य अमेरिका में क्रूड (कच्चे) आयल सेंड्स (तेल रेत) को ले जाएगा।

• 2018 में, जब किंडर मॉर्गन, ट्रांस माउंटेन पाइपलाइन के मालिकों ने पाइपलाइन मार्ग (टीएमएक्स/TMX परियोजना) का विस्तार करने की योजना को त्याग दिया, तो कनाडा सरकार ने इसे खरीदने के लिए $ 3.4 बिलियन अमरीकी डालर खर्च किए।

नया कानून 2050 तक नेट ज़ीरो उत्सर्जन प्राप्त करने के उपायों और क्षेत्रीय रणनीतियों सहित सलाह देने के लिए एक नेट ज़ीरो सलाहकार समूह के लिए योजना देता है। कनाडा के जलवायु विशेषज्ञ चाहते हैं कि सलाहकार समूह सर्वश्रेष्ठ वैज्ञानिक और तकनीकी दिमाग का प्रतिनिधित्व करें, जो के लक्ष्य, बजट और योजनाओं पर सलाह देंगे और साथ-साथ स्वतंत्र रूप से निगरानी रक्खें और प्रगति पर सरकार को रिपोर्ट करें।

कार्बन मूल्य निर्धारण लिबरल जलवायु कार्रवाई का एक महत्वपूर्ण स्तंभ रहा है। एक शेष बाधा यह है कि ओंटारियो, अल्बर्टा और सस्केचेव्न संघीय कार्बन मूल्य के लिए अदालत में चुनौतियों का अनुसरण कर रहे हैं, जो वर्तमान में $ 30 टन प्रति टन है और जिसके 2022 तक $ 50 टन प्रति टन तक बढ़ने की उम्मीद है। सुप्रीम कोर्ट की सुनवाई सितंबर में हुई और यह अज्ञात है कि प्रांतों के दावे, कि संघीय सरकार अपने अधिकार क्षेत्र से परे गया है, पर निर्णय कब आएगा।

क्लाइमेट एक्शन नेटवर्क कनाडा की कार्यकारी निदेशक, कैथरीन अब्रू ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा, “आज कनाडा ने खाली जलवायु लक्ष्यों को स्थापित करने और उन तक पहुंचाने में विफल रहने के अपने चक्र को तोड़ने में एक महत्वपूर्ण कदम उठाया। हालांकि, इस विधेयक को वास्तव में वर्तमान सरकारों के साथ-साथ भविष्य की सरकारों द्वारा हमारी जलवायु प्रतिबद्धताओं के लिए जवाबदेह बनाने के लिए विधायी प्रक्रिया के माध्यम से आगे बढ़ने के लिए बहुत सारे काम किए जाने हैं ताकि कनाडा कभी भी एक और जलवायु वादा नहीं तोड़े।”

Leave a Reply

%d bloggers like this: