लेखक परिचय

पंडित दयानंद शास्त्री

पंडित दयानंद शास्त्री

ज्योतिष-वास्तु सलाहकार, राष्ट्रीय महासचिव-भगवान परशुराम राष्ट्रीय पंडित परिषद्, मोब. 09669290067 मध्य प्रदेश

क्या आप जानते हैं इन अंधविश्वासों के वैज्ञानिक कारण—-

Posted On & filed under समाज.

प्रिय पाठकों,हमारे पूर्वजो द्वारा बनाए गए इन रिवाजों पीछे विज्ञान काम करता है। जी हां हर अंधविश्वास के पीछे छुपा है एक वैज्ञानिक तथ्य। आएये जानते है | हमारे देश भारत में अधंविश्वास से जुड़ी बातों को सबसे अधिक महत्व दिया जाता है आज के समय में भी लोग अंधविश्वासों को मानने में पीछे नहीं… Read more »

जानिए शनि प्रदोष 19  अगस्त 2017 का महत्व ?? 

Posted On & filed under कला-संस्कृति, धर्म-अध्यात्म.

जानिए कैसे करें शनि प्रदोष का व्रत और शनि प्रदोष पर क्या करें उपाय ?? हमारे सनातन हिंदू पंचांग के अनुसार प्रत्येक मास में कोई न कोई व्रत, त्यौहार अवश्य पड़ता है। दिनों के अनुसार देवताओं की पूजा होती है तो तिथियों के अनुसार भी व्रत उपवास रखे जाते हैं। हमारे सनातन हिन्दू धर्म में… Read more »



जानिए क्यों हैं महाकाल..कालों के काल..

Posted On & filed under धर्म-अध्यात्म.

धन्य-धन्य श्री महाकाल….. सनातन संस्कृति से ओत प्रोत हमारे देश भारत में भगाण शिव के 12 प्रमुख ज्योतिर्लिंग है जिसमे से एक उज्जैन के महाकाल भी है। महाकाल के दर्शन मात्र से ही बिगड़े काम बन जाते है, जो भी महाकाल के दर्शन करता है और श्रद्धा से महाकाल बाबा के सम्मुख अपना मस्तक झुकाता… Read more »

पर्युषण पर्व 2017 

Posted On & filed under कला-संस्कृति, धर्म-अध्यात्म.

जैन धर्म में सभी पर्वों का राजा है “पर्युषण पर्व”—   प्रिय पाठकों/मित्रों, पर्यूषण पर्व जैन धर्म का मुख्य पर्व है। श्वेतांबर इस पर्व को 8 दिन और दिगंबर संप्रदाय के जैन अनुयायी इसे दस दिन तक मनाते हैं। इस पर्व में जातक विभिन्न आसन, प्राणायाम, प्रत्याहार, धारणा, ध्यान और समाधि योग जैसी साधना तप-जप… Read more »

रक्षा बन्धन 2017

Posted On & filed under कला-संस्कृति, ज्योतिष, धर्म-अध्यात्म.

12साल बाद ऐसा संयोग बना है जब राखी के दिन ग्रहण लग रहा है। इसलिए इस बार राखी के दिन सूतक का भी लगेगा || पूर्णिमा तिथि का प्रारम्भ 6 अगस्त 2017 को रात्रि10:28 बजे से आरंभ होगा परन्तु भद्रा काल व्याप्त रहेगी। भद्रा रहेगी—– आखिर भद्रा में क्यों नहीं बांधी जाती राखी? पंडित दयानन्द… Read more »

जानिए महालय (पितृ पक्ष (श्राद्ध पक्ष) 5 सितंबर (मंगलवार) से 19 सितंबर (मंगलवार) 2017 को कब और कैसे मनाएं–

Posted On & filed under धर्म-अध्यात्म.

जानिए पितृ पक्ष (श्राद्ध पक्ष) में पितरों की प्रसन्नता प्राप्ति हेतु किये जाने वाले उपायों को — प्रिय पाठकों/मित्रों, हमारी सनातन संस्कृति विश्व की सबसे प्राचीन संस्कृति है।जिसमें तीज-त्योहार,पूजा-विधान,रस्मों का विशेष महत्व है।हिन्दू धर्म की व्यापकता का विश्व में कोई सानी नहीं हैं।हिन्दू संस्कृति अद्भूत है,अतुल्यनिय है।मित्रों हमारे धर्म में पितरों को भी आदर सम्मान… Read more »

श्री कृष्ण जन्माष्टमी 15  अगस्त 2017 को कैसे मनाएं ?

Posted On & filed under कला-संस्कृति, धर्म-अध्यात्म.

जन्माष्टमी अर्थात कृष्ण जन्मोत्सव इस वर्ष जन्माष्टमी का त्यौहार 14/15 अगस्त 2017 को मनाया जाएगा. जन्माष्टमी जिसके आगमन से पहले ही उसकी तैयारियां जोर शोर से आरंभ हो जाती है पूरे भारत वर्ष में इस त्यौहार का उत्साह देखने योग्य होता है. चारों का वातावरण भगवान श्री कृष्ण के रंग में डूबा हुआ होता है…. Read more »

जानिए कुछ विशेष जानकारियां इन नागपंचमी (27 /28  जुलाई 2017 ) पर–

Posted On & filed under धर्म-अध्यात्म.

नाग पंचमी का त्यौहार श्रावण मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी को मनाया जाता है। ज्योतिष के अनुसार पंचमी तिथि के स्वामी नाग हैं। इस दिन नागों की पूजा प्रधान रूप से की जाती है। शास्त्रों के अनुसार पंचमी तिथि के स्वामी नाग देवता है. श्रवण मास में नाग पंचमी होने के कारण इस मास… Read more »

जानिए भगवान् शिव को श्रावण की शिवरात्रि विशेष प्रिय क्यों है?

Posted On & filed under कला-संस्कृति, धर्म-अध्यात्म.

यूं तो सनातन धर्म में सृष्टि संहार के स्वामी श्रीरूद्र की उपासना के लिए श्रावण माह को सर्वाधिक पुण्य फलदाई माना गया है | पूरे साल सोमवार के दिन महादेव को प्रसन्न करने के लिए विशेष रूप से उनकी पूजा-अर्चना की जाती है और शिवलिंग पर जलाभिषेक किया जाता है, लेकिन महाशिवरात्रि और श्रावण शिवरात्रि… Read more »

जानिए क्यों और कैसे हैं “फेंगशुई” एक अदृश्य  हथियार हम भारतीयों के लिए–

Posted On & filed under विविधा.

चीन के अदृश्य हथियार – एक धधकता सत्य प्रिय पाठकों/मित्रों, एक विनम्र प्रयास…सभी भारतीय/इंडियंस की आखें खोलकर सोचने को मजबूर करता यह आलेख—   गुलामों की तरह जीने वाले उन सभी भारतीय/इंडियंस के लिए जो आयातित मानसिकता के लोग उन सभी को एक विशाल या  बड़े मार्केटिंग षड्यंत्र की ओर ध्यान आकर्षित करने के लिए… Read more »