मॉल के पास तक ही रहता है संविधान का राज