लेखक परिचय

डा.राज सक्सेना

डा.राज सक्सेना

स्वतंत्र वेब लेखक व ब्लॉगर

Posted On by &filed under कविता.


old manडा.राज सक्सेना
अभिशाप बुढापा कभी न था,यह तो गरिमा का पोषक है |
आनन्द इसी में जीने का,यह शिखर  रूप  का द्योतक है |
           क्यों रखें अपेक्षा औरों से,
           अब तक भी तो हम जीते थे |
           हम कुंआ खोदते थे अपना,
           तब उसका पानी पीते थे |
खर्चों को करके अल्प सभी,  जीवन   जीना   सम्मोहक है |
आनन्द इसी में जीने का,यह शिखर  रूप  का द्योतक है |
           अब तक देते थे हम सबको,
           क्यों हाथ पसारें हम अपना |
           क्यों हम सोचें सब ध्यान रखें,
           है समय आज किस पर इतना |
सोचो समाज को क्या दें हम,बस यह विचार उन्मोदक है |
आनन्द इसी में जीने का,यह शिखर  रूप  का द्योतक है |
           ये सब स्तर में छोटे हैं,
           हम क्यों मांगे अब इनसे कुछ |
           हम ने पाला और बड़ा किया,
           इनको दे डाला है सब कुछ |
हम दाता, ये अब भी याचक,  यह भाव रखो,मनमोहक है |
आनन्द इसी में जीने का,यह शिखर  रूप  का द्योतक है |
           वटवृक्ष  रहे हम जीवन- भर,
            अब  कैसे  उजड़े नीड़  बनें |
            जो सम्भव था वह् दान दिया,
            अब अंत समय क्यों दीन बनें |
हम दानवीर रह, जग त्यागें, यह सोच  सदा उदबोधक है |
आनन्द इसी में जीने का,यह शिखर  रूप  का द्योतक है |

Leave a Reply

4 Comments on "मनमोहक है"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
डा. के. वी. नरसिंह राव
Guest
डा. के. वी. नरसिंह राव

प्रेम और स्नेह को तो दिया ही जा सकता है । आयु जो अनायास अपने आप बढ़ती है, वरिष्ठ नागरिक बनने पर तो दायित्व को और बढ़ाती है । इस मुकाम पर पहुँचने के बाद हम अपने परिवार, समाज और देश के लिए कितने अधिक उपयोगी हो सकते हैं, इसी बात पर शेष जीवन की सार्थकता निर्भर है । सुंदर कविता के लिए बधाई ।

डा.राज सक्सेना
Guest

आपकी कृपापूर्ण अभिव्यक्ति के लिए धन्यवाद| आशा है स्नेह बनाए रखेंगे |

mahendra gupta
Guest

जीने के लिए हर आयु का एक अपना आर प्रस्तुति.आनंद है, जरूरत है बदलते समय के साथ उसे जीने की. सुन्दर प्रस्तुति.

डा.राज सक्सेना
Guest

आपके उत्साहवर्धन के प्रति आभार | कृ.स्नेह बनाए रखें |

wpDiscuz