शहंशाह-ए-गजल का यूँ जाना..

Posted On by & filed under शख्सियत

 सिद्धार्थ शंकर गौतम शहंशाह-ए-गजल मेहदी हसन का खामोशी से यूँ गुजर जाना दुनिया भर में मौजूद उनके प्रशंसकों को द्रवित कर गया| अबके बिछड़े तो ख्वाबों में मिलेंगे- क्या खूब कहा था हसन ने, मानो उन्हें एहसास हो चला था कि उनके दुनिया से रुखसत होने के बाद भी उनके चाहने वालों के ख़्वाबों में… Read more »