क्या शिक्षक हार रहे हैं?