कोई मेरा क्‍या कर लेगा

जगमोहन फुटेला

कवि ओमप्रकाश आदित्य की एक कविता सुनी थी कोई पैंतीस साल हुए रुद्रपुर के एक कवि-सम्मलेन में. शीर्षक था, “कोई मेरो का कल्लेगो” (कोई मेरा क्या कर लेगा). अब वो कविता शब्दश: याद नहीं. लेकिन उस कविता का पात्र दुनिया भर की हरामज़दगी करने की बात कहता है. इस चुनौती के साथ कि खुद भ्रष्ट और कुछ करने को अनातुर व्यवस्था उसका कर क्या पाएगी. निर्मल बाबा वही हैं. व्यवस्था भी वैसी. सारे देश को बुद्धू बना रहा है वो सरेआम. मगर व्यवस्था है कि कुछ करने को आतुर नहीं है. आज वो इस स्थिति में है कि व्यवस्था को अपनी रखैल बना सके.

रुद्रपुर में ही मेरा एक दोस्त कहा करता था, दुनिया में मूर्ख बनने वालों की कमी नहीं है, बस बनाने वाला चाहिए (उसने तो मूर्ख की जगह कुछ और कहा था, लेकिन मैं शालीनता की खातिर उस से मिलते जुलते इस शब्द का इस्तेमाल कर रहा हूँ). निर्मल बाबा ने वो कर के दिखा दिया है. उस की कलाकारी देखिए कि जिन चैनलों पे उस के खिलाफ(?) बोला जाता है उन्हीं पे उस की प्रशंसा के कार्यक्रम चलते हैं. भले ही विज्ञापन के रूप में. उसके चालू और चैनल के भड़भूजेपन का आलम ये है कि वो खुद अपने इश्तहारी कार्यक्रम में अपनी आलोचना कराता है और फिर उसी में अपना गुणगान. ऊपर कोने में चैनल का लोगो है ही. लगता है कि चैनल पे जो आलोचना हुई थी वो चैनल ने अपनी तरफ से तारीफ़ में बदल दी है. मज़े की बात ये है कि जब तारीफ़ वाला हिस्सा आता है तो ऊपर विज्ञापन भी लिखा नहीं होता. ‘विज्ञापन’ शब्द भी लगातार नहीं है. कभी आता है, कभी जाता है. चैनल चापलूस हो गया है. इतना दम है बाबा के पैसे में कि वो उसके आगे बोरी बिछा के लेटने को तैयार है. निर्मल बाबा का विरोध भी चैनल भड़वागिरी के तरीके से कर रहे हैं. सच तो ये है कि बाबा के खिलाफ(?) इस तरह के प्रचार से उसका प्रसार और ज्यादा हो रहा है. सुना है बाबा अपने भक्तों में वो सीडियां बंटवा रहा है. ये बता के देखो जिन चैनल वालों ने उसके खिलाफ दुष्प्रचार किया वो खुद अब उसकी तारीफ़ कर रहे हैं. लोग और ज्यादा बेवकूफ बन रहे हैं. भीड़ बढ़ रही है. आमदनी भी और इस उपकार के बदले में चैनलों को मिलने वाली विज्ञापन-राशि भी.

अब कोई चमत्कार ही हो जाए तो बात लगा है वरना आप नोट कर के रख लो. बाबा का कुछ नहीं बिगड़ने वाला. खासकर उसके खिलाफ हो दर्ज हो रही इस तरह की शिकायतों के बाद. अपन को तो ये शिकायतें भी फर्जी और अपने खिलाफ खुद दर्ज कराई लगती हैं. बेतुकी और बेसिरपैर की. मिसाल के तौर पर कि मैंने बाबा के कहने से खीर खाई. मुझे शुगर हो गई. अब इस एक शिकायत को ही सैम्पल केस मान लें. क्या सबूत है कि बाबा ने मीठी खीर खाने को कहा ही था? खीर क्या कोई ज़हर है? माना कि डायबिटीज़ हो तो नहीं खानी चाहिए. मगर क्या बाबा को बताया गया था कि भक्त मधुमेह का मरीज़ है? और अगर वो पहले से है तो उसने फिर भी क्यों खाई? खानी ही थी तो जिस डाक्टर का इलाज चल रहा था उस की राय के अनुसार क्यों नहीं खाई? और फिर ये क्या पता कि बाबा के यहाँ हो आने के बाद आपने मीठी खीर के अलावा और भी कोई बदपरहेज़ी की थी या नहीं? की या नहीं की, क्या आप लगातार अपने ब्लड शुगर की माप करते हो? करते हो तो तुरंत खीर खानी बंद कर दवा क्यों नहीं ली और नहीं करते हो तो क्या वो बाबा आ के करेगा? वकीलों दलीलों के द्वंद्व में भी जीतेगा बाबा ही. भक्त अगर भक्त है तो वैसे ही भाग जाएगा. और अगर सच में ही दुखी है तो नीचे निचली अदालत तक के वकील की फीस भी नहीं चुका पाएगा. बाबा उसको ले के जाएगा सुप्रीम कोर्ट तक.

अगर सिर्फ पेट सिकोड़ लेने की कला के साथ बाबा रामदेव बरसों पुरानी योग की पद्धति के साथ सौ पचास रूपये की दवाइयां बेच सकते हैं तो निर्मल नरूला तो सिर्फ समोसे और उस से भी सस्ते मंदिर में स्नान भर की बातें कह रहे हैं. एक आदमी को बीडी पी लेने की नसीहत भी उन ने दी. और भैया हिंदुस्तान में जो बिना पैसे के इलाज करता हो उसको लोग पूजते और वो मरे तो उसकी समाधि या मज़ार तक बना लेने तक के आदी हैं. फिर भले ही वो किसी हाईवे के बीचोंबीच किसी जानलेवा मोड़ का कारण ही क्यों न हो!

दुर्भाग्य इस देश का ये है कि वो सरासर बेवकूफों सी बातें कर के बेवकूफ बनाता जा रहा है. समझ उसके खेल को हर कोई रहा है. मगर कर कोई कुछ नहीं पा रहा. इसकी वजह भी सिर्फ कुछ न करने की इच्छा ही नहीं है. वजह ये भी है कि संतों और भक्तों के इस पावन देश में अपनी पवित्रतम नदी में कुत्तों तक की सड़ी गली लाश बहाना भी पुण्य की परिभाषा में आता है और संतई की आड़ में छोटे छोटे बच्चों के साथ भी जो कुकर्म कर डाले लोग उसे बापू (xxराम) समझ कर पूजते रहते हैं. किसी भी सरकार या प्रशासन में संतई या सुधार की आड़ में देश को शोषित या भ्रमित करने वाले ऐसे किसी भी दुश्चरित्र के खिलाफ कुछ करने साहस नहीं रहा है जिस के पीछे भक्तों क्या, महज़ तमाशबीनों की भीड़ भी हो. और निर्मल बाबा के मामले में तो भारत की दंड विधान संहिता भी जैसे मौन है. कहाँ लिखा है कि खीर खाने को कहना या धारीदार लुंगी पहनने को कहना अपराध माना जाएगा? दो हज़ार रूपये समागम में आने की फीस बाबा पहले से बता के लेता है. दसवंध लेने भी बाबा या उसके बंदे किसी के घर जाते नहीं. राम रहीम की तरह सिर पे कलगी लगा के वो अपने आप को किसी गुरु का अवतार भी नहीं बता रहा कि किसी समुदाय की धार्मिक भावनाएं आहत हो रही हों. क्या कह के पकड़ ले जायेगी पुलिस उसे? किस दफा में चालान पेश होगा? किस कुसूर की सजा मिलेगी उसे? लाख टके का सवाल ये है कि बाबाओं को भी ढोंगी मान सकने का प्रबंध और क़ानून की किताबों में वो अनुबंध ही कहाँ है जिस के न होने से निर्मल बाबा जैसे लोग लगातार जनता का शोषण और धनोपार्जन ही नहीं कर रहे. इस देश की सत्ता, व्यवस्था और आस्था का मज़ाक भी उड़ा रहे हैं. कोई मेरो का कल्लेगो की स्टाइल में!

ये व्यवस्था ऐसे ही चली तो वो दिन दूर नहीं जब किसी भी राम रहीम और रामदेव की तरह दुनिया अपने पीछे लगाए निर्मल बाबा भी आपको नेता अपने क़दमों में बिठाए मिलेंगे.

6 thoughts on “कोई मेरा क्‍या कर लेगा

  1. जगमोहन फुटेला जी मेरी प्रतिक्रिया में मेरे उग्र होने का आपको अकारण आभास हुआ है| भला मैं क्यों उग्र होऊं? और, जहां तक मूल विषय से मेरे भटकने की बात है सो तो मैं समझता हूं ऐसा संभव हो सकता है| वास्तव में आपके पूर्ण लेख में केवल दो बार प्रयोग किया शब्द “भीड़” मूल विषय है तो मैं मानता हूं कि इसका मुझे कतई संकेत नहीं मिल पाया था| हम आपकी तरह मनोविज्ञानिक तो हैं नहीं, निश्चय भूल हो गई है| आपके राजनीतिशास्त्री ने सर्वथा ठीक ही कहा है कि भीड़ द्वारा लिए हुए फैसले अक्सर विवेकपूर्ण नहीं होते| इसी कारण भीड़ को अपने लक्ष्य पर उचित प्रकार संकेन्द्रित करने हेतु दूरदर्शी नेतृत्व की आवश्यकता है|

    आपके लेख के पहले वाक्य में “कोई मेरो का कल्लेगो” कविता का पात्र दुनिया भर की “हरामज़दगी” करने की बात कहता है तो आपके रुद्रपुर में रहते मित्र का कहना कि “दुनिया में मूर्ख बनने वालों की कमी नहीं है, बस बनाने वाला चाहिए” निर्णायक रूप से उपयुक्त है| आपके मित्र नें तो मूर्ख की जगह कुछ और कहा था, लेकिन शालीनता की खातिर उस से मिलते जुलते इस शब्द का इस्तेमाल कर आपने भारी अनर्थ होने से रोक दिया है अन्यथा पिछले चौसठ वर्षों से कांग्रेस को सत्ता में बिठाये रखने वाली भीड़ में अधिकांश लोग अवश्य उग्र हुए बिना नहीं रहते|

  2. ‘आदित्य’ जी के बारे में जान कर बहुत दुःख हुआ, इंसान जी. दुर्भाग्य है कि उनके निधन की सूचना से वंचित उस दिन उनकी आत्मा की शान्ति के लिए प्रार्थना भी नहीं कर सका…. मुझे पता है कि प्रतिक्रिया करते समय आप उग्र हो जाया करते हैं फिर भी आप से निवेदन करूंगा कि आप कृपया मूल विषय से न भटका करें. आप बाबा रामदेव से रखे प्रेम, मुक्झे भी उन से कोई दुराव नहीं है. लेकिन मैंने सिर्फ ये कहा है कि भीड़ तो जिसके पीछे भी हो ले उसको व्यवस्था आसानी से छेड़ती नहीं है. वे बाबा हों, कश्मीर में पत्थर बरसाने की आदि हो चुकी भीड़, आज तक तलवार दंपत्ति के लिए जगह जगह मोमबत्तियां जलवाने वालों की भीड़ या फिर उन की जो अदालत परिसर के भीतर घुस कर प्रशांत भूषण पर हमला करते हैं और पुलिस उन्हें भी कुछ नहीं कहती. …मैंने मनोविज्ञान पढ़ा है,पत्रकार के रूप में व्यवस्था का व्यवहार भी देख ही रहा हूँ पैंतीस वर्षों से. सो अच्छी तरह जानता हूँ कि भीड़ से सत्ता भी भय खाती है. कहा भी है एक राजनीतिशास्त्री ने कि ”भीड़ के लिए हुए फैसले अक्सर विवेकपूर्ण नहीं होते”.
    आप खुद सोचिये कि अगर बाबा रामदेव को भगा देना उचित नहीं था तो क्या समागम करते बाबा निर्मल को पुलिस द्वारा खदेड़ पाना संभव है? वो लूटे, पीटे, जो करे. भीड़ जब तक उस के साथ है. कुछ नहीं हो पायेगा. जनता का लुटना बचने से कहीं ज्यादा ज़रूरी है सत्ता के लिए कि वो बाबा और उसके भक्तों के कोप के कारण न बने. इस लिए हम, आप जनता को उस के हाथों लुटते हुए देखते रहने के लिए अभिशप्त हैं.

  3. मुझे नहीं मालुम भारत में सर्वव्यापक भ्रष्टता और अनैतिकता के वातावरण में निर्मल बाबा का कोई क्या कर लेगा| लेकिन राष्ट्रवादी कवि ने “कोई मेरो का कल्लेगो” और ऐसी ही अन्य व्यंगात्मक कवितायें लिखते कहते अपने प्राण खो दिए हैं| भोपाल के समीप सड़क दुर्घटना में जून ८, २००९ दिग्गज कवि ओमप्रकाश आदित्य जी का निधन हुआ था| घातक दुर्घटना की चपेट में आये अन्य हास्य कवि, नीरज पुरी, लाड़सिंह गुर्जर, और औम व्यास थे|

  4. वैसे तो समस्त भारत में लाखों ढोंगी और पाखंडी हैं, लेकिन आज चारों ओर निर्मल बाबा की निंदा में लेख क्यों लिखे जा रहे हैं? क्या कोई दूध का जला कहीं फूक मार रहा है? होते होंगे लाख ढोंगी निर्मल बाबा; हमें उनसे क्या लेना देना? लेकिन ऐसा प्रतीत होता है कि निर्मल के साथ “बाबा” शब्द ने लेखक को पेट सिकोड़ते बाबा रामदेव का ध्यान दे उन्हें प्रस्तुत लेख लिखने को बाध्य कर दिया है| हाँ, यदि निर्मल बाबा अपना नाम बदल कर राहुल बाबा बन जाये तो आये दिन की निंदा विंदा से छुटकारा अवश्य मिल जाएगा| निःसन्देह और भी मोटी आमदनी की संभावना बनी रहेगी!

  5. मेरा मानना है कि देश में जब तक एक तथाकथित “बड़े” आदमी व एक “आम इन्सान” की आय (व संपत्ति) में कितना अंतर न्यायोचित है यह तय नहीं किया जाता…लोगबाग चमत्कारों की उम्मीद में ऐसा ही कुछ करते ही रहेंगे | आखिर सपने देखने व खरीदने पर अंकुश कैसे लग सकता है

  6. बहुत ही दुर्भाग्य है इस देश का ,कि आये दिन ऐसे ढोंगी लोगों कि पोल हमारे सामने आती रहती है , पर फिर भी हम बेवकूफ बनते रहतें हैं .आपने सही कहा कि जब हम खुद मुर्ख बनना चाहतें हैं तो उसे कौन रोक पायेगा.सामान्य समझ कि बात है कि जिस तरह के उपाय निर्मल बाबा बतातें है,उनसे ही अपने आप अंदाज लग जाना चाहिए कि यह सब तर्क कि कसौटी पर खरा नहीं है.

Leave a Reply

%d bloggers like this: