लेखक परिचय

डॉ. राजेश कपूर

डॉ. राजेश कपूर

लेखक पारम्‍परिक चिकित्‍सक हैं और समसामयिक मुद्दों पर टिप्‍पणी करते रहते हैं। अनेक असाध्य रोगों के सरल स्वदेशी समाधान, अनेक जड़ी-बूटियों पर शोध और प्रयोग, प्रान्त व राष्ट्रिय स्तर पर पत्र पठन-प्रकाशन व वार्ताएं (आयुर्वेद और जैविक खेती), आपात काल में नौ मास की जेल यात्रा, 'गवाक्ष भारती' मासिक का सम्पादन-प्रकाशन, आजकल स्वाध्याय व लेखनएवं चिकित्सालय का संचालन. रूचि के विशेष विषय: पारंपरिक चिकित्सा, जैविक खेती, हमारा सही गौरवशाली अतीत, भारत विरोधी छद्म आक्रमण.

Posted On by &filed under स्‍वास्‍थ्‍य-योग.


डॉ. राजेश कपूर, पारंपरिक चिकित्सक

एक अमेरिकी चकित्सक ने गहन खोजों से साबित किया है कि नारियल तेल का नियमित सेवन करने से मधुमेह रोगियों कि सभी समस्याएं सुलझ सकती हैं. मधुमेह रोगी दो प्रकार के हैं. एक का स्वादु पिंड या पेनक्रिया खराब होने के कारण इन्सुलन नहीं बना पता और दुसरे प्रकार के रोगियों के कोष इंसुलिन को ग्रहण नहीं कर पाते. मधुमेह के रोगी के कोष इंसुलिन रेजिस्टेंट होजाने और इंसुलिन को ग्रहण न करने के कारण ग्लूकोज़ या शर्करा ऊर्जा में परिवर्तित नहीं पाती. ऊर्जा या आहार के अभाव में रोगी के कोष मरने लगते हैं. यही कारण है कि मधुमेह रोगी को कोई भी अन्य रोग होने पर खतरनाक स्थिति बन जाती है , क्योंकि उसके कोष तो आहार के अभाव में पहले ही मर रहे होते हैं ऊपर से नए रोग के कारण मरने वाले कोशों कि मुरम्मत का काम आ जाता है जो कि शारीर का दुर्बल तंत्र कर नहीं पाता. ऐसे में नारियल का तेल सुनिश्चित समाधान के रूप में काम करता है.

खोज के अनुसार यह तेल बिना पित्त के ही पचने लगता है जबकि अन्य तेल अमाशय में पित्त के साथ मिल कर पचना शुरू करते हैं. नारियल-तेल बिना पित्त के सीधा लीवर में पहुँच जाता है और वहाँ से रक्त प्रवाह में और स्नायु कोशों में ‘कैटोंन बोडीज़’ के रूप में पहुच कर ऊर्जा कि पूर्ति करता है. यह ‘कैटोंन बोडीज़’ अत्यंत शक्तिशाली ढंग से नवीन कोशों का निर्माण करती हैं जिसके कारण शर्करा या इंसुलिन आदि दवाओं की ज़रूरत ही नहीं रह जाती. पसर आवश्यक है कि पहले चल रही दवाएं धीरे-धीरे बंद कि जाए और टेस्ट द्वारा परिणाम लगातार देखे जाएँ. नारियल तेल से नवीन कोष बनने लगते हैं तथा शरीर की रोग निरोधक शक्ति पूरी तरह से काम करने लगती है जिसके कारण सभी रोग स्वतः ठीक होने में सहायता मिलती है.

केवल मधुमेह ही नहीं एल्ज़िमर, मिर्गी, अधरंग, हार्ट अटैक, चोट आदि के कारण मर चुके कोष भी पुनः बनने लगते हैं तथा ये असाध्य समझे जाने वाले रोग भी ठीक होते हैं. जिस चिकित्सक ने यह शोध किया उनके पिता एल्ज़िमर्ज्स डिजीज के रोगी थे. वे केवल नारियल के तेल के प्रयोग से पुरी तरह ठीक होगये. इसके बाद उन्होंने इसी प्रकार के कई रोगियों का सफल इलाज किया.

चिकित्सा के लिए एक दिन में लगभग ४५ मी.ली. नारियल तेल का प्रयोग किया जाना चिहिए जो कि उत्तर भारतीयों के लिया थोड़ा कठिन है. वैसे भी शुरुआत केवल एक चम्मच से करते हुए धीरे-धीरे मात्रा बढानी चाहिए अन्यथा पाचन बिगड़ सकता है. भोजन में इसकी गंध उत्तर भारतीय अधिक सहन नहीं कर पाते. दाल, सब्जी में कच्चा डालकर या तड़के के रूप में इसका प्रयोग किया जा सकता है. मिठाईयों में भी इसका प्रयोग प्रचलित है जो कि बुरा नहीं लगता. मीठे के साथ खाना सरल भी लगता है. पर मधुमेह के रोगी को मीठे से परहेज़ तो करना ही होगा. इसका एक समाधान यह हो सकता है कि दिन में ३-४ बार सूखे या कच्चे नारियल का नियमित प्रयोग अपनी पाचन क्षमता के अनुसार किया जाए. गर्मियों में ध्यान देना होगा कि अधिक प्रयोग से गर्म प्रभाव न हो. सावधानी से प्रयोग करते-करते मात्रा की सीमा समाझ आ जाती है. एक उल्लेखनीय बात यह है कि दक्षिण भारतीय लोग नारियल की चटनी गर्मियों में भी दही में पीस कर बनाते हैं और पर्याप्त मात्रा में इसका प्रयोग करते हैं. अतः दही में पीस कर बनी नारियल की चटनी का प्रयोग तो गर्मियों के मौसम में भी आराम से किया जा सकता है. मारता पर्याप्त होनी चाहिए. रात को दही के प्रयोग से परहेज़ करना चाहिए.

पर आजकल के हालत में अब बात इतनी सीधी-सरल नहीं रह गयी है. तेल विषाक्त हो सकता है.

बाज़ार में उपलब्ध नारियल, सरसों, तिल, बादाम, जैतून के तेल विषाक्त हो सकते हैं. आजकत इन तेलों को निकालने के लिए दबाव प्रकिरिया या संपीडन नहीं किया जाता. एक रसायन का इस्तेमाल व्यापक रूप से तिलहन उद्योग में हो रहा है. यह ”हेक्सेन” नामक रसायन बीजों में से तेल को अलग कर देता है. हवा में इसकी थोड़ी उपस्थिति भी स्नायु कोशों को नष्ट करने लगती है. इसके खाए जाने पर जो विषाक्त प्रभाव होते हैं, उनपर तो अभी खोज ही नहीं हुई है पर वैज्ञानिकों का अनुमान है कि सूंघने से दस गुना अधिक इसके खाए जाने के दुष्प्रभाव होंगे. यह रसायन न्यूरो टोक्सिक है, शरीर के कोशों को हानि पहुंचाता है, अनेक असाध्य और गंभीर रोगों का जनक है. वैसे भी यह प्रोटीन में से फैट्स को अलग कर देता है. स्पष्ट है कि यह हमारे शरीर के मेद या चर्बी को चूस कर बाहर निकाल देगा जो न जाने कितने भयावह रोगों का कारण बनेगा या बन रहा है. इन तथ्यों को हमसे छुपा कर रखा गया है और इस रसायन का प्रयोग बिना किसी रुकावट बड़े स्तर पर हो रहा है. एक बात अच्छी है कि गरम करने पर इस इस रसायन के अधिकाँश अंश उड़ जाते हैं. किन्तु यह अभी तक अज्ञात है कि इस रसायन के संपर्क में आने के बाद फैट्स कि संरचना में कोई विकार तो नहीं आजाते ?

अतः ज़रूरी है कि हम बाजारी तेलों का प्रयोग अच्छी तरह गर्म करने के बाद ही करें. मालिश आदि से पहले भी तेल को गर्म करने के बाद ठंडा करके प्रयोग में लाना उचित रहेगा.इसके इलावा हेक्सेन के हानिकारक प्रभावों के बारे में लोगों को और सरकारी तंत्र को जागृत करने की ज़रूरत है.. इतना तो हम मान कर चलें कि शासनकर्ता अधिकारी और नेता भी विषैले तेल खा कर मरना नहीं चाहते. उन्हें वास्तविकता की जानकारी ही नहीं है. वे केवल अपने क्षूद्र स्वार्थों को साधनें में मग्न हैं और अपने साथ-साथ सबके विनाश में सहायक बन रहे हैं. वास्तविकता जान लेने पर वे भी इस विष के व्यापार को रोकनें में सहयोगी सिद्ध होने लगेंगे. कुशलता और धैर्य से प्रयास करने के इलावा और कोई मार्ग नहीं.

दैनिक जीवन में विष निवारक वस्तुओं का प्रयोग थोड़ी मात्रा में करते रहें जिस से बचाव होता रहे. गिलोय, घीक्वार, पीपल, तुलसी पत्र, बिलपत्री, नीम, कढीपत्ता, पुनर्नवा, श्योनाक आदि सब या जो-जो भी मिले उन का प्रयोग भिगो कर या पका कर यथासंभव रोज़ थोड़ी मात्रा में करें. यदि ये सब या इनमें से कोई सामग्री न मिले तो स्वामी रामदेव जी का ‘सर्व कल्प क्वाथ’ दैनिक प्रयोग करें.

