मैं आज तेरा नाम लिख लूँ   

Posted On by & filed under कविता, साहित्‍य

  प्रेम के इक गीत पर मैं आज तेरा नाम लिख लूँ   पंछियों की चहक मीठी शहद जैसे मन में घोले कोकिला की मृदु कुहुक पर आज तेरा नाम लिख लूँ   रंग हर ऋतु का अलग है ढंग भी उसका नया है धूप के हर क़तरे पर मैं आज तेरा नाम लिख लूं… Read more »