फांसी चढ़ा दो मंदसौर के दरिंदों को

आर के रस्तोगी  

फांसी पर चढ़ा दो,रेप करने वाले मंदसौर के दरिंदो को
पृथ्वी पर भार बने है,जीने का हक़ नहीं इन दरिंदो को

कैंडिल मार्च से कुछ नही होगा,पकड़ लो इन दरिंदो को
चौपले पर गोली मारो,खत्म करो अब तुम इन दरिंदो को

न्याय मिलेगा,कब मिलेगा,न्याय नहीं अब जल्द मिलता है
इस प्रकार के केसों में,दस दस साल मुकदमा चलता रहता हे

मंदसौर की पहली नही घटना,रोजाना बलात्कार यहाँ होते है 
कब तक चुचाप बैठे रहेगे,मीडिया वाले भी चुप चाप होते है

शोर मचाने से कुछ नहीं होगा,जनता को अब आगे आना होगा
न्याय प्रक्रिया सुस्त पड़ी है,जनता को फैसला अब करना होगा

कुछ नेता शोर मचाते है,पर ये राजनीति की रोटी सेकते है
हिन्दू मुस्लिम का रंग देकर,ये अपना उल्लू सीधा करते है

पूछ रहा हूँ उन नेताओ से,जो कठुआ रेप पर शोर मचाते थे
मंदसोर रेप क्यों भूल गये,क्या वहा के केस तुम्हे सताते थे

कह रस्तोगी कविराय,ऐसे दरिंदो को फांसी चढ़ाओ अब तुम
अगर शासन फेल हो जाये,इस शासन को हाथ में लेलो तुम

प्रश्न नहीं है ये किसकी बेटी,ये पूरे देश की ही बेटी है
न्याय मिले इस बेटी को, ये भारत माँ की अब बेटी है

क्या समझेगे इस दर्द बेटी का,जिन नेताओ के बेटी नहीं
कुँवारे घुमते फिरते है,उनको बेटियों से कोई मतलब नही

Leave a Reply

%d bloggers like this: