लेखक परिचय

प्रवक्ता.कॉम ब्यूरो

प्रवक्ता.कॉम ब्यूरो

Posted On by &filed under व्यंग्य.


चित्रगुप्त, कर्मो का लेखा-जोखा करने बैठे ही थे,कि एक युवक सलाम ठोकता हुआ आ खड़ा हुआ ।

इतनी सुबह-सुबह कौन हो भार्इ? प्रश्न अभी हवा में ही था कि यमराज भी आसंदी पर विराजमान हो गये! चित्रगुप्त! कौन है यह प्राणी?इस समय तो किसी आत्मा का आगमन होना नहीं था।

जनाब मैं कसाब! अजमल आमिर कसाब।

यमराज- कसाब! तुम्हारी वेटिंग तो अभी लम्बी थी। बिरयानी के चावल खत्म हो गये क्या। राजीव के हत्यारे,बेअंत का हत्यारा,अफजल गुरू और भी बहुत लोग थे,तुम लाइन तोड़ कर कैसे चले आये?जानते नहीं हिन्दुस्तान में लाइन तोड़ने का हक सिर्फ वी.आय.पीस को है।

करोड़ो का सुरक्षा-खर्च,और स्पेशल बिरयानी विथ मुर्ग-मुस्सलम,आपको क्या लगता है, मैं कोर्इ आम आदमी हुं? वो तो बुरा हो 32रु. रोज कमाने वाले अमीर आदमी का छ: सिलेडंरो की सब्सीडी क्या खत्म हुर्इ नजर लगा दी मेरी जिन्दगी को। तीन साल में तीस बार पेट्रोल के दाम खुद ने बढ़ाए और लाइन तोड़ने पर मुझे मजबूर कर दिया। आप नाराज न हो जनाब मैं तो बेचारा कुर्बानी का बकरा हुं, नहीं तो इतनों को ओवर टेक करके थोड़े ही चला आता।

यमराज- क्या बकवास करते हो कुर्बान हुये होंगे तुम अपने मुल्क के लिये,हिन्दुस्तान के लिये सिर्फ एक अपराधी हो।

कसाब-मैने कब कहा जनाब कि मैं हिन्दुस्तान के लिये कुर्बान हुआ हुं,मैं तो उसकी सरकार के लियें….माफ कीजिये मेरी तो जबरजस्ती कुर्बानी दी गर्इ हैं।

यमराज-जबरजस्ती !

 

कसाब-और क्या, उधर ममता अविश्वास का बम फोड़ती इसके पहले इन्होंने मेरी फांसी की फुलझडि़यां छोड़ दी। वो बात अलग है कि इधर इनके हाथ से अमोघ अस्त्र फिसल गया और उधर ममता का बम फुस्सी निकल गया। न गुजरात के चाद को ग्रहण लगा,न मध्यावधि चुनाव हुये । मुर्गे का जान भी गर्इ और र्इद भी नहीं मनी ।

यमराज- चलो छोड़ो अब आ ही गये हो तो तुम्हारा फैसला तो करना ही पड़ेगा। आखिर इच्छा विच्छा तो पूरी करा के आये हो ना!

कसाब-सच बताउं जनाब मेरा अपना मुल्क भी मेरी इतनी इच्छायें पूरी नहीं करता जितनी हिन्दुस्तानी सरकार ने की है।

यमराज-इतने बेगुनाहों की जान लेने के कारण तुम्हे तो नरक में ही जाना पड़ेगा। परन्तु पाकिस्तानी यमलोक से आर्इ अर्जी में तुम्हारे लिये स्वर्ग की सिफारिश की गर्इ है। क्या कहते हो चित्रगुप्त?

चित्रगुप्त कुछ कहते उसके पहले ही कसाब बोल पड़ा:- मेरे यहां की जन्नत से तो आपके यहां का दोजख ही अच्छा होगा, मुझे अपने दोजख में ही जगह दे दीजिये जनाब।

डा.साधना बलवटे

 

One Response to “यमराज-कसाब संवाद”

  1. शिवेंद्र मोहन सिंह

    हा हा हा … बहुत सुंदर व्यंग, सुंदर प्रस्तुति… सादर

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *