सत्य सनातन वैदिक सिद्धान्तों के प्रभावशाली प्रचारक थे कीर्तिशेष प्रा. अनूप सिंह

आज 20वीं पुण्यतिथि पर श्रद्धांजलि

मनमोहन कुमार आर्य

                आज आर्य विद्वान कीर्तिशेष श्री अनूप सिंह जी की 20वीं पुण्य तिथि है। इस अवसर पर हम उनको सादर नमन करते हैं। हम उनके ऋणी हैं। उनके व्यक्तित्व से हम प्रभावित हुए थे। हमारा आर्यसमाज की सदस्यता ग्रहण करने का कारण जहां ऋषि दयानन्द जी का महान व्यक्तित्व व वैदिक धर्म के सत्य सिद्धान्त थे, वहीं हम पर श्री अनूप सिंह जी का प्रभाव भी पड़ा था। हम आर्यसमाज मन्दिर व संस्था तक अपने एक पड़ोसी सहपाठी मित्र श्री धर्मपाल सिंह जी के द्वारा ले जाये गये थे। वह हमें प्रत्येक रविवार को अपने साथ सत्संग में ले जाते थे। हमने कुछ ही महीनों में वहां अनेक विद्वानों को सुना तथा वहां आर्य भजनोपदेशकों के भजनों व गीतों से भी प्रभावित हुए थे। प्रत्येक रविवार को आर्यसमाज में होने वाले यज्ञ में भी हम भाग लेते थे। हमने पुस्तकों के माध्यम से यज्ञ व इसके लाभों को जाना था। उन दिनों व आज भी हमें आर्यसमाज के समान महान उद्देश्यों से युक्त देश व समाज का हित व कल्याण करने वाली दूसरी कोई संस्था नहीं देखते। अतः सत्यार्थप्रकाश एवं कुछ अन्य वैदिक साहित्य के अध्ययन, आर्यसमाज के विद्वानों व सदस्यों के चमत्कारी व्यक्तित्व व प्रभाव सहित श्री अनूप सिंह जी तथा श्री धर्मपाल सिंह जी के व्यक्तित्व से प्रभावित होकर हम आर्यसमाजी बने थे।

                आर्यसमाज ईश्वर के सत्यस्वरूप को मानता है जो कि सच्चिदानन्दस्वरूप, निराकार, सर्वशक्तिमान, सर्वज्ञ, सर्वव्यापक, अनादि, नित्य, न्यायकारी तथा जीवों को कर्मानुसार जन्म देने वाला तथा सृष्टिकर्ता है। उसी को जानकर उपासना करने से मनुष्य के सभी दुःख दूर होते हैं और आत्मा को मोक्ष की प्राप्ति होती है। आर्यसमाज त्रैतवाद के सिद्धान्त को मानता व उसका प्रचार करता है। यही सिद्धान्त वस्तुतः सत्य एवं यथार्थ है। आर्यसमाज की मान्यता है कि ईश्वर ने आज से 1.96 अरब वर्ष पूर्व सृष्टि को उत्पन्न कर वनस्पतियों सहित मानव को जन्म दिया था। मानव को युवावस्था में अमैथुनी सृष्टि में जन्म देकर उसे चार वेदों का ज्ञान चार ऋषियों अग्नि, वयु, आदित्य एवं अंगिरा को उनकी आत्मा में अन्तःप्रेरणा द्वारा दिया था। इसका सविस्तार वर्णन सत्यार्थप्रकाश में देखा व जाना जा सकता है। ऋषि दयानन्द द्वारा सत्यार्थप्रकाश में दिया गया वेदों के आविर्भाव का विवरण तर्क एवं प्रमाणों से युक्त है। उनकी मान्यता है कि वेद सब सत्य विद्याओं का पुस्तक है। यही वैदिक परम्परा भी है और सभी ऋषि मुनि व सनातनी विद्वान भी इसे मानते हैं। वेद में कहानी किस्से, ज्ञान विज्ञान विरुद्ध कोई बात तथा अविश्वसीय कथायें आदि नही है। मनुष्य का सम्पूर्ण विकास वेद ज्ञान से होता है और मनुष्य को वेदों से ही ईश्वर व आत्मा सहित प्रकृति व सृष्टि का सत्य स्वरूप भी विदित होता है। वेद मनुष्य जीवन को मोक्ष प्राप्ति का द्वार बताते हैं जो कि सत्य ही है। इसी कारण से ऋषि पंतजंलि ने योगदर्शन लिखकर मनुष्य को अष्टांग योग द्वारा समाधि को प्राप्त कर ईश्वर के साक्षात्कार करने का सत्य विज्ञान व दर्शन दिया है। ऋषि दयानन्द भी योगदर्शन को वेदानुकाल एवं मान्य आर्ष ग्रन्थों में सम्मिलित व परिगणित करते थे।

