नतीजों से ध्वस्त सेकुलर राजनीति?