लेखक परिचय

रामदास सोनी

रामदास सोनी

रामदास सोनी पत्रकारिता में रूचि रखते है और आरएसएस से जुडे है और वर्तमान में भारतीय किसान संघ में कार्य कर रहे है।

Posted On by &filed under हिंद स्‍वराज.


 रामदास सोनी

दूसरे काले पन्ने को भारत का काला पन्ना कहा जाये या विश्व का ही एक काला पन्ना माना जायेए इसे भविष्य तय करेगा। क्योंकि इस पन्ने में कालापन और दर्द की कसक इतनी ज्यादा है कि यह विश्व की अन्य किसी भी घटना में दिखाई नहीं देती। कल्पना करे कि हमारे शहर या प्रान्त को धर्म के आधार पर बांट दिया जाये तो क्या होगा। अपना पैतृक घर, कीमती सामान वहीं छोड़, सालों की बसाई गृहस्थी उजाड़कर शहर अथवा प्रदेश के दूसरे कोने में चले जाने को मजबूर कर दिया जाए तो ….। कुछ घंटों में घर से भागने को कहा जाये! वह भी ऐसी सड़कों और मोहल्लो से जो भीषण दंगो की चपेट में हो! यह सब इसलिए किया जाये क्योंकि जिस हिन्दु धर्म को हम मानते है उसके लोग दूसरे क्षेत्र में रहते है और यह इलाका मुसलमानों का है। रास्ते में लोग आपकी पत्नी, बच्चे, भाई-बंधु की हत्या कर दे, लूटपाट करे तो आपको कैसा लगेगा!
1947 में भारत के एक हिस्से को धर्म के आधार पर अलग कर, शेष हिस्से में उसी आधार को अस्वीकार करने का जो दो मुंहेपन और दोहरे मापदण्डों वाला तथा राष्ट्र के साथ क्रूर मजाक करने वाला आचरण रूपी अपराध कांग्रेस ने किया है, वह अकेला अपने आप में इतना बड़ा पाप है कि उसके लिए सारे कांग्रेसी सौ पीढ़ियों तक आजीवन प्रायश्चित करें तो भी कम है। विश्व के किसी भी सुसभ्य समाज में इस अपराध के लिए कम से कम नहीं सजा होगी जो कोई सभ्य समाज एक अपराधी को ज्यादा से ज्यादा सजा दे सकता है। संसार में साम्प्रदायिकता का इससे बड़ा उदाहरण क्या हो सकता है कि देश का हिस्सा धर्म के आधार पर अलग कर दिया जाये। सत्ता प्राप्त करने की जल्दी में लाखों देशवासियों को असमय ही मौत के हवाले कर दिया गया। चोरी और सीनाजोरी तो तब है जब अपने इस अपराध पर विभाजन करने वाले कांग्रेसियों को किसी प्रकार का अफसोस तक ना हो!
आज पाकिस्तान व बांग्लोदेश में जितने मुसलमान निवास करते है उससे कही अधिक भारत में है। धर्म के आधार पर बना हुआ पाकिस्तान अतिमहत्वाकांक्षी राजनेताओं की असफल योजनाओ का वह बदसूरत स्मारक है जिसके नीचे प्रेम नहीं घृणा दफन है। पाकिस्तान जिस सिद्धांत पर बना वह सिद्धांत आज पूरी तरह से ध्वस्त हो चुका है। यह प्रमाणित हो चुका है कि समकालीन समय में जिन्होने देश को धर्म के आधार पर बांटने की योजना बनाई, जिन्होने उसमें सहमति दी और जो मौन रहे वे सब इस देश और मानव जाति की नजरों में उन हत्याओं और बलात्कारों के लिए नैतिक रूप से जिम्मेवार है, जो विभाजन के समय हुए थे।लार्ड वावेल ने भारत के सम्बंध में एक बहुत अच्छी बात कही थी, उसने कहा था,
गॉड हेज क्रिएटेड दिस कन्ट्री वन, एंड यू केन नॉट डिवाइड इट इन टू ।जो बात ब्रिटेन में पैदा होने वाले राजनेता को समझ में आई वह भारत में जन्में जवाहरलाल नेहरू की समझ में नहीं आई। वास्तव में दोनो नेताओं में अंतर बहुत थोड़ा भी है और बहुत ज्यादा भी। वावेल ब्रिटेन में खड़े होकर भारत को देख रहे थे और नेहरू भारत में खड़े होकर ब्रिटेन को। एक कहावत है-
आप वहां देखिए जहां आपको जाना है अन्यथा आप वहां चले जायेगे, जहां आप देख रहे है।
पाकिस्तान कैसे बना! इस प्रक्रिया को समझने के लिए नेहरू के विचारों में होते बदलाव को गहराई से समझना आवश्यक है। भारत के पहले प्रधानमंत्री बनने के पांच साल पूर्व नेहरू से पूछा गया जिन्ना पाकिस्तान की मांग कर रहे है आपका क्या विचार है! नेहरू ने तमतमाते हुए जबाब दिया ”नथिंग इट इज फेंटास्टिक नोनसेन्स!”
देश का संचालन करने की चाह रखने वाले की बोली गई बातो को तार-तार करके पढ़ना चाहिए। समाज उन्हे जो साधन, सुख-सुविधाएं प्रदान करता है वे इसलिए होती है कि वे बेहतर काम कर सके, न कि आमोद प्रमोद करते हुए मदमस्त घूमने के लिए। इन्ही नेहरू की उपस्थिति में भारत का विभाजन हुआ। उनके सामने हुआ, उनकी सहमति से हुआ। देश का उन्होने अपने हाथो से बांटा। समय बीता 1950 में फिर एक पत्रकार ने नेहरू से पूछा पाकिस्तान के सम्बंध में आपके क्या विचार है! नेहरू बोले ”नाऊ इट इज ए सेटल्ड फैक्टस!!” एक राजेनता जो यह ना देख पाया कि देश विभाजन की ओर बढ़ रहा है। देश का प्रधानमंत्री बनने की चाह रखने वाला यह गणित ना लगा सका कि देश बंट रहा है, कटने जा रहा है। सत्ता की वासना ऐसी अनियंत्रित छटपटाहट में बदल जाये कि हमें मरते व कटते हुए हिन्दु-मुस्लिम ना दिखे। सत्ता प्राप्ति की ऐसी भी क्या लालसा कि उसके लिए मानव जाति को इतनी भारी कीमत चुकानी पड़े। क्या फर्क पड़ जाता अगर देश को आजादी 6 महीने पहले मिलती या बाद में। अंग्रेजों को तो जाना ही था, उन्होने अपना सामान बांध ही लिया था। वह छटपटाहट माउंटबैटन या एडविना की नजरों से नहीं बच पाई थी। उस रंगमंच के सभी पात्रों के अपने-अपने सपने थे। सभी के अपने गंतव्य थे। वे सब मिलकर भारत को बांट रहे थे और भारत की भोली-भाली जनता उनके षड्यंत्रों को समझ नहीं पाई। सच तो यह है कि कांग्रेस के डीएनए में सत्ता के प्रति लोलुपता साफ दिखाई देती है। आजादी के बाद सत्ता-प्राप्ति की इस वासना ने इतना विकराल रूप धारण कर लिया कि उसने करीब-करीब देश की राजनीति का ही कांग्रेसीकरण कर डाला। कपड़े पहनने से लगातार उठने-बैठने तक, बातचीत करने की शैली से लगाकर कार्य करने की पद्धति तक। सबमें समानता आ गई। बहुताय जिले के नेता प्रान्तों की राजधानियों को पत्र-पुष्प् भेन्ट करते है और प्रान्त के लोग चुनाव फंड के नाम पर राष्ट्रीय नेताओं को पैसा देते है। देते समय कहते है चुनाव के लिए है सर! सर लीजिए, लेकिन होती है वह व्यक्तिगत भेन्ट। नेहरू को शरणम गच्छामि लोग पंसद थे। कांग्रेस की संस्कृति में सबसे बड़ा नेता कहता है- तुम बने रहो, संवैधानिक पदों को भोगते रहो, बस हमारी कृपा के पात्र बने रहना। मैं जो चाहूं वही करो, नियुक्ति हो या निष्कासन, निर्णय हम करेगे, क्रियान्वयन तुम करना। मेरी हां में हां रही तो तुम राजपथ पर चलते रहोगे अन्यथा वनवास के लिए तैयार रहो। उन्हे स्वाभिमान से खड़े नेताजी सुभाषचन्द्र बोस अच्छे नहीं लगते। फिर चाहे अपना स्वतंत्र मत व्यक्त करते श्यामा प्रसाद मुखर्जी हो या चन्द्रशेखर आजाद। अगर आपने अपनी आवाज उठाई तो बाहर का रास्ता दिखा दिया जायेगा। बगैर रीढ़ के और सत्ता के लिए कुछ भी करेगें का भाव रखने वाले लोग देश के विभिन्न महत्वपूर्ण पदों पर कभी भी बैठ जाते है। ऐसे लोगो के नेतृत्व में देश घिसट-घिसट कर रेंग तो सकता है लेकिन संभलकर चल नहीं सकता। आजादी के आंदोलन के समय सुभाष बाबू का देश से बलात निष्कासन और सरदार पटेल को नेपथ्य में धकेलने की जो कूटनीतिक चाले चली गई, उसका परिणाम आज देश भुगत रहा है। सत्ता के लिए कांग्रेसियों के जब प्राण निकल रहे थे जब अंग्रेजों ने कांग्रेस नेतृत्व से पूछा था कि हम देश को आजाद करने जा रहे है, लेकिन पहले काटेगे फिर बांटेगे और फिर तुम्हे सौंपेगे! बोलो तैयार हो!! और दुर्भाग्य है कि कांग्रेस के नेता देश को बांटने के लिए तैयार हो गए। सच तो यह है कि हमने आजादी अंग्रेजों की इच्छा से नहीं, बल्कि अपने बाहुबल से प्राप्त की थी। वे हमें आजाद करके नहीं गए भारतीयों ने उन्हे भगाया। यह बात सड़क पर चलते आम नागरिक की समझ में आ रही थी लेकिन नेहरू की समझ में नहीं आई। उन्हे लगता था कि मांउटबैटन का मूड खराब हो गया तो शायद आजादी दूर चली जायेगी। नेहरू को कौन समझाता कि बंबई बंदरगाह में हुए विस्फोट आजादी के आने का शंखनाद था, न कि माउंटबैटन और एडविना का मायारूपी मकड़जाल।
सैफोलोजिस्ट से प्रभावित आज की राजनीति में उस समय के कुछ चुनावी आंकड़ों का विश्लेषण करे तो परिणाम बड़े रोचक मिलते है। आज जो पाकिस्तान और बांग्लादेश है वहां 1946 में प्रतिनिधि सभाओं के चुनावों में मुस्लिम लीग हार गई और जो वर्तमान भारत है उसमें मुस्लिम लीग जीत गई। अर्थात वह मुस्लिम लीग जो पाकिस्तान की मांग कर रही थी वह पूर्वी और पश्चिमी पाकिस्तान में जनता द्वारा अस्वीकार कर दी गई। बलूच, सिंध, पंजाब और बंगाल के मुसलिमों ने मुस्लिम लीग को ठुकरा कर अपना वोट कांग्रेस को दिया था। बलूच प्रान्त के गांधी, खान अब्दुल गफ््फार खान ने जीते जी कभी पाकिस्तान में वोट नहीं डाला। जब तक जीवित रहे हर चुनाव में दिल्ली आते और भारत में वोट डालते थे। उन्होने दिल्ली में अपना आवास सदा बनाए रखा। वे कहते थे, मैं पाकिस्तान के वजूद को अस्वीकार करता हूं। जब तक जिंदा हूं। भारत का हूं और भारत का रहूंगा।
कांग्रेस मुसलमानों से बातचीत के लिए मुस्लिम समाज से गलत प्रतिनिधियों का चुनाव करती रही। अब्दुल गफ्फार खान जैसे देशभक्त को छोड़कर वह जिन्ना को सर पर बिठाए घूमती रही। जिन्ना को ही मुसलमानों का एकमात्र नेता मानती रही। कांग्रेस के नेता जिन्ना से बार-बार कहते रहे – ”जिन्ना मेरे भाई मान जाओं, हम तुमसे प्रार्थना करते है, मान जाओं!” दूसरी ओर जिन्ना उनकी हर मांग को अपनी सिग्रेट के धुंए में उन्ही में मुंह पर उड़ाता रहा। यह कौनसी कूटनीति थी और कैसी राजनीति! तब भी समझ से परे थी और आज भी। भारत को धर्म के आधार पर बांटना भारत की गत शताब्दी का दूसरा काला पन्ना है। इस काले पन्ने के लेखक, नायक और महानायक जवाहरलाल नेहरू और केवल नेहरू है।

Leave a Reply

5 Comments on "बीसवीं सदी में भारतीय इतिहास के छः काले पन्ने (भाग 3)"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
Satyarthi
Guest

“..प्रज्ञा सिंह,असीमानंद जैसे दुर्दांत आतंकवादी पैदा किये जा रहे हैं..” !!! बुद्धि और सत्य और विवेक पर अनुपम पकड़ . निरंकुश जी ने अपने नाम को सार्थक कर दिया . शायद स्वयं को दिग्गी राजा का स्थान ग्रहण करने योग्य सिद्ध करने को आतुर हैं . पता नहीं कितना समय लगे . मणि शंकर ऐयेर बता ही चुके हैं सेवा करो प्रतीक्षा करो . समय आने पर मेवा मिल जायेगा

sunil patel
Guest

भारत का विभाजन भारतीय इतिहास की भयंकरतम भूल में से एक थी जो सत्ता के लालच में राखी गई थी. युद्ध में प्रत्यक्ष रूप से लाखो लोग मरते है किन्तु किसी के सत्ता सुख के लिए आजाद देश के विभाजन से लाखो लोग घर बार छोड़कर भागे और मारे जाय – लानत है ऐसे राजनेताओ पर.

यह घटना हुई है. इतिहास के कागज मिट सकते है, इतिहास नहीं मिटता है, चाहे कोई कांग्रेसी कहे या कोई भाजपाई इससे सच्चाई में तो फर्क नहीं पड़ता है, सत्य तो सत्य रहता है.
श्री सोनी जी के अगले लेख के इन्तजार में.

डॉ. राजेश कपूर
Guest
सोनी जी इस उत्तम, तथ्य परक लेख हेतु बधाई व अभिनन्दन. – इतिहास के तथ्य उपलब्ध हैं की एडविना बैटन की वासना के जाल में फंस कर नेहरू ने अकेले, बिना किसी से चर्चा किये विभाजन का निर्णय लिया था और माउन्ट बैटन को भारत विभाजन का स्वीकृति पत्र सौंप दिया था. प्रधानमन्त्री एटली तक हैरान हो गया था की यह कैसे हो गया. चर्चिल को विश्वास नहीं आया था की ऐसा हो सकता है. पर जब माउन्ट बैटन ने नेहरू का लिखा पत्र उन्हें दिखाया तो विश्वास आना ही था. इतने बड़े मूर्खतापूर्ण देशद्रोह की आशा वे नेहरू से… Read more »
दिवस दिनेश गौड़
Guest

आदरणीय रामदास सोनी जी, प्रस्तुत आलेख के लिए आपका बहुत बहुत आभार…
जिस सच्चाई को यह कांग्रेस ६४ वर्षों से छिपाए रखना चाहती है, उसे आपने उधेड़ कर रख दिया|
नेताजी सुभाष बाबू को कांग्रेस से निष्काषित करना, नेताजी का रहस्यमय परिस्थितियों में गायब हो जाना, सत्ता के लालच में नेहरु के द्वारा पाकिस्तान को अस्तित्व में लाना, सच में बेहद शर्मनाक है|

आदरणीय रामदास सोनी जी, जहाँ तक मैं देख सका हूँ, यहाँ केवल दो काले पन्नों के विषय में ही लिखा गया है| क्या लेख का शेष भाग अभी बाकी है? यदि है तो उसकी प्रतीक्षा रहेगी|

बहुत बहुत धन्यवाद|

डॉ. पुरुषोत्तम मीणा 'निरंकुश'
Guest
आदरणीय श्री रामदास सोनी जी, आपने तीन श्रृंखलाओं में परिश्रम करके अपने विचार लिखकर प्रवक्ता के माध्यम से प्रस्तुत किये हैं| पहली किस्त पढने पर शुरू में लगा कि आपका वास्तव में ही देशहित में लिखना लक्ष्य रहा है, लेकिन थोड़ा आगे पढने के बाद ही आपके लिखने का असली मकसद साफ हो गया| इसके उपरान्त भी मैंने पूर्णतन्मयता से आपकी तीनों किस्तों को पढा और तदोपरान्त अपने विचार लिख रहा हूँ| आशा करता हूँ कि आप और आपके समर्थक सहयोगी इस पर संयमपूर्ण विचार रखेंगे न कि गाली-गलोंच की भाषा का इस्तेमाल करेंगे| अमर स्वतन्त्रता सेनानी और परमादरणीय सुभाषचन्द्र… Read more »
wpDiscuz