मैं शायर तो नही

Posted On by & filed under कविता

शहर की और निकल पड़ा हूँ …..   मुझमें कोई खास बात नही है   मुझमे कोई अंदाज नही है   मैं एक अनजान हूँ अनपढ़ हूँ   नही आता शब्दों को सहेजना   फिर भी राही हूँ …   पगड़ी में चलना सिखा   शहर की गलियों से अनजान हूँ   गाँव की गलियों… Read more »