हादसे-मुआवज़े-आरोप-प्रत्यारोप और मानव जीवन