“गृहस्थ आश्रम सुख का धाम कब होता है?”