शुद्ध आचरण के बिना अर्थहीन