समाज और धर्म की समापन किस्त