जिन पे तकिया था वही पत्ते हवा देने लगे