सतर्क रहें बर्ड फ्लू फिर लौट आया है भारत

Posted On by & filed under जन-जागरण, विविधा, स्‍वास्‍थ्‍य-योग

मनुष्यों में बर्ड फ्लू के सामान्य लक्षणों में बुखार आना, हमेशा कफ बना रहना, नाक बहना, सिर में दर्द रहना, दस्त होना, जी मिचलाना, गले में सूजन, मांसपेशियों में दर्द, आंख में कंजंक्टिवाइटिस, पेट के निचले हिस्से में दर्द रहना, सांस लेने में तकलीफ होना, सांस ना आना और निमोनिया होना प्रमुख हैं। बर्ड फ्लू के इलाज के लिए एंटीवायरल दवाओं का उपयोग किया जाता है। इस बीमारी में पूरी तरह आराम करना बहुत आवश्यक होता है।

दीवाली उपहार है हिंदुत्व की परिभाषा की पुनर्स्थापना

Posted On by & filed under कला-संस्कृति, जन-जागरण, धर्म-अध्यात्म, पर्व - त्यौहार

हिन्दुस्थानियों के एक बड़े व महान पर्व दीवाली के एन पूर्व पिछले सप्ताह एक हलचल कारी घटना हुई , जिसनें हिन्दुओं की दीवाली पूर्व ही दीवाली मनवा दी हुआ यह कि देश केउच्चतम न्यायालय ने यह जांच प्रारम्भ की कि हिंदुत्व भारतीय जीवन शैली का हिस्सा है या फिर धर्म है. तीस्ता सीतलवाड़ द्वारा दायर… Read more »

कैसे बढ़ेंगी पुलिस-पब्लिक की नजदीकियां

Posted On by & filed under जन-जागरण, विविधा

दिल्ली और मुंबई पुलिस ने कुछ बहुत अच्छे प्रयोग किए हैं। जाहिर तौर पर महानगरों की पुलिस ज्यादा संसाधनों से लैस है लेकिन राज्यों में वे प्रयोग दुहराए जा सकते हैं। यह बात निश्चित है कि धटनाएं रोकी नहीं जा सकतीं किंतु एक बेहतर पुलिसिंग समाज में संवाद और भरोसे का निर्माण करती है। यह भरोसा बचाना और उसे बढ़ाना आज के पुलिस तंत्र की जिम्मेदारी है। यहां यह भी जोड़ना जरूरी है कि मीडिया के तमाम अवतारों और प्रयोगों के बाद भी व्यक्तिगत संपर्कों और व्यक्तित्व का महत्व कम नहीं होगा।

गुरू ज्ञान पर भारी है गूगल ज्ञान

Posted On by & filed under जन-जागरण, टेक्नोलॉजी, समाज

सच कहें तो इस कठिन समय का सबसे संकट है एकाग्रता। आधुनिक संचार साधनों ने सुविधाओं के साथ-साथ जो संकट खड़ा किया है वह है एकाग्रता और एकांत का संकट। आप अकेले कहां हो पाते हैं? यह मोबाइल आपको अकेला कहां छोड़ता है? यहां संवाद निरंतर है और कुछ न कुछ स्क्रीन पर चमक जाता है कि फिर आप वहीं चले जाते हैं, जिससे बचने के उपाय आप करना चाहते हैं।

महासंयोग शारदीय नवरात्र 2016 पर

Posted On by & filed under कला-संस्कृति, जन-जागरण, पर्व - त्यौहार, विविधा

हमारी भारतीय सनातन संस्कृति में शारदीय नवरात्र विशेष महत्व रखती है।जिसके कई पौराणीक प्रमाण हमारे धर्म ग्रंथों में बताए गये हैं।नौ दिनो तक चलने वाले नवरात्र के महोत्सव में मां भगवती के नौ रुपों की पूजा-आराधना बड़े ही विधि विधान से की जाती है। इस वर्ष शारदीय नवरात्रे 2016 में अक्टूबर (शनिवार ) से 10… Read more »

जानिए वर्ष 2016 में दीवाली पूजन का मुहूर्त—

Posted On by & filed under कला-संस्कृति, जन-जागरण

श्री महालक्ष्मी पूजन व दीपावली का महापर्व कार्तिक कृ्ष्ण पक्ष की अमावस्या में प्रदोष काल, स्थिर लग्न समय में मनाया जाता है. धन की देवी श्री महा लक्ष्मी जी का आशिर्वाद पाने के लिये इस दिन लक्ष्मी पूजन करना विशेष रुप से शुभ रहता है || दीवाली या कहें दीपावली भारतवर्ष में मनाया जाने वाला… Read more »

आगरा में नया सिविल एन्कलेव

Posted On by & filed under जन-जागरण, विविधा

डा. राधेश्याम द्विवेदी आगरा।राज्य सरकार ने आगरा में वायुसेना के एयरपोर्ट पर सिविल एन्क्लेव बनाए जाने को हरी झंडी दे दी है। इसके लिए जरूरी भूमि को खरीदे जाने के लिए एक अरब 53 करोड़ 67 लाख रुपये के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है। भूमि भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण को मुफ्त उपलब्ध कराया जाएगा। 30… Read more »

यूपी में मस्तिष्क ज्वर का कहर

Posted On by & filed under जन-जागरण, समाज, स्‍वास्‍थ्‍य-योग

डा. राधेश्याम द्विवेदी अच्छा स्वास्थ्य सबसे अधिक मूल्यवान माना जाता है। कई बीमारियां स्वास्थ्य के लिए खतरा उत्पन्न करती हैं। विभिन्न प्रकार के संक्रमण मानव जाति के लिए कभी-कभार महामारी बन स्वास्थ्य को प्रभावित करते हैं। मस्तिष्क ज्वर यानी इन्सेफेलाइटिस ऐसा ही एक दुलर्भ संक्रमण है जो करीबन दो लाख लोगों में से एक आदमी… Read more »

‘पशुधन’ नहीं, ‘धनपशु’ हैं आवारा

Posted On by & filed under जन-जागरण, विविधा

अर्पण जैन ‘अविचल’ शहर में ट्राफ़िक सिग्नल के सामने, अस्पताल में लगे नीम के पेड़ के नीचे, रास्ते के किनारे, कचहरी के खुले बरामदे में, चौराहों के बीचों-बीच, हाँफती रेलवे लाइन पर नेरोगेज रेल के सहारे खड़ा, कभी पोलिथीन तो कभी कूड़ा करकट ख़ाता, कभी शहरी सभ्यता के बीच आ जाता,कभी कुछ ज़हरीला खा लेने… Read more »

सफल जीवन के लिये विश्वास से भरा मन जरूरी

Posted On by & filed under जन-जागरण, समाज

ललित गर्ग- हम जीवन खुशनुमा तभी बना सकते हैं जब हमारा जिन्दगी के प्रति सकारात्मक नजरिया होता है। हर व्यक्ति की यह स्वाभाविक प्रवृत्ति है कि वह अपने जीवन में सफलता की उच्चतम ऊंचाइयों को छूना चाहता है। उसकी यह नैसर्गिक आकांक्षा होती है कि उसे मनचाही वस्तु मिले, मनचाहा पद मिले, मनचाहा जीवन साथी… Read more »