2 अक्टूबर

2 अक्टूबर : अंतरराष्ट्रीय अहिंसा दिवस

यदि किसी ‘विशुद्ध मानव’ जो सब नैसर्गिक मानवीय गुणों से परिपूर्ण हो, इसकी मूर्त कल्पना करनी हो तो ‘राम’, ‘कृष्ण’, ‘बुद्ध’ के अवतार के बाद गाँधीजी का व्यक्तित्व उभरकर आता है। गाँधीजी से बढ़कर मानव पूजक दिखलाई देना आसान नहीं है।