आज चली उसकी मरजी

ड्राइंग रूम की दीवारों पर,
लिखी रमा ने ए. बी. सी.
न जाने वह चाक कहां से,
नीले रंग की ले आई।
अक्षर टेढ़े मेढे लिखकर,
बड़ी जोर से चिल्लाई।
देखो अक्षर अंग्रेजी के
लिख डाले मैंने दीदी।
चू ने से कुछ दिन पहले था,
पुत वाया पापा ने घर।
चाक रगड़ कर उल्टी सीधी,
उसने बना दिए मच्छर।
मम्मी ने रोका उसको तो,
मा री किलकारी हंस दी।
भैया ने पकड़ा जैसे ही,
शोर मचाया जोरों से।
चिड़िया घर बन चुकीं दीवारें,
रंगी चाक की कोरों से।
नहीं किसी की भी चल पाई,
आज चली उसकी मरजी।

Leave a Reply

%d bloggers like this: