बदलता ज़माना

Posted On by & filed under कविता

-मिलन सिन्हा-    बैसाखियों पर चलनेवाले दे रहे हैं लेक्चर कैसे खुद अपने पैरों पर खड़ा हुआ जाता है ! दूसरों का टांग खींच कर आगे बढ़नेवाले बता रहे हैं आपका आचरण कैसा हो ! दूसरों के कंधों को सीढ़ी बनाकर ऊपर उठने वाले उपदेश दे रहे हैं ! कैसे आकाश की बुलंदियों को छुआ… Read more »