                हमने आर्यसमाज का सदस्य बन कल आचार्य अनूपसिंह जी के पूरे जीवनकाल में उनका सान्निध्य प्राप्त किया। उनकी संगति से ही हमें स्वाध्याय एवं लेखन की प्रेरणा मिली थी। उनके साथ हम दिल्ली, लखनऊ, हरिद्वार, मसूरी आदि अनेक स्थानों पर भी गये थे। हमने अपने जीवन में उनके दर्जनों प्रवचनों को सुना था और उनसे गहराई से प्रभावित हुए थे। उन्होंने न केवल देहरादून आर्यसमाज व अन्य अनेक धार्मिक संस्थाओं में धर्म प्रवचन किये थे अपितु वह देश के अनेक आर्यसमाजों के उत्सवों व अन्य अवसरों पर भी वेद प्रचार हेतु उपदेशार्थ जाते थे। आचार्य प्रा. अनूप सिंह जी गोमाता के रक्षक एवं प्रेमी थे। उनके द्वारा आरम्भ साप्ताहिक पत्र अनूपसन्देशआज भी प्रकाशित होता है। प्रा. अनूप सिंह अपने पत्र के प्रत्येक अंक में किसी क्रान्तिकारी के त्यागमय जीवन के उदाहरण प्रस्तुत करते रहते थे। उन्होंने गोरक्षा के महत्सव पर हमसे एक लेख लिखवाकर प्रकाशित किया था। वह लेख हमारे जीवन का आरम्भिक लेख था। आचार्य जी को प्रायः सभी क्रान्तिकारियों एवं बलिदानियों के त्याग व बलिदान की जानकारी थी। वह सभी क्रान्तिकारियों के जीवनों पर व्याख्यान दिया करते थे। वह पत्रकार एवं प्रतिष्ठित लेखक थे। उनकी एक पुस्तक बाइबिल के गपोड़े भी प्रकाशित हुई थी। वीर विनयायक सावरकर के भी वह अनन्य भक्त थे। उनकी प्रेरणा से हमने मोपला विद्रोह एवं गोमांतक जैसे वीर सावरकर की कालजयी पुस्तकें पढ़ी थी। वैदिक धर्म एवं योग के वह अनन्य प्रेमी थे। योग के विख्यात आचार्य एवं समाधि सिद्ध योगाचार्य स्वामी योगानन्द सरस्वती उनके गुरु व मित्र. थे। प्रा. अनूप सिंह जी ने वर्षों तक उनका सान्निध्य प्राप्त किया था। महात्मा आनन्द स्वामी जी के योग गुरु भी स्वामी योगानन्द सरस्वती जी थे। इनका योग आश्रम ऋषिकेश में योग निकेतन के नाम से आज भी कार्यरत है। यदि आचार्य अनूप सिंह जी कुछ वर्ष और जीवित रहते तो वैदिक धर्म के प्रचार से और अधिक सेवा करते। आज उनकी बीसवीं पुण्यतिथि पर हम उन्हें अपनी श्रद्धांजलि देते हैं।                 हमने उनके जीवन से प्रेरणा लेकर वैदिक विषयों पर लेखन कार्य को अपनाया व अब भी जो कुछ बन रहा है, वह कर रहे हैं। ईश्वर से हम प्रार्थना करते हैं कि प्रा. अनूपसिंह जी जैसे योग्य विद्वान व उत्साही वैदिक धर्म प्रेमी युवा प्रदान हमारे देश वसमाज को करें जो अपनी वेदयुक्त मेधा एवं कार्यों से वैदिक धर्म का आचरण व प्रचार करते हुए ऋषि दयानन्द के कार्यों को आगे बढ़ायें एवं कृण्वन्तों विश्वर्मायम् के लक्ष्य को सिद्ध करने में सहायक हों

Leave a Reply

27 queries in 0.334
%d bloggers like this: