मातृभूमि भारतमाता की ,
एक राष्ट्रभाषा हिन्दी हो ।
बँधें सभी हम एक सूत्र में,
हिन्दी तेरी सदा विजय हो ।।
जग में और संयुक्तराष्ट्र में ,
स्वाभिमान भारत का जागे ।
गौरव से  गूँजे हिन्दी स्वर,
भारत की संस्कृति की जय हो ।।
हों स्वदेश में या विदेश में,
दृढ़ संकल्प सदा हो मन में ।
भारतवासी मिलें जहाँ भी,
सम्भाषण हिन्दी में ही हो ।।
हिन्दी तेरी सदा विजय हो ।
जय हो, जय हो, जय हो , जय हो ।।

Leave a Reply

%d bloggers like this: