नमस्ते सदा वत्सले मातृभूमे ही जीवन का लक्ष्य रहा