लेखक परिचय

डॉ. पुरुषोत्तम मीणा 'निरंकुश'

डॉ. पुरुषोत्तम मीणा 'निरंकुश'

मीणा-आदिवासी परिवार में जन्म। तीसरी कक्षा के बाद पढाई छूटी! बाद में नियमित पढाई केवल 04 वर्ष! जीवन के 07 वर्ष बाल-मजदूर एवं बाल-कृषक। निर्दोष होकर भी 04 वर्ष 02 माह 26 दिन 04 जेलों में गुजारे। जेल के दौरान-कई सौ पुस्तकों का अध्ययन, कविता लेखन किया एवं जेल में ही ग्रेज्युएशन डिग्री पूर्ण की! 20 वर्ष 09 माह 05 दिन रेलवे में मजदूरी करने के बाद स्वैच्छिक सेवानिवृति! हिन्दू धर्म, जाति, वर्ग, वर्ण, समाज, कानून, अर्थ व्यवस्था, आतंकवाद, नक्सलवाद, राजनीति, कानून, संविधान, स्वास्थ्य, मानव व्यवहार, मानव मनोविज्ञान, दाम्पत्य, आध्यात्म, दलित-आदिवासी-पिछड़ा वर्ग एवं अल्पसंख्यक उत्पीड़न सहित अनेकानेक विषयों पर सतत लेखन और चिन्तन! विश्लेषक, टिप्पणीकार, कवि, शायर और शोधार्थी! छोटे बच्चों, वंचित वर्गों और औरतों के शोषण, उत्पीड़न तथा अभावमय जीवन के विभिन्न पहलुओं पर अध्ययनरत! मुख्य संस्थापक तथा राष्ट्रीय अध्यक्ष-‘भ्रष्टाचार एवं अत्याचार अन्वेषण संस्थान’ (BAAS), राष्ट्रीय प्रमुख-हक रक्षक दल (HRD) सामाजिक संगठन, राष्ट्रीय अध्यक्ष-जर्नलिस्ट्स, मीडिया एंड रायटर्स एसोसिएशन (JMWA), पूर्व राष्ट्रीय महासचिव-अजा/जजा संगठनों का अ.भा. परिसंघ, पूर्व अध्यक्ष-अ.भा. भील-मीणा संघर्ष मोर्चा एवं पूर्व प्रकाशक तथा सम्पादक-प्रेसपालिका (हिन्दी पाक्षिक)।

Posted On by &filed under विविधा.


प्रवक्‍ता डॉट कॉम के लोकप्रिय व नियमित कंट्रीब्‍यूटर डॉ. पुरुषोत्तम मीणा ‘निरंकुश’ ने यह टिप्‍पणी डॉ. कुसुमलता केडिया के लेख ‘ईसाई धर्म और नारी मुक्ति’ पर एक टिप्‍पणीकार डॉ. राजेश कपूर के उकसावे पर की थी। ‘प्रवक्‍ता’ पर प्रकाशित डॉ. मीणा के लेखों पर लंबी चर्चा होती रही है। उनके विचार व व्‍यक्तित्‍व को लेकर भी कई टिप्‍पणीकार बार-बार सवाल उठाते रहे हैं। निम्‍नलिखित टिप्‍पणी में डॉ. मीणा ने सब कुछ स्‍पष्‍ट कर दिया है। (सं.)

इस लेख के समर्थन में पाठक बढचढकर टिप्पणी लिख रहे हैं, वे कितने सच्चे हैं? इस बात का आकलन इस बात से ही हो जाता है कि वे स्वयं को भारतीय संस्कृति का प्रवर्तक और संरक्षक बतलाते हैं| भारत की संस्कृति को संसार की सर्वश्रेष्ठ संस्कृति बताते/दर्शाते हैं| भारत की संस्कृति पर हमला करने वालों को देख लेने या जान से मारने की धमकी देने वालों का खुला या मूक समर्थन करते हैं| इसके उपरान्त भी भारतीय संस्कृति में मित्र की जो परिभाषा दी गयी है, उसकी धज्जियॉं उड़ाते हुए भी मुझ जैसे लोगों के जान के दुश्मन बनकर भी, अगले ही पल मुझे मित्र लिखते हैं और अगली ही पंक्ति में अपने मित्र का सार्वजनिक रूप से अपमान भी करते हैं|

ऐसे तथाकथित भारतीय संस्कृति के संरक्षक मित्र इस लेख को पढकर फूले नहीं समा रहे हैं| एक भी व्यक्ति श्री अनुपम जी द्वारा प्रस्तुत तथ्यों पर गौर करने या समर्थन करने के लिये एक शब्द नहीं लिख रहा है|

मेरे ऐसे तथाकथित मित्रों को मेरे बारे में अनेक प्रकार की भ्रान्तियॉं हैं| जिन्हें समय-समय पर मैं तोड़ता भी आ रहा हूँ और आगे भी तोड़ता रहूँगा, लेकिन सच्चाई को लिखने में कभी भी इनसे भय नहीं खाने वाला हूँ|

इसलिये यहॉं पर कुछ बातें स्पष्ट करना जरूरी है कि-

१. मेरे तथाकथित मित्रों यदि आप प्रवक्ता पर या अन्य किसी भी साईट पर ईमानदारी से देखेंगे तो पायेंगे कि गत दो माह से मेरी उपस्थिति सांकेतिक ही रही है| जिसका कारण मेरी अस्वस्थता रही| जिसके चलते मेरे सभी कार्य प्रभावित रहे, लेकिन अब मैं फिर से स्वस्थ हो रहा हूँ और मेरी दिनचर्या नियमित होने जा रही है| इसके अलावा किसी भी आलेख से भागने का कोई कारण नहीं है|

२. दूसरे मेरे इन तथाकथित मित्रों को यह भी ज्ञात होना चाहिये कि मुझे नैट-मीनिया नहीं है| मैं हर लेख पर अपनी टिप्पणी नहीं लिखता हूँ, क्योंकि यह कार्य मेरा पूर्ण कालिक कार्य नहीं है| मैं अपना शौक पूरा करने या अपनी बात को कहने के लिये वेब मीडिया का उपयोग करता हूँ| पत्रकारिता मेरा व्यवसाय नहीं है|

३. मैं भ्रष्टाचार एवं अत्याचार अन्वेषण संस्थान का मुख्य संस्थापक और वर्तमान में राष्ट्रीय अध्यक्ष हूँ, जिसके करीब पॉंच हजार आजीवन सदस्य देश के १८ राज्यों में यथाशक्ति सेवा कर रहे हैं| इस संगठन की नीति के अनुसार हम किसी गैर-सदस्य, किसी उद्योगपति या किसी भी देशी या विदेशी सरकार या किसी भी ऐजेंसी से अनुदान स्वीकार नहीं करते हैं|

४. मैं एक समाचार-पत्र का सम्पादक हूँ, जिसकी प्रकाशक मेरी पत्नी है| इस समाचार-पत्र में हम सरकारी विज्ञापन स्वीकार नहीं करते हैं|

५. मैं सम्पूर्ण रूप से धार्मिक व्यक्ति हूँ और मेरी ईश्‍वर में अटूट श्रृद्धा एवं आस्था है| मैं हिन्दू होने पर स्वयं को गौरवान्वित अनुभव करता हूँ| संसार के जितने भी धर्मों के बारे में, मैं अभी तक जान पाया हूँ, उन सभी में, मैं हिन्दू धर्म को सर्वश्रेष्ठ मानता हूँ| यह अलग बात है कि हिन्दू धर्म में अत्यधिक अच्छा हो सकने की सर्वाधिक सम्भावना है, लेकिन उसे मनुवादियों ने दबा रखा है| इसके उपरान्त भी हिन्दू धर्म सर्वश्रेष्ठ है| यदि समय मिला तो इस बारे में विस्तार से लिखूँगा|

६. मुझे अनेक राज्यों में सरकारी एवं सामाजिक सेवा करने का अवसर मिला है| इस दौरान मेरा वास्ता सभी धर्मों के लोगों से पड़ा है| यदि सार रूप में कहा जाये तो मुझे जितने भी क्रिश्‍चनों से वास्ता पड़ा उनमें से एक भी वफादार नहीं मिला| जबकि मेरे सर्वाधिक विश्‍वासपात्र मित्रों/शुभचिन्तकों में ब्राह्मणों की संख्या सर्वाधिक है| और ये सभी मेरे ब्राह्मन मित्र प्रवक्ता पर या कहीं पर भी प्रस्तुत मेरे सभी विचारों को जानते हैं और फिर भी से मुझसे असहमत नहीं हैं| क्योंकि ये सब मुझे समग्रता से जानते हैं| भ्रष्टाचार एवं अत्याचार अन्वेषण संस्थान के सचिव एवं कोषाध्यक्ष ब्राह्मण हैं| मैंने आज तक कभी भी ब्राह्मणों से नफरत नहीं की है, बल्कि मनुवादी, जिसे ब्राह्मणवादी विचारधारा भी कहते हैं, को और इसके पोषकों को मैं मानवता का सबसे बड़ा दुश्मन (भारतीय सन्दर्भ में) मानता हूँ| इस अन्तर को नहीं समझ सकने वाले लोग मुझे हिन्दुत्व का और ब्राह्मणों का दुश्मन मान बैठे हैं| इसमें कम से कम मेरा दोष नहीं है|

७. यद्यपि मैं मानवअधिकारों और धर्मनिरपेक्षता के मूल्यों का बड़ा समर्थक हूँ और मुझे इस क्षेत्र में कार्य करने में खुशी होती है, लेकिन भारतीय हालातों के बारे में और विशेषकर भारत के दबे-कुचले बहसंख्यक लोगों के बारे में लिखते या कार्य करते समय, विदेशों में क्या हो रहा है, इस बारे में, मैं अधिक चिन्तन नहीं करता, क्योंकि मेरा वास्ता भारत से है, इण्डिया से नहीं| मुझ जैसे सामान्य व्यक्ति को भारत में ही रहना है और भारत में मेरे जैसे लोगों के नम्बर एक दुश्मन क्रिश्‍चन नहीं, बल्कि मनुवादी हैं| इसलिये मैं विदेशी ताकतों के कृत्यों को बहाना बनाकर मुनवादियों के अत्याचारों को नजरअन्दाज नहीं कर सकता! अभी भी भारत की बहुसंख्यक हिन्दू और गैर-हिन्दू आबादी के दु:खों का बड़ा कारण मनुवाद है| जिसे आसानी से प्रमाणित किया जा सकता है|

८. आएसएस से मेरी कोई व्यक्तिगत दुश्मनी नहीं है, लेकिन चूँकि संघ मनुवाद का समर्थक तथा बहुसंख्यक वंचित भारतीयों को समान हक प्रदान करने का विरोध करता है, इसलिये मेरी नजर में संघ देश का दुश्मन है| भाजपा संघ का राजनैतिक चेहरा है|

९. मुझे कॉंग्रेस से कोई व्यक्तिगत लगाव नहीं है, सिवाय कॉंग्रेस की धर्मनिरपेक्षता और सामाजिक न्याय की नीति के, जबकि मोहनदास कर्मचन्द गॉंधी में ये दोनों गुण नहीं थे, इस कारण से मैं उसे इस देश का राष्ट्रपिता बनाये जाने तक के खिलाफ हूँ| गॉंधी देश के बहुसंख्यक वंचित भारतीयों को समान हक प्रदान करने के विरुद्ध था, क्योंकि वह कट्टर मुनवादी हिन्दू था| गॉंधी को धर्मनिरपेक्षता या सामाजिक न्याय की विचारधारा में नाटकीय आस्था थी| आजादी से पूर्व के कॉंग्रेसियों में,गॉंधी सबसे बड़ा कट्टर हिन्दू था और देश का विभाजन गॉंधी की ही इसी मनुवादी सोच का नतीजा है|

जहॉं तक इस लेख का सवाल है, एक भारतीय स्त्री द्वारा, भारतीय स्त्री के हालतों के बारे में असत्य, मंगदंथ और काल्पनिक तथ्य प्रस्तुत करने वाला इससे घटिया लेख मैंने मेरे जीवन में नहीं पढ़ा!

Leave a Reply

17 Comments on "मैं हिन्दू होने पर स्वयं को गौरवान्वित अनुभव करता हूँ : डॉ. मीणा"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
आर. सिंह
Guest
बिंदु जैन जी जब आपने यह लिखा की “मैं हिन्दू होने पर स्वयं को गौरवान्वित अनुभव करता हूँ | डा मीणा जी गर्व कीजिए लेकिन किसी को इस कारण से हेय नहीं समझिये की वह हिन्दू नहीं है |क्योकि जब कण कण में भगवान है तो जो गैर हिन्दू और यहा तक की सभी जीव जंतु भी भगवान का ही रूप है”,तो आपने एक ही साथ उन सारे हिन्दुओं को चुनौती दे डाली जो अपने को सुपर हिन्दू प्रमाणित करने की चक्कर में यह भी भूल जाते हैं की हिन्दू धर्म ने ही सिखाया है की कण कण में भगवान… Read more »
Datta Yadav
Guest

मीणा जी को अरुंधती राय बनकर तोफा कमाना हैं | जीतनी हिन्दू ओंकी बुराइया करे उतना ही बड़ा नाम होता हैं , इनाम भी बड़ा मिलाता हैं | हिन्दू वीरोधी कानून बनाने के लिय मीणा जी को सरकार बुलाई गी |

RAM NARAYAN SUTHAR
Guest
मीणाजी इस तथ्य पर विचार करे ” भक्ति तर्क से सिद्ध नहीं होती ” आप कैसे हिन्दू है ये हम बहुत पहले से जानते है आपको किस पर गर्व है ये भी हम पहले से जानते है इस पर विस्तार से अपना खुद का चारण गान लिखने कहा जरुरत है धर्मनिरपेक्ष क्या है ये जानिए ये विश्व के किसी दुसरे देश में क्यों नहीं इस पर लिखिए मनुवाद क्या है इस पर लिखिए कट्टरता कहा से शुरू होती है जातिवाद की गहराई में क्या है और क्या था इस पर लिखिए इस पर भी ध्यान दीजियेगा की सच्चा हिन्दू कभी… Read more »
-डॉ. पुरुषोत्तम मीणा 'निरंकुश'
Guest
मानवता के शोषकों को तो मानवता की पहचान ही नहीं हैं, वे तो अपने पूर्वजों के अपराधों को सही ठहराने के लिए अनर्गल राग अलापते हुए एस देश का सत्यानाश कर चुके हैं, लेकिन आदरणीय बिंदु जैन जी आपसे निवेदन है की मेरे किस कथन से आपको यह बात लिखनी पडी है कि- “डा मीणा जी गर्व कीजिए लेकिन किसी को इस कारण से हेय नहीं समझिये की वह हिन्दू नहीं है |” जहाँ कत मुझे याद है, व्यक्तिगत अनुभव के आलावा मैंने कभी ऐसा कोई कथन नहीं लिखा, जिसमें किसी गैर हिन्दू को हेय लिखा या दर्शाया हो या… Read more »
vimlesh
Guest
डॉ राजेश कपूर जी की टिप्पणी को पुरे समर्थन के साथ मीणा जी आपसे पूछना चाहूँगा यह मनुवाद देश में कहा कहा पर है . इस काल्पनिक मनुवाद के समर्थक देश को किस prkar nuksan phucha rhe है इस काल्पनिक मनुवाद का ढिंढोरा पीट-पीट कर माया वती कहा से कहा पहुच गयी लेकिन उन्होंने कभी नहीं बताया आखिर ये मनु वाद होता क्या है . मायावती की शिक्षा के बारे में कुछ नहीं कहूँगा किन्तु आप एक शिक्षित पुरुष दीखते है अतः आपको आम जनमानस तक मनुवाद के समर्थको एवं उनके गुण दोषों को बताना चाहिए जिससे की जो लोग… Read more »
wpDiscuz