मजहब क्यों बने फिजूल का अड़ंगा?