लेखक परिचय

श्याम नारायण रंगा

श्याम नारायण रंगा

नाथूसर गेट पुष्करना स्टेडियम के नजदीक बीकानेर (राजस्थान) - 334004 MOB. 09950050079

Posted On by &filed under विविधा.


श्‍याम नारायण रंगा

हमारे समाज में और आस पास के माहौल में काफी दोहरे मुँह वाले लोग रहते हैं। लोग कहते कुछ और हैं और करते कुछ और हैं। व्यक्ति के कहने और करने में बिल्कुल भिन्नता रहती है। यही प्रवृति आज समाज में सारी और दिखाई दे रही है। हालात ऐसे हो गए हैं कि ये समझ पाना मुश्किल हो गया है कि कौन कैसा है और पता नहीं कब किस रूप में सामने आ जाए। चारों तरफ ऐसे झूठ का माहौल है कि सारे वातावरण में झूठ ही झूठ घुलामिला नजर आता है। व्यक्ति की उपस्थिति उसके झूठी उपस्थित नजर आती है। आज कोई भी व्यक्ति किसी का असली चेहरा नहीं जान पाता है।

उदाहरण के लिए हम बात करें तो व्यक्ति आदर्श व समझ की बड़ी बड़ी बातें करता है परन्तु जब उसके सामने उन आदर्शों और उपदेशों को अपनाने की बात आती है तो यह कहकर पल्ला झाड़ लेता है कि ये तो सिर्फ कहने की बातें है अपनाई थोड़ी जाती है। मतलब जो बात उसने खुद ने कही उसे ही वह अगले ही पल मानने या उसके अनुसार चलने से मना कर देता है।

इस संदर्भ में एक कहानी मेरे जेहन में आती है कि एक सेठजी रोज एक महात्मा जी का प्रवचन सुनने जाते थे और महात्मा जी का बड़ा सम्मान भी करते थे। महात्मा के गुणगान सबके सामने ऐसे गाते थे जैसे उनके समान कोई और महात्मा है ही नहीं। ये महात्मा जी अपने प्रवचनों में रोज प्रत्येक जीव के प्रति प्रेम करने की बात कहते और प्रत्येक जीव को न मारने का प्रवचन देते थे। एक दिन सेठ जी इस सत्संग में अपने बेटे को भी लेकर गये। बेटे ने बड़े श्रद्धा से प्रवचन सुना। सेठ जी अगले ही दिन बेटे को अपनी दुकान पर ले गए और दुकान बेटे के भरोसे छोड़ खुद प्रवचन सुनने चले गए। पीछे से दुकान में एक गाय ने मुँह मार लिया और वहाँ पड़ा सामान खाने लगी। यह देखकर बेटा गाय के पास बैठ गया और उसे सहलाने लगा। थोड़ी देर में सेठजी आए और यह दृष्य देखकर आग बबूला हो गए और बेटे को भला बुरा कहने लगे तो बेटे ने महात्मा जी का उल्लेख करते हुए कहा कि गाय को कैसे हटाता, वह तो अपना पेट भर रही थी और उसे मारने पर जीवों पर हिंसा होती। सेठजी समझ गए और तुरंत बोले कि बेटा प्रवचन सिर्फ सुनने के लिए होते हैं और उस पाण्डाल तक के ही होते हैं, वहाँ के प्रवचन दुकान पर नहीं लाए जाते सो आगे से ध्यान रखना।

कहने का मतलब यह है कि सब लोग जानते हैं कि सच क्या है और झूठ क्या तथा सही क्या है और गलत क्या और मजे की बात यह है कि सारे लोग आपस में चर्चा सही सही बातों की करते हैं और हर वक्त अपने आप को सही साबित करने की कोशिश में ही लगे रहते हैं। प्रत्येक व्यक्ति का अपने दोस्तों के सामने और समाज के सामने ऐसा ही व्यवहार होता है जेसे सारा संसार तो गलत है पर मैं एकदम सही हूँ और सत्य के मार्ग पर चलता हूँ। प्रत्येक व्यक्ति हर वक्त यही साबित करने में लगा रहता है कि मैं एकदम सही हँ ओर कभी गलत नहीं करता हूँ। मतलब यह है कि ऐसा प्रत्येक व्यक्ति सही और गलत की अच्छी समझ रखता है और पहचान सकता है कि कौनसी बात सही है और कौनसी गलत है। परन्तु जब व्यवहार में उस बात को अपनाने की बात आती है तो सब के सब पीछे हट जाते हैं और व्यवस्था और सिस्टम की दुहाई देकर अपना पल्ला झाड़ने की कोशिश करते हैं।

प्रत्येक व्यक्ति को मालूम है कि झूठ नहीं बोलना चाहिए, भ्रश्टाचार नहीं करना चाहिए, सत्य का सहारा लेना चाहिए, चापलूसी नहीं करनी चाहिए, धर्म पर चलना चाहिए, कपट और धोखा नहीं करना चाहिए आदि आदि लेकिन ये सब कुछ जानने के बाद भी व्यक्ति इन बातों को मानता नहीं है। वह झूठ बोलता है, जमकर भ्रश्टाचार करता है, परनिंदा करता है, अधर्म और भ्रष्‍ट व्यक्तियों का साथ देता है, अपने राश्ट्र ये गद्दारी करता है। इसका यह मतलब हुआ कि प्रत्येक व्यक्ति जानबूझकर यह सब करता है और वह जानता है कि उसे ऐसा नहीं करना चाहिए फिर भी वह करता है और मानता नहीं है।

हमारे धर्मगुरू, कवि, नेता, वकिल, डॉक्टर, पत्रकार आदि आदि सभी वर्गों के लोग एक दूसरे के सामने बड़ी सैद्धान्तिक और समझ की बातें करते हैं लेकिन जैसे ही अपनी गद्दी से उतरते हैं या माहौल से हटते हैं सब भूल जाते हैं। धर्मगुरू एक गद्दी पर बैठ कर सन्यास, बैराग, धर्म, परोपकार, सच, आस्था, भक्ति, त्याग, बलिदान की बातें करते हैं परन्तु जैसे ही भाशण पूरा होता है वे ही महँगी गाड़ियों में सवारी करते हैं और एयरकन्डीसन्ड कमरों में जीवन बीतातें हैं और ऐसे भी मामले आए हैं कि ये धर्मगुरू भोग, लिप्सा व वासना के चक्रव्यूह में फॅंसे रहते हैं। इसी तरह वकील कानून की बात करता है उसकी रक्षा करने की बात करता है परन्तु यह जानते हुए कि अमुक व्यक्ति ने हत्या की है उसे बचाने का प्रयास किया जाता है। ऐसे कितने वकील है कि जिन्होंने यह जानकर अपना क्लाईंट छोड़ दिया कि क्लाइन्ट गलत है। डॉक्टर बातें बहुत करते हैं लेकिन भारी भरकम फीस के बिना देखने वाले डॉक्टरों की संख्या बहुत कम है। मेरे कहने का यही सार है कि किसी को भी यह समझाने की जरूरत नहीं है कि उसे क्या करना चाहिए क्योंकि प्रत्येक वर्ग का व्यक्ति यह जानता है कि वह कर क्या रहा है और करना क्या चाहिए। उसे सही गलत में भेद करना आता है पर वह करता नहीं है।

यही कारण है कि आज हमारे देष में इतनी समस्याएँ हैं। हमारी कथनी करनी में भेद है। प्रत्येक व्यक्ति अगर अपनी कथनी और करनी में फर्क करना बंद कर दे तो सारी समस्याएं ही समाप्त हो जाएंगी। व्यक्ति जैसा अपने आप को समाज और दोस्तों के सामने प्रकट करता है वेसा ही व्यवहार अपने जीवन में करना शुरू कर दे तो हमें किसी अन्ना हजारे या किसी समाज सुधारक ही जरूरत ही नहीं पड़ेगी। हमें जरूरत है कि हम सब अपने आप को सुधार लें और जो जो अच्छी और सही बातें हम जानते हैं उसे मानना भी शुरू कर दे और खुद अपनी समझ से काम लेना शुरू कर दें। बोलने व करने के इस भेद ने आज हमें ऐसे चौराहे पर ला खड़ा कर दिया है कि हम किसी पर भी भरोसा नहीं कर पा रहे हैं। पता नहीं कब कौन धोखा दे जाए आज मनुष्‍य का मनुष्‍य पर से और अपनों का अपनों पर भरोसा उठ गया है। आज सच्चे और ईमानदार रिश्‍तों का जो अभाव समाज में देखा जा रहा है वह इसी कारण है कि हम अपनी कथनी करनी में भेद कर कर हैं। संशय भरे इस माहौल में कोई भी किसी पर भी विष्वास नहीं कर पा रहा है। सब को यह डर लगा रहता है कि क्या पता कब कौन पलट जाए। आज आम आदमी की यह सोच बन गई है कि यार हम किसी से अपने संबंध क्यों खराब करें बस थोड़ा भला बोलना ही तो है भले ही वह झूठ हो और इसी प्रवृति ने इस समस्या को जन्म दिया है। हम सत्य बोले प्रिय बोले और असत्य प्रिय न बोले तभी समाज का भला होगा और तभी राष्‍ट्र का भला होगा। हम अपनी कथनी और करनी में एकता लाएँ और जो जानते हैं उसे मानना भी षुरू करे तो निश्‍चय ही समाज में समझ का माहौल बनेगा और हम निरंतर विष्वास के रिश्‍तों में बंधकर एक सुदृढ़ समाज और ईमानदार राष्‍ट्र का निर्माण कर सकेंगे।

Leave a Reply

7 Comments on "हम जानते हैं पर मानते नहीं"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
श्याम नारायण रंगा
Guest

आपका धन्यवाद् की आपने मेरा लेख पसंद किया और आप इससे सहमत है और उम्मीद है आगे भी आप लोगो के होस्लाफजई मिलती रहेगी आप लोगो का ye pyar hi है की mai आगे se आगे likhta rahta hu

Insaan
Guest
हम जानते हैं पर मानते नहीं क्योंकि इन दो क्रियाओं के परस्पर कार्यरत हो पाने को देश में अनुकूल वातावरण उपलब्ध नहीं है| प्रवक्ता.कॉम पर लेखकों और टिप्पणीकारों ने इस चिंताजनक स्थिति को लेकर कई समाधान सुझाए हैं| अधिकतर सुझाव व्यक्तिवाद में लिप्त भारतीय से स्वयं कुछ कर लेने की अपेक्षा तक ही सीमित हैं| इसके विपरीत आज के उपभोक्तावाद युग में वो सभी संभावनाए उपस्थित हैं जिन्हें व्यक्तिगत जीवन में किसी तरह पूरा करने को लालायित सामान्य भारतीय पारंपरिक नैतिकता खो बैठा है| भारतीय जीवन में इस दुःखद परिवर्तन को समझने के लिए मैं प्राय: गाय को खूँटी से… Read more »
rekha singh
Guest
जीवन मे व्यवहारिकता के तौर पर कहने से करना कठिन है जैसे की अधिकार जताना आसान है परन्तु कर्तव्यों को निभाना बहुत कठिन | हम व्यक्तिगत रूप से जब भी कुछ करना चाहते है तो बहुत सारी कठिनाईया आती है | इस प्रकार कभी न चाहते हुए भी हम गलत कर बैठते है परन्तु एक संस्कारवान व्यक्ति अपने को बार बार गलत करने से बचाता है | मूलभूत रूप से ऐसे लोग चाहे जिस पद पर हो समाज के आदर्श होते है | संस्कार हमे अपने माता पिता एवं अपने आस पास के लोगो एवं वातावरण से प्राप्त होता है… Read more »
डॉ. मधुसूदन
Guest
मीणा जी को पढकर लिख रहा हूं। मेरे विचारसे, समाज में निम्न प्रकारकी आपसी प्रक्रियाएं चलते रहती है। वैसे यह विषय संदिग्ध है, पर कुछ वैचारिक स्तरपर मेरी सोच प्रस्तुत। तीन प्रकारसे लोग व्यवहार सीखते हैं। {क} (१) वें, जिन का कोई भला करता है, तो वे भी भलाई करना चाहकर दूसरों की भलाई करना सीख जाते हैं। सतसंग से भी यह बरताव सीखा जा सकता है। यही प्रक्रिया बूराई की भी हो सकती है। (२) दुर्जन इससे विपरित होते हैं। जिनका आप भला भी करें, तो भी वे अपनी बुराई छोड नहीं सकते। वे संसार में बुराई ही करती… Read more »
शैलेन्‍द्र कुमार
Guest
जैसे एक परिवार में सभी व्यक्ति समझदार नहीं होते तो एक व्यवस्था में सभी व्यक्ति समझदार कैसे हो सकते है, जब किसी व्यक्ति के आस पास के लोग गलत संसाधनों का इस्तेमाल करके आर्थिक रूप से समृद्ध हो जाते है और समाज में ये प्रचारित कर दिया जाता है की आर्थिक समृद्धि ही सफलता का पैमाना है और बालमन से ही हम इस प्रचार के जाल में फंस जाते है तो व्यस्क होकर सज्जन व्यक्ति बन पाना एक दुरूह कार्य हो जाता है, पिछले २००० सालों में समाज में आई ये गिरावट एक दिन में दूर नहीं की जा सकती,… Read more »
wpDiscuz