डरानेवाले और डरने वाले!

Posted On by & filed under परिचर्चा

-फखरे आलम- मोदी से डराने वाले और मोदी से डरने वाले, दोनों ही हार गये। मोदी के खिलापफ जितना दुस्त प्रचार किया गया, मोदी उतनी ही तेजी से दिल्ली की सत्ता के करीब जाते गये और 2014 का चुनाव परिणाम अकेली ही भाजपा को सरकार बनाने का मौका दे डाला। भाजपा और एनडीए को प्राप्त… Read more »

विकास के एजेंडे पर हुयी मोदी की जीत का स्वागत करता हूं

Posted On by & filed under परिचर्चा

-इक़बाल हिंदुस्तानी- -चुनाव अनुमान गलत होने का मतलब सोच गलत होना नहीं है!- चुनाव नतीजे आने से पहले मैंने अपने आकलन के आधार पर एक लेख लिखा था जिसमें मेरा अनुमान था कि शायद बंगाल और तमिलनाडु की तरह यूपी और बिहार में भी क्षेत्रीय दल एनडीए और विशेष रूप से भाजपा की सीटें एक… Read more »