लेखक परिचय

जावेद उस्मानी

जावेद उस्मानी

कवि, गज़लकार, स्वतंत्र लेखक, टिप्पणीकार संपर्क : 9406085959

Posted On by &filed under कविता.


-जावेद उस्मानी-

कैसी पलटी है समय की धार।
हमसे रूठी हमारी ही सरकार।
उतर चुका सब चुनावी बुखार।
नहीं अब कोई जन सरोकार।
अनसुनी है अब सबकी पुकार।
बहरा हो गया हमारा करतार।
दमक रहा है बस शाही दरबार।
झोपड़ों में पसरा और अंधकार।
सुन लो अब भी एक अर्ज़ हमार।
आपकी पालकी के हमीं कहार।
जब फिर नाव पहुंचेगी मंझधार।
तब कौन बनेगा फिर तारणहार।

No Responses to “कैसी पलटी है समय की धार”

  1. Nem Singh

    Nice poem,
    Samay ki darkinar hai,
    har koi yhan palan har hai,
    lekin palna hi nahi!

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *