हर वक्त तो हाथ में गुलाब नहीं होता