शहज़ादा मुक्त कांग्रेस बनाकर दम लूंगा- शहज़ाद

Posted On by & filed under महत्वपूर्ण लेख, राजनीति, वीडियो

कांग्रेस के बाग़ी नेता शहज़ाद पूनावाला ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी पर अब तक का सबसे बड़ा हमला किया है। प्रवक्ता.कॉम को दिए गए इंटरव्यू में उन्होंने कहा कि जब तक मैं राहुल और परिवारवाद मुक्त कांग्रेस नहीं कर देता तब तक चैन से नहीं बैठूंगा।  इसके साथ ही उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी और संघ की… Read more »

देश बदलना है तो देना होगा युवाओं को सम्मान

Posted On by & filed under महत्वपूर्ण लेख, समाज

डॉ नीलम महेंद्र भारत एक युवा देश है। इतना ही नहीं , बल्कि युवाओं के मामले में हम विश्व में सबसे समृद्ध देश हैं। यानि दुनिया के किसी भी देश से ज्यादा युवा हमारे देश में हैं। भारत सरकार की यूथ इन इंडिया,2017 की रिपोर्ट के अनुसार देश में 1971 से 2011 के बीच युवाओं… Read more »

पहाड़ में विकास कार्य करने का तरीका बदलना होगा

Posted On by & filed under महत्वपूर्ण लेख, समाज

पंकज सिंह बिष्ट   उत्तराखंड में अलग राज्य बनने के पूर्व से ही विकास कार्य होते आ रहे हैं। किन्तु इतने समय के बाद भी ग्रामीण आजीविका एवं रोजगार की स्थिति में बहुत बढ़ा सुधार नहीं आया है। गौर किया जाय तो स्थिति पूर्व के मुकाबले बेहतर हुई ऐसा कहना खुद को झूठी तसल्ली देना… Read more »

डॉं आंबेडकर एवं कार्ल मार्क्स – वर्ण बनाम वर्ग

Posted On by & filed under महत्वपूर्ण लेख, समाज

संजीव खुदशाह वर्ग बनाम वर्ण की चर्चा इससे पहले भी होती रही है। लेकिन जब हम कार्ल मार्क्स के बरअक्स इस चर्चा को आगे बढ़ाते हैं, तो यहां पर वर्ग के मायने कुछ अलग हो जाते हैं। भारत में वर्ग के मायने होते हैं अमीर वर्ग और गरीब वर्ग। लेकिन कार्ल मार्क्स जिस वर्ग की… Read more »

आज न्यूनतम मजदूरी का कानून बनाने और उसका कड़ाई से पालन करने की जरूरत

Posted On by & filed under महत्वपूर्ण लेख

(अंतर्राष्ट्रीय मजदूर दिवस, 01 मई 2018 पर विशेष आलेख) ब्रह्मानंद राजपूत हर वर्ष अंतर्राष्ट्रीय मजदूर दिवस मई महीने की पहली तारीख को मनाया जाता है।अंतर्राष्ट्रीय मजदूर दिवस को मई दिवस भी कहकर बुलाया जाता है। अमेरिका में 1886 में जब मजदूर संगठनों द्वारा एक शिफ्ट में काम करने की अधिकतम सीमा 8 घंटे करने के… Read more »

उत्तर और दक्षिण कोरिया की दोस्ती के मायने

Posted On by & filed under महत्वपूर्ण लेख

प्रमोद भार्गव दशकों पुरानी दोस्ती को नजरअंदाज कर उत्तर और दक्षिण कोरिया के शासकों का सौहार्द्रपूर्ण मिलन एक ऐतिहासिक घटना है। दोनों देशों  के संधि-स्थल, यानी असैन्य क्षेत्र में उत्तर कोरिया के तनाशाह किम जोंग उन और दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जेई इन के बीच यह मुलाकात 65 साल बाद हुई है। 1950 से… Read more »

 तीसरे विश्वयुद्ध की ओर दुनिया

Posted On by & filed under महत्वपूर्ण लेख

तीसरे विश्वयुद्ध की ओर दुनिया प्रमोद भार्गव अमेरिकी राष्ट्रपति  डोनाल्ड ट्रंप की घोषणा  के मुताबिक अमेरिका ने अपने मित्र देश  ब्रिटेन और फ्रांस के साथ मिलकर सीरिया पर मिसाइल हमला बोल दिया। सीरिया में मौजूद रासायनिक हथियारों के भंडारों को नष्ट करने के मकसद से 105 मिसाइलें दागी गईं। अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस की ये… Read more »

डार्विन का सिद्धांत और दशावतारों की अवधारणा

Posted On by & filed under कला-संस्कृति, महत्वपूर्ण लेख, समाज

संदर्भः केंद्रीय मानव संसाधन राज्य मंत्री सत्यपाल सिंह का डार्विन के सिद्धांत पर दिया बयान- प्रमोद भार्गव दुनिया बदल रही है और बदलती दुनिया में अपने आप को बनाए रखने के लिए परिवर्तन आवश्यक है। दुनिया के इस बदलते स्वभाव की विडंबना है कि दुनिया तो स्थिर है, किंतु परिवर्तन अस्थाई हैं। इसी परिवर्तनशील आचरण… Read more »

 शब्दों में छिपा हमारा सांस्कृतिक इतिहास

Posted On by & filed under महत्वपूर्ण लेख

डॉ. मधुसूदन (एक) शब्दों में इतिहास की खोज: सोचा न था, ऐसा छिपा हुआ सांस्कृतिक इतिहास इन शब्दों के पीछे होगा. जिसे पाकर मैं स्वयं हर्षित ही नहीं चकित भी हूँ; और धन्यता अनुभव कर रहा हूँ. इतिहास उजागर करने के लिए जैसे भूमि का खनन कर अवशेष ढूँढे जाते हैं. और उन अवशेषों के… Read more »

हिन्द-प्रंशात क्षेत्र में भारत की भूमिका

Posted On by & filed under महत्वपूर्ण लेख, विविधा

दुलीचन्द रमन समय बदलता है तो परिवर्तन हर जगह दिखाई देता है। अंतराष्ट्रीय संबंध भी इससे अछूते नही है। कभी विश्व स्तर पर अमेरिका और सोवियत संघ के रूप में शक्ति के दो केन्द्र थे। बाकी के देशों ने अपनी सुविधानुसार अपने-अपने पाले चुन लिये थे। संघर्ष का केन्द्र भी अमूमन यूरोप ही था। नाटो… Read more »