लेखक परिचय

डॉ. वेदप्रताप वैदिक

डॉ. वेदप्रताप वैदिक

‘नेटजाल.कॉम‘ के संपादकीय निदेशक, लगभग दर्जनभर प्रमुख अखबारों के लिए नियमित स्तंभ-लेखन तथा भारतीय विदेश नीति परिषद के अध्यक्ष।

अदालतों से अंग्रेजी को भगाओ

Posted On & filed under विधि-कानून, विविधा.

कानून और न्याय की संसदीय कमेटी ने बड़ी हिम्मत का काम किया है। उसने अपनी रपट में सरकार से अनुरोध किया है कि वह सर्वोच्च और उच्च न्यायालयों में भारतीय भाषाओं के प्रयोग को शुरु करवाए। उसने यह भी कहा है कि इसके लिए उसे सर्वोच्च न्यायालय की अनुमति या सहमति की जरुरत नहीं है,… Read more »

मांसाहारी भारत?

Posted On & filed under विविधा.

दुनिया में सबसे ज्यादा शाकाहारी किस देश में रहते हैं? जाहिर है कि भारत में रहते हैं। दुनिया का कोई देश ऐसा नहीं हैं, जिसके लाखों-करोड़ों नागरिकों ने अपने जीवन में मांस, मछली, अंडा जैसी कोई चीज़ कभी खाई ही नहीं। दुनिया का ऐसा कौन सा देश है, जिसमें इन पदार्थों को ‘अखाद्य’ (न खाने… Read more »



शादी को तमाशा न बनाएं!

Posted On & filed under विधि-कानून, समाज.

कांग्रेस की सांसद श्रीमती रंजीत रंजन एक ऐसा विधेयक पेश कर रही हैं, जो अगर कानून बन गया तो सारे देश का बड़ा लाभ होगा। यह ऐसा कानून बनेगा, जिससे सभी जातियों, सभी मजहबों और सभी प्रांतों के लोगों को लाभ मिलेगा। यह विधेयक शादी में होने वाले अनाप-शनाप खर्चे पर रोक लगाने की मांग… Read more »

ट्रंप के पहले ग्रास में मक्खी!

Posted On & filed under विश्ववार्ता.

अपने यहां संस्कृत में कहा जाता है- ‘प्रथमाग्रासे मक्षिकापातः’ याने पहले ग्रास में ही मक्खी गिर गई। यही हुआ डोनाल्ड ट्रंप के राष्ट्रपति बनने पर। अभी अमेरिका का राष्ट्रपति बने, ट्रंप को एक महिना भी नहीं हुआ कि उनके राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार को इस्तीफा देना पड़ गया है। इसके पहले भी उनके कुछ छोटे-मोटे अफसरों… Read more »

हिंदुत्व की नई परिभाषा में है सच्चा राष्ट्रवाद

Posted On & filed under समाज.

डॉ. वेदप्रताप वैदिक राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सर संघचालक मोहन भागवत ने मध्यप्रदेश यात्रा के दौरान ऐसा बयान दे दिया है, जो हिंदुत्व शब्द की परिभाषा ही बदल सकता है। अभी तक भारत में हिंदू किसे कहा जाता है और अहिंदू किसे? पहले अहिंदू को जानें। जो धर्म भारत के बाहर पैदा हुए, वे अहिंदू… Read more »

जस्टिस कर्णन लड़ें जरुर लेकिन….

Posted On & filed under विधि-कानून, विविधा.

डॉ. वेदप्रताप वैदिक कोलकाता उच्च न्यायालय के चर्चित जज सी.एस. कर्णन ने अब एक नए विवाद को जन्म दे दिया है। वैसे भी जब वे मद्रास उच्च न्यायालय में थे, तब भी उन्होंने अपनी साथी जजों के विरुद्ध आदेश जारी कर दिए थे। उन्हें सबसे बड़ी शिकायत यह है कि मद्रास हाईकोर्ट के कई जज… Read more »

ब्रिटेन में अंग्रेजी का विरोध

Posted On & filed under विश्ववार्ता.

डॉ. वेदप्रताप वैदिक यह अपने आप में बड़ी खबर है कि ब्रिटेन के वैज्ञानिक अंग्रेजी के एकाधिकार के विरुद्ध आवाज उठा रहे हैं। युआन गोंजालीज़, विलियम सदरलैंड और तात्सुआ अमानो नामक वैज्ञानिकों ने एक विज्ञान-पत्रिका में लेख लिखकर इस बात पर नाराजी जाहिर की है कि आजकल विज्ञान संबंधी ज्यादातर शोधकार्य अंग्रेजी में होता है।… Read more »

मोहन भागवत का हिंदुत्व

Posted On & filed under विविधा.

डॉ. वेदप्रताप वैदिक राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के मुखिया श्री मोहन भागवत ने अपनी मप्र यात्रा के दौरान ऐसा बयान दे दिया है, जिसे लेकर देश में जोरदार विवाद छिड़ जाए तो मुझसे ज्यादा प्रसन्न कौन होगा? मैंने लगभग दस साल पहले छपी मेरी पुस्तक, ‘भाजपा, हिंदुत्व और मुसलमान’ में इसी प्रश्न को उठाया था। मूल… Read more »

ईरान पर ट्रंप का बरस पड़ना

Posted On & filed under विश्ववार्ता.

डा. वेद प्रताप वैदिक डोनाल्ड ट्रंप के राष्ट्रपति बनते ही अमेरिका और ईरान में फिर से तनाव बढ़ गया है। ट्रंप प्रशासन ने ईरान पर कुछ नए प्रतिबंध लगा दिए हैं, क्योंकि ईरान ने एक प्रक्षेपास्त्र-परीक्षण कर लिया है। ईरान का कहना है कि इस परीक्षण से उसने किसी भी संधि का उल्लंघन नहीं किया… Read more »

आर्यसमाज जगे तो देश उठे

Posted On & filed under राजनीति.

पिछले दो दिन मैंने हैदराबाद में बिताए। मैं सोचता रहा कि निजाम के विरुद्ध आर्यसमाज ने जबर्दस्त आंदोलन न छेड़ा होता तो क्या आज हैदराबाद भारत का हिस्सा होता? हैदराबाद तो क्या, भारत की आजादी और एकता में जो योगदान महर्षि दयानंद और आर्यसमाज का था, उसके आगे सिर्फ गांधी ही टिक सकती है। कांग्रेस… Read more »