प्रायोजित कृषि विनाश या प्राकृतिक आपदा ?