 

Leave a Reply

14 Comments on "नारियल तेल है मधुमेह का इलाज"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
आर. सिंह
Guest
आश्चर्य यह है कि आज पहली बार मेरी निगाह इस आलेख पर पडी है.यह लेख करीब चार वर्ष पुराना है,अतः इस पद्धति का इस्तेमाल बहुतों ने किया होगा.मैं जानना चाहता हूँ, क्या उनलोगों को इससे कुछ लाभ हुआ?,क्योंकि शुद्ध नारियल का तेल सबसे ज्यादा केरल में व्यवहार में लाया जाता .है.उसके बाद तमिलनाडू और दक्षिण भारत के अन्य राज्यों की गिनती होती है. अगर शुद्ध नारियल का तेल मधुमेह में लाभदायक होता ,तो वहां कम से कम लोग इस रोग के शिकार होते,पर मेरी जानकारी के अनुसारकेरल और तमिलनाडू की गिनती मधुमेह की राजधानी के रूप में होती है.ऐसे मैं… Read more »
डॉ. राजेश कपूर
Guest
प्रो. मधुसुदन जी आपकी प्रदत्त सभी सूचनाएं बड़ी सही और प्रमाणिक हैं. आप चाहे इंजिनियर हैं पर वस्तुओं, विषयों को देखने, समझने की आपकी दृष्टि पैनी और पुर्णतः भारतीय है. आप सरीखे बुद्धिजीवी भारत की ताकत हैं. वैसे भी आयुर्वेद तो हम भारतीयों के रक्त में समाया हुआ है. जिन रोगों का इलाज ये आधुनिक चिकित्सक आज भी नहीं कर पाते उनका इलाज तो हमारी अनपढ़ दादी- अमा ही कर लेती थीं. जैसे पीलिया, दस्त, मरोड़ , चोट आदि. अपनी परम्पराओं को भुलाने के कारण ही हमारी समस्याएं बढ़ रही हैं. हम लोग तो उन्ही को पुनर्स्थापित करने, याद दिलाने… Read more »
डॉ. मधुसूदन
Guest
डॉ. कपूर जी। निम्न लिखित में गलत हो, तो आप बिना हिचक संपादित कीजिएगा। कोयम्बतूर से कुछ आयुर्वेदिक पुस्तकें सामान्य ज्ञान के लिए, लाया था। उनमें, लिखा है, अभ्यंग( शरीर पर औषधियुक्त ऊष्ण तैल मर्दन-पंचकर्म} के कारण, सारे शरीर में रक्त प्रवाह बढकर, रक्त द्वारा दोष(Toxins ) एकत्रित होकर, आंतो और मूत्र(?) द्वारा बाहर निकाले जाते हैं। जब बाहर जाने लगते हैं, तो वह रोग अपना परिणाम दिखाते जाता है।यह पंच कर्म प्रक्रिया,{ ३ से ५ सप्ताह चलती है} मेरे लिए ३ सप्ताह चली। जीवनभर जिस जिस रोगसे आप ग्रस्त हुए थे, वे सारे न्यूनाधिक मात्रा में अपने रोग लक्षण… Read more »
डॉ. राजेश कपूर
Guest
अज्ञानी जी इस उपयोगी जानकारी हेतु धन्यवाद. आयुर्वेदिक साहित्य में विपुल ज्ञान का भण्डार आज भी सुरक्षित है जब कि लाखों खोजपूर्ण पुस्तकें अरबी अक्रमंकारियों द्वारा नष्ट कर दी गयीं. यह बचा-खुचा आयुर्वेद का ज्ञान भी संसार के कुल चिकित्सा साहित्य से कहीं अधिक महत्व का और प्रमाणिक है. आप देख रहे हैं की आधुनिक और वैज्ञानिक कहलाने वाली ऐलिपैथी की हज़ारों दवाएं खतरनाक दुष्प्रभाव कर रही हैं , अनेकों को प्रतिबंधित करना पडा है. आगे भविष्य में भी अनेकों प्रतिबंधित करनी ही पड़ेंगी, यह निश्चित है. पर एक भी आयुर्वेदिक दवा बतलाएं जिसे प्रतिबंधित करना पडा हो ? बनाने… Read more »
नवीन कोइराला
Guest
नवीन कोइराला

डा.साहाबो बहुत बहुत घन्यवाद जानकारीके लिएँ । मै सुगरका मरिज हुँ । नारियल तेलका प्रयोग करुङ्गा ।

हरपाल सिंह
Guest

ऐसे लेखे से ही अग्रेजी दवा साम्राज्य खत्म होगा सुन्दर लेख

wpDiscuz