लेखक परिचय

तारकेश कुमार ओझा

तारकेश कुमार ओझा

पश्चिम बंगाल के वरिष्ठ हिंदी पत्रकारों में तारकेश कुमार ओझा का जन्म 25.09.1968 को उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ जिले में हुआ था। हालांकि पहले नाना और बाद में पिता की रेलवे की नौकरी के सिलसिले में शुरू से वे पश्चिम बंगाल के खड़गपुर शहर मे स्थायी रूप से बसे रहे। साप्ताहिक संडे मेल समेत अन्य समाचार पत्रों में शौकिया लेखन के बाद 1995 में उन्होंने दैनिक विश्वमित्र से पेशेवर पत्रकारिता की शुरूआत की। कोलकाता से प्रकाशित सांध्य हिंदी दैनिक महानगर तथा जमशदेपुर से प्रकाशित चमकता अाईना व प्रभात खबर को अपनी सेवाएं देने के बाद ओझा पिछले 9 सालों से दैनिक जागरण में उप संपादक के तौर पर कार्य कर रहे हैं।

Posted On by &filed under खेल जगत.


तारकेश कुमार ओझा

newcबड़ा होकर तुम क्या बनोगे… जैसे सवाल जैसे हमारे लिए बने ही नहीं थे। क्योंकि हम अपने पैरेंटस के लिए लायबलिटीज या थोड़ा शालीन शब्दों में कहें तो हेल्पिंग हैंडस जैसे थे। स्कूल में पढ़ने के दिनों से हमें माता – पिता का सहारा बनने की सलाह लोगों से बिना मांगे मुफ्त में मिलती थी. कारोबार में मजा – नौकरी में सजा का मूलमंत्र देते हुए स्व. पिताजी बचपन से ही हमें उदाहरण देकर बताते थे कि किस तरह मोहल्ले के ननकू चाचा ने नमक और पुत्तन मामा ने परचून की छोटी सी दुकान के सहारे तीन बहनों और चार बेटियों को पार( शादी) किया। तब हम जैसे अभागे कैरियर नाम की चिड़िया को जानते तक नहीं थे। किशोरावस्था से ही हम जाड़े के दिनों में कुछ संभ्रांत घर के लड़कों को सादे लिबास में मैदान में क्रिकेट खेलते देखा करता था, लेकिन तब हमें यह बड़े घर के लोगों का चोंचला नजर आता था। तिस पर कोढ़ में खाज की तरह जिस उम्र में लड़कों को बीड़ी -सिगरेट की लत लगती है, हमें लेखन की बुरी लत गई। थोड़ी सफलता मिलने पर यह हमारे लिए शौक से बढ़ कर नशा बन गया। अपन जिस सोसाइटी को बिलांग करते हैं, वहां खाकी देखते ही लोगों की कंपकपी छूटने लगती थी। हमें लगा कि यदि हम किसी ऐसे पेशे को अपना लें,. जिसके जरिए अपनी पुलिस वालों से गलबहियां यारी हो जाए, तो इससे अच्छी बात और क्या हो सकती है। बस फिर क्या था, नशा से पेशा बना लेखन मजबूरी में तब्दील हो गया। कुढ़ते हुए जीवन व्यतीत होने लगा।

इस बीच एक संतान को हमने इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने की अनुमित यह सोचकर दे दी कि अपनी जिंदगी तो बर्बाद हो गई, भावी पीढ़ी यदि गलती सुधार ले, तो अच्छा रहेगा। लेकिन भारी कर्ज के दलदल में फंस कर अब हालत न निगलते बने, न उगलते वाली हो गई है। जेब से कड़का और अनुभव की पूंजी की गठरी सिर पर ढोते हुए अब मैं भावी पीढ़ी को यही मूलमंत्र देना चाहता हूं कि वह बड़ा होकर वह डाक्टर, इंजीनियर, साहित्यकार, कवि , लेखक, सैनिक , वैज्ञानिक व कलाकार आदि कुछ भी बनने की न सोचें…. बनें तो बस किक्रेटर बनें। हमसे तो बचपन में किसी ने बड़ा होकर क्या बनोगे जैसा सवाल पूछा नहीं। लेकिन हम हर किसी से यह सवाल करेंगे। जिस तरह हमें बचपन में मुफ्त की सलाह दी जाती थी। अब हम भावी पीढ़ी को उसी तर्ज पर सलाह देते रहेंगे, कि बनें तो बस किक्रेटर बनें. दूसरी प्राथमिकता नेतागिरी या अभिनेतागिरी को दें। कैसी नासमझी है कि जिस देश की धरती पर सचिन तेंदुलकर , अमिताभ बच्चन, सलमान खान, शाहरुख खान व आमिर खान जैसी विभूति जन्म लेते हैं, वहां लोग महंगाई, गरीबी , बेरोजगारी , आतंकवाद, नक्सलवाद व वगैरह – वगैरह का रोना रोते हैं। सचमुच इस देश का भगवान ही मालिक है….

Leave a Reply

1 Comment on "…बनना तो बस किक्रेटर बनना!!"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
Ravi Pratap Narain Singh
Guest
Ravi Pratap Narain Singh

बिलकुल सटीक एवं तथ्यपरक कटाक्ष है उन लोगों पर जो मनोरंजन करने वाले अरबपतियों को पूजकर मानसिक गुलामी का परिचय देते हैं. यदि ऐसे ही चलता रहा तो मानवता की सेवा करने वाले महानुभावों के योगदान का कोई मूल्य नहीं रह जाएगा.

wpDiscuz