लेखक परिचय

दानसिंह देवांगन

दानसिंह देवांगन

बीएससी गणित, एमएम भाषा विज्ञान में गोल्ड मेडेलिस्ट और बीजेएमसी तक आपकी शिक्षा हुई है। विगत दस सालों से पत्रकारिता से जुड़े हुए हैं। जनसत्ता, दैनिक भास्कर, देशबंधु, नवभारत और जनमत टीवी से काफी समय तक जुड़े रहे। छत्तीसगढ़ में नक्सलवाद पर बेबाकी से राय देने के लिए जाने जाते हैं। संप्रति आप दैनिक स्वदेश, रायपुर के संपादक हैं।

Posted On by &filed under विविधा.


कपिल सिब्बल का नया मंत्र- मार्क्स के पीछे मत भागो, काबिल बनो, कामयाबी अपने आप मिलेगी

साल की सुपरहिट फिल्म 3 इडियट में आमिर खान ने युवाओं को नया मंत्र दिया- कामयाबी के पीछे मत भागो, काबिल बनो, कामयाबी अपने आप मिलेगी। जाहिर है, 100 में 99 अंक लाने का जबरदस्त तनाव झेल रहे विद्यार्थियों के बीच आमिर खान खुशनुमा संत बनकर आए। उनका मंत्र सीधे युवाओं और बच्चों के दिल में उतरा और फिल्म सुपरहिट हो गई। अब यही मंत्र केंद्र सरकार देश के दो करोड़ युवा विद्यार्थियों को देने जा रही है। केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री कपिल सिब्बल ने आज नई दिल्ली में 20 बोर्ड अध्यक्षों के सामने इस संबंध में एक प्रस्ताव रखा, जिस पर सभी बोर्ड अध्यक्षों ने अपनी सहमति दे दी है। यह नियम वर्ष 2013 से लागू होगा। इस प्रस्ताव ने भारत में एक नया अध्याय का सूत्रपात किया है।

अब तक भारत में प्रवेश का जो भी सिस्टम था, वह मार्क्स के आधार पर था। 12 वीं बोर्ड में जिसका अधिक अंक आया, मनपसंद कालेज और मनपसंद फैकल्टी चुनने का अधिकार उसी विद्यार्थी को होता था। यही वजह है कि देशभर में हर साल दो दर्जन से अधिक विद्यार्थी मार्क्स के तनाव में आत्महत्या करने लगे थे। उम्मीद है कि नए नियम लागू होने से विद्यार्थी मार्क्स के पीछे नहीं, बल्कि काबिल बनने में अपनी ऊर्जा खर्च करेंगे। वहीं देशभर में एक ही सिलेबस होने से प्रांत, भाषा और क्षेत्र को लेकर भेदभाव नहीं होगा।

नए प्रस्ताव के तहत छत्तीसगढ़ के बचेली या दंतेवाड़ा या सुरजपुर जैसे सुदूर इलाकों में 12 वीं पास विद्यार्थी भी अब एक प्रवेश परीक्षा पास कर दिल्ली या मुंबई के किसी बड़े कालेज में दाखिला ले सकता है। वहीं अब 12 वीं बोर्ड परीक्षा में मार्क्स बढ़ाने के लिए रात दिन तनाव में नहीं रहना होगा, न ही कम नंबर आने पर खुदकुशी जैसे घातक कदम उठाने की जरूरत पड़ेगी। केवल पास भी हो गए तो भी चलेगा। कालेज में एडमिशन के लिए देशभर के विद्यार्थियों को एक साथ, एक ही सिलेबस पर प्रवेश परीक्षा देनी होगी। इसी आधार पर देशभर के कालेजों में भर्ती होगी। यह परीक्षा वही विद्यार्थी पास कर सकेगा, जिसने वास्तव में पढ़ाई किया है और उसका कांसेप्ट क्लीयर है। छत्तीसगढ़ के चांपा-जांजगीर जैसे क्षेत्रों में बड़ी संख्या में होने वाले नकल भी अपने आप रूक जाएंगे। नकल करके आप 12 वीं तो पास हो सकते हैं, पर प्रवेश परीक्षा नहीं।

नए नियम से देश के विद्यार्थी काबिल और व्यवहारिक नागरिक बनेंगे, जो देश को तरक्की के मार्ग पर ले जाने में सक्षम होंगे। वहीं भ्रष्ट तरीके से होने वाले एडमिशन पर भी विराम लगेगा।

-दानसिंह देवांगन

Leave a Reply

4 Comments on "अब देशभर में पैदा होंगे 3 इडियट"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
गोपाल सामंतो
Guest
priy dansingh ji lekh to aapka umda hai …..par ab tak na kapil sibbal ki baate kuch samajh aati hai na hi unke pravesh pariksha ka ganit………aur doosri baat film to aakhir film hi hoti use vastavik jeevan me utaar paana shayad hi mumkin ho pata hai agar mumkin ho paata to ab tak na jaane kitne hi imaandar hero is desh ke galiyo me ghumte aur desh me chal rahe buraiyo ko mitane ki koshish karte …..khair mudde ki baat ye hai ki ab bachcho ko 12 ka tention utna nahi rahega jitna ki us pravesh pariksha ka bhoot… Read more »
Vinod Awasthi
Guest

yeh nirnaya bhartiya bacchon maini pratiyogita ki bhavna ko khatam kar dega. Jisase aane wale das saalon main hamara desha aur jyada pichad jayega.

Bharat Rajkishor
Guest
attmahatya ki wajah padai ya marks ka pressure nahi, bacchon maini sehansheelta ka kam hona hai, jiska ek bada karan pichle 10 saalon main pathyakrmon main kiye jaane wale khatarnaak parivartan ko mana ja sakta hai, jo ki naitikta ka paath padane main bhi asmarth hai aur bacchon ko ugra bana raha hai, aur ye baat kisi bhi kishore umra ke bacche se baat karke mehsoos ki ja sakti hai. Ek bada karan aadhyatmikta se vimukh hona bhi hai, kai varsho tak ramayan mahabharat ne bacchon ko bahut prerit kiya, aaj hinsa aur bevakoofi bhare reality show bacchon ko kya… Read more »
Bharat Rajkishor
Guest
Iski kya guarantee hai ki is vyavasth se ve ek acche evam jimmedar nagrik ban sakenge. vastava main jis tanaav ki aap baat kar rahe hain wo padai ka nahi hai aur na hi rahega. Aaj ek baccha bada haote hi jin pareshanion se joojh raha hai wo aaj ke media aur filmon dwara nirmit jarooraton ka pura na hona hai. Jaise Mahngi BIKE, latest Devices, Aur Umra se pehle ek girl friend/boy friend en sab ke prati bacchon main jo aakarshan bada hai uske liye jimmedar hai hamara media and uspe control karnewala suchna evam prasaran mantralaya. BACCHE TO… Read more »
wpDiscuz