लालरंग में दबा आम जनमानस का साहित्य