लेखक परिचय

प्रवक्‍ता ब्यूरो

प्रवक्‍ता ब्यूरो

Posted On by &filed under प्रवक्ता न्यूज़, विधानसभा चुनाव.


देहरादून। भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष अरुण जेटली ने आज उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव प्रचार के अंतिम दिन कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने कल उत्तर प्रदेश में ‘विजन डाक्यूमेंट’ नहीं बल्कि ‘डिवीजन डाक्यूमेंट’ पेश किया है क्योंकि इसमें धर्माधारित आरक्षण देने का वायदा किया गया है। इससे राष्ट्र विरोधी तत्वों को प्रोत्साहन मिलेगा।

जेटली ने संवाददाता सम्मेलन को सम्बोधित करते हुए कहा कि धर्म आधारित आरक्षण का तो इस देश के पूर्व प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू, पूर्व गृहमंत्री सरदार बल्लभ भाई पटेल तथा अन्य सभी लोगों ने विरोध किया था क्योंकि यह विचार देश को एक और विभाजन के लिए प्रेरित करता। उन्होंने कहा कि अब कांग्रेस वही कार्य कर रही है।

विदित है कि कांग्रेस ने उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए अपना दृष्टिपत्र शुक्रवार को जारी कर दिया। यह 22 पृष्ठ का है और इसका शीर्षक है- ‘विधानसभा चुनाव 2012 : नव उत्तर प्रदेश’। इसे पूरे प्रदेश में एक साथ 11 विभिन्न स्थानों पर जारी किया गया।

जेटली ने कहा कि कांग्रेस ने धर्म आधारित आरक्षण के माध्यम से देश में अब विकास और शासन के एजेंडे को बदलने की कोशिश शुरू की है। उन्होंने कहा कि पहले कहा गया कि साढ़े चार प्रतिशत आरक्षण दिया जाएगा। फिर उत्तर प्रदेश में कहा गया कि नौ प्रतिशत आरक्षण दिया जाएगा और अब कहा जा रहा है जनसंख्या के आधार पर आरक्षण दिया जाएगा।

राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष जेटली ने कहा कि मंडल आयोग के तहत हिन्दू और मुसलमानों की कुछ पिछड़ी जातियों को आरक्षण का लाभ मिल रहा है लेकिन अब धर्म आधारित आरक्षण का वायदा करके जो विजन डाक्यूमेंट पेश किया गया है वह उन पिछडों के हक को छीनने वाला साबित होगा। उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस इससे देश में सामाजिक तनाव बढ़ा कर राजनीति करना चाहती है। कांग्रेस को इस डाक्यूमेंट पर फिर से विचार करना चाहिये।

जेटली ने कहा कि कांग्रेस ने उत्तराखंड के साथ कभी मित्रतापूर्ण व्यवहार नहीं किया। जब उत्तराखंड गठित करने का समय था तब भी कांग्रेस ने साथ नहीं दिया और जब इस राज्य को आर्थिक रूप से समृद्ध करने की बात आयी तो कांग्रेस ने एक साजिश के तहत विशेष औद्योगिक पैकेज की समय सीमा को वर्ष 2013 से घटाकर वर्ष 2010 कर दिया। भाजपा ने उत्तराखंड और हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री का साथ देकर इस निर्णय का पुरजोर विरोध किया था। उन्होंने कहा कि इसके विपरीत भाजपा ने हमेशा उत्तराखंड के साथ मित्रतापूर्ण व्यवहार किया है चाहे वह अलग राज्य गठन का मुद्दा हो, चाहे आर्थिक विकास के लिये विशेष पैकेज देने की बात हो।

भाजपा नेता ने कहा कि किसी भी राज्य के शासन के लिये नेतृत्व और विश्वसनीयता दोनों महत्वपूर्ण तथ्य हैं। भाजपा को मुख्यमंत्री भुवन चंद्र खंडूड़ी के नेतृत्व में चुनाव लडने से इन दोनों तथ्यों के संदर्भ में लाभ मिलने वाला है क्योंकि खंडूड़ी नेतृत्व तथा विश्वसनीयता के मामले में खरे उतरे हैं। उनके नेतृत्व में हम चुनाव जीतते हैं तो यह अन्य राज्यों के लिए एक उदाहरण बनेगा।

जेटली ने कहा पूरे देश में कांग्रेस विरोधी लहर है। केन्द्र में कांग्रेस की सरकार की कोई साख नहीं है। आर्थिक मोर्चे पर यह सरकार नाकाम रही है। भ्रष्टाचार के नये आयाम उभरकर सामने आये हैं। उन्होंने कहा कि दूसरी ओर उत्तराखंड में भाजपा सरकार का कार्यकाल बेहद अच्छा रहा है। स्वास्थ्य चिकित्सा सेवाओं का अच्छा विकास हुआ है। उन्होंने कहा कि खंडूड़ी के ईमानदार होने का पार्टी को राजनैतिक लाभ मिलेगा और यह विषय भी पूरे देश में मजबूती से उभरेगा।

One Response to “पूरे देश में है कांग्रेस विरोधी लहर : जेटली”

  1. Jeet Bhargava

    बिलकुल सही बात कही आपने. लेकिन बात तो तब बनेगी जब आप लोग इस लहर का लाभ लेकर देश को कोंग्रेस नामक कैंसर से मुक्ति दिलाएंगे.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *