लेखक परिचय

प्रवक्ता.कॉम ब्यूरो

प्रवक्ता.कॉम ब्यूरो

Posted On by &filed under लेख.


निज आर्या

पिछले दिनों खबर आयी कि मुकेश भाई अम्बानी अपने 5000 करोड़ के घर में शिफ्ट नहीं हो रहे ……कुछ वास्तु दोष रह गया है शायद…..कमबख्त 5000 करोड़ रुपया खर्च के भी दोष रह गया ??? 27 मंजिला घर बनवाया है 6 लोगों के रहने के लिए .168 कारें खड़ी हो सकती हैं …….8 मंजिलें तो पार्किंग के लिए हैं ….कई सारे Swimming Pool है ….Helipad है ………..ऐसे लोगों को हमारे यहाँ धन पशु कहा जाता है …..

एक और धन पशु है …..दिल्ली में …..कांग्रेस पार्टी के नेता हैं ………..कँवर सिंह तंवर ….हाल ही में उन्होंने अपने बेटे की शादी की ……..सुनते हैं की 10 दिन तक समारोह चला ………..18000 मेहमान थे ……….लड़की वालों ने अपने रिश्ते दारों को BMW दे के विदा किया ….दामाद को हेलिकोप्टर दिया दहेज़ में …………लड़के की हजामत बनाने वाले नाइ को ही ढाई लाख का गिफ्ट दिया ………….सुनते हैं की 1 00 करोड़ से ज्यादा खर्च हो गया एक शादी में ……….पूरी दुनिया में इस शादी के चर्चे रहे ……….RECEPTION .में सोनिया गांधी , शाहरूख खान और ऐश्वर्य राय जैसी हस्तियाँ पहुंची थी …………रईस लोग आहें भर रहे थे ….काश हम भी अपनी बिटिया ऐसे ही ब्याह पाते ………इन ख़बरों को पढ़ के याद आया ….सोने की चिड़िया है हिन्दुस्तान

पिछले दिनो अपने दिग्गी राजा ….यांनी कि मध्य प्रदेश की राघो गढ़ रियासत के राजा ….अपने दिग्विजय सिंह जी फरमा रहे थे की A , B , C , तीन टीमें थी RSS की , सो एक , यानी राम देव को तो कुचल दिया ……और बाकी को देख लेंगे …………और ये तो वो हमेशा से बोलते आये हैं की बाबा नहीं ठग है …..चोर है ….बिजनेस करता है ………….हाथ पैर बाँध के नदी में फेंक देना चाहिए ………और न जाने क्या क्या . इसके अलाव हमारा मीडिया भी अक्सर उनसे ये पूछता है ……हाय इतनी सारी दौलत ……इतनाआआआआआ सारा रुपया है आपके पास ….इतनी सारी दवाईयाँ बेचते हैं आप ……इतने बड़े बिजनेस मैन है , बड़ी गाडी में चलते हैं ……चार्टर प्लेन में उड़ते हैं ……….वगैरा वगैरा …..अब इतने दौलत मंद आदमी ….इतने बड़े रईस से ईर्ष्या होना तो स्वाभाविक है ………….

अब चूँकि मैं पातंजलि योग पीठ से जुड़ा हूँ ….वहाँ महीनों रहा हूँ ………वहाँ की एक एक चीज़ को गौर से , बड़े नज़दीक से देखा है ………..एक बात तो मैं भी मानता हूँ ….बाबा है वाकई रईस …..इसमें कोई शक नहीं …………लोग कहते हैं की आज से मात्र 18 साल पहले बाबा हरिद्वार की गलियों में साइकिल पे चलता था …..बात सही है …सुनते हैं की एक बार बाबा ने एक पंसारी से हज़ार रु की जड़ी बूटिया उधार मांगी थी और उसने मना कर दिया था ….वही बाबा आज 1100 करोड़ का मालिक हो गया ………..फ़कीर था……. रईस हो गया…..बड़े नज़दीक से देखा है मैंने बाबा को ………मीडिया को रईस दिखता होगा बाबा ….पर आज भी सचमुच फ़कीर है …………

वो अलग बात है की बाबा ने मात्र 5-7 सालों में एक साम्राज्य खड़ा कर दिया है…..पर किसके लिए ……….एक किस्सा सुनाता हूँ ……..देश के एक TOP BOXING COACH अपने 30 स्टुडेंट्स को ले कर पतंजलि आना चाहते थे ….योग सीखने ……6 दिन का शिविर लगाना चाहते थे ……..उन्होंने मुझसे संपर्क किया ………वो पूछने लगे क्या खर्च आएगा ………. मैंने कहा कुछ ख़ास नहीं …….3 दिन यहाँ धर्मशाला में फ्री में रहने को मिलेगा…..बाकी तीन दिन का 50 रु के हिसाब से एक Bed का दे देना ….और बाकी भोजन पानी तो फ्री मिलता ही है तीनों समय ………. सो उन्होंने हाँ भर दी ….मैं इस सम्बन्ध में आचार्य बाल कृष्ण जी से मिला ….पूरी बात बतायी …….वो बोले क्या बात करते हो ….राष्ट्रीय स्तर के खिलाड़ी …धर्मशाला में रुकेंगे ……….नहीं Residential Blocks में AC Rooms में रुकवाओ ……..खिलाड़ी हैं इसलिए अलग से भोजन की विशेष व्यस्था करवाओ ….दूध घी मक्खन पनीर फल फ्रूट हर चीज़ की व्यस्था करो …

लाने के लिए स्टेशन पे बस भेजो …………… वो तीस खिलाड़ी 7 दिन वहाँ योग पीठ में रुके …..योग सीखा ……..सबके Medical Chekup हुए …..एकदम फ्री ………आज योग पीठ में सैकड़ों हज़ारों लोग पूरे देश से आते है योग सीखने और इलाज कराने …………..धर्मशाला है वहाँ ….3 दिन तक फ्री रुकने की व्यस्था ……..इसके बाद 50 रु Bed ( ठलुए मुफ्त खोरों को रोकने के लिए ) ….दिन रात फ्री लंगर चलता है ……….इतना बड़ा आयुर्वेदिक अस्पताल है ….फ्री सेवा ……….जो लोग धर्मशाला में नहीं रुकना चाहते उनके लिए 150 से ले के 400 रु Bed तक की Cooler और AC रूम में सुविधा ………..इसके अलावा जो दवाईयाँ वहाँ आश्रम में मिलतीं हैं उनकी कीमत बाज़ार में बिकने वाली अन्य ब्रांड्स से 75 % से ले कर 3000 % तक कम हैं ………यानी बेहद सस्ती ……..इसके अलावा बाबा के सैकड़ों सेवा प्रकल्प चल रहे हैं ………..कितने ही गुरुकुल आज बाबा के अ नुदान और मदद से चल रहे हैं ….

लाखों योग कक्षाएं पूरे देश में फ्री चल रही है …..आज बाबा ने योग को घर घर पहुंचा दिया है ………परन्तु सारी संपत्ति ट्रस्ट की है जिसमे बाबा के अलावा उनके परिवार का एक भी सदस्य नहीं है ……उनके परिवार का एक भी कोई बैंक खाता नहीं है ……..उनके एक भाई वही हरिद्वार में काम देखते हैं और वेतन पाते हैं …….एक बड़े भाई गाँव में खेती करते हैं ……..

सुनते हैं की पुट्टपर्ति में साईं बाबा के निजी कक्ष से 7 करोड़ रुपया और 35 किलो सोना मिला था ……बाबा के निजी कक्ष में गया हूँ मैं …….वहाँ 7 रु नहीं मिलेंगे ……चटाई बिछा के सोते हैं …जमीन पे …..NON AC रूम में …….. दो जोड़ी कपडे है …..खुद धोते हैं ……….उबली हुई सब्जी और एक गिलास दूध ….यही भोजन है …..बाबा कहते हैं ….मेरा क्या है ? सब आपका है ….आपके लिए है …आपके पैसे से बना है ॥बाबा की कौन सी बेटी है जिसके 18000 बारातियों को पकवान खिलाने हैं …….दहेज़ में BMW देनी है ……….अलबत्ता उन मुक्केबाज लड़कियों को देख के बोले ये मेरी बेटियाँ हैं ….इन्हें ओलम्पिक के लिए तैयार करो ……कोई चिंता मत करना …मैं हूँ न ……..

एक फ़कीर ने हम आम हिन्दुस्तानियों के लिए इतना कुछ बना दिया ……योग सिखा दिया ………..पर मीडिया और नेता मुकेश अम्बानी और कँवर सिंह तंवर सारीखों का गुणगान करते है , तलवे चाटते हैं ………..बाबा को ठग और चोर बताते हैं …

ऐसे हैं हमारे परम पूजनीय स्वमी रामदेव जी जो देश के लिए इतना कुछ कर रहे हैं , आज इसलिए हम स्वामी जी के साथ हैं और स्वामी जी के लिए कुछ भी कर सकते हैं !

Leave a Reply

10 Comments on "स्वामी रामदेव जी ठग या फ़कीर"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
rp agrawal
Guest

इस देश में बड़ी संख्या में अछे संत है ,कथावाचक है rss के लोग भी अच्छा कम कर रहे है ,युगनिर्माण गायत्री परिवार ,अथाव्लेजी ,रामकृष्ण मिसन ,विवेकानंद केंद्र और अनेको अछि अछि संस्थाए कम कर रही है परन्तु भीर भी इस देश में नेतिकता ,देशभक्ति की जगह घोर अनाचार, अत्याचार,लुट खसोट ,रिश्वतखोरी बेईमानी ,देश्द्रोहिता ,छलकपट,गेरजीम्मेदारी की परकस्ता ही दिखाई दे रही है !क्या हो गया है इस देश को

डॉ. मधुसूदन
Guest

बहुत सुन्दर लेख.
नगर जी-
उन्हें क्या करना या ना करना, उनका अधिकार है|
उन्हें सुझाव दे सकते हैं, करना ना करना उनका अधिकार है|
वे क्या किसीके दास थोड़ी ही है?
आप यदि इतनी प्रबल इच्छा रखते हैं, तो आपको किसने रोका है?

आर. सिंह
Guest

अंबानी की जगह भूल से अडवानी लिख गया,इसके लिए क्षमा चाहता हूँ.

आर. सिंह
Guest
बाबा के सम्बन्ध में प्रश्नोतर तो चलते ही रहेंगे.मैं तो विज्ञान का छात्र हूँ और उस पर भी नास्तिक,अतः चमत्कारों में विश्वास करने का प्रश्न नहीं उठता.बाबा ने यह अकूत सम्पति इतने कम समय में जमा की है.अगर इसमे सबकुछ साफ़ साफ़ है,कहीं कोई गड़बड़ी नहीं है और न उन्होंने अनाप सनाप मुनाफ़ा कमाया है तो यह प्रबंधन क्षेत्र के शोध कर्ताओं द्वारा शोध का विषय है.अडवानी या तंवर सिंह क्या करते हैं,यह तुलना यहाँ सार्थक नहीं है.ऐसे यह वैसा ही है जैसे किसी लकीर को बिना कांटे छाटें छोटी करना,उसके आगे एक बड़ी लकीर खींच कर ..
m.m.nagar
Guest

अर्ध सत्य है ये सब…पुराने ज़माने मैं ये बाबा मेरे पास के ही गाँव में गन्ने ढोया करते थे …अब ट्रस्ट के एक छात्र शशक व् अरबों की संपत्ति के बीच रहते हैं यदि बिना मुनाफा दवा देते तो छपर भी पास न होता …अबतो भाव और भी बढ़ गए हैं…ए सि तो छोडो दर्शन के भी पैसे लगते हैं मैंने मेडिकल कॉलेज के ब्र्हश्ताचार सि लड़ने की बात मेल सि भेजी तो गोल कर गए क्यों की न तो उस्ससे धन मिलता न ही प्रचार आप इनसे कितना लाभ व् धन पाते हैं.???? …….

wpDiscuz