लेखक परिचय

????????? ??????

प्रवक्‍ता ब्यूरो

जीवन जीने की कला है योग

Posted On & filed under समाज.

डॉ नीलम महेन्द्र योग के विषय में कोई भी बात करने से पहले जान लेना आवश्यक है कि इसकी सबसे बड़ी विशेषता यह  है कि आदि काल में इसकी रचना, और वर्तमान समय में इसका ज्ञान एवं इसका प्रसार स्वहित से अधिक सर्व अर्थात सभी के हित को ध्यान में रखकर किया जाता रहा है।अगर… Read more »

“करके देखो अच्छा लगता है!

Posted On & filed under समाज.

 लायन विकास मित्तल दोस्तों विश्व रक्तदाता दिवस प्रतिवर्ष. 10 जून को मनाया जाता है। क्या आप रक्तदान करते है ??? क्या कहा नही ?? ये तो गलत बात है विश्व रक्तदान दिवस मनाने में मजा तभी आयेगा जब सभी लोग 90 दिन के बाद खुद रक्तदान करने के लिए ब्लड बैंक पहुचें।अभी भी जागरुकता की… Read more »



भारत: देशहित और सत्तलालसा

Posted On & filed under राजनीति.

आस्तिक तिवारी आज के दौर में भारत एक प्रगतिशील राष्ट्र के तौर पर अपना एक एक कदम बखूबी और बेहद सलीके से बढ़ा रहा है ,सारी दुनिया भारत को एक आशा के साथ देख रही है, उसके हित भारत के साथ जुड़े हुए है और भारत भी बेहद कूटनीतिक रूप से अपने हितों को साधने… Read more »

एक नयी दुनिया के सपनो का नाम प्रोस्तोर: वंदना गुप्ता 

Posted On & filed under पुस्तक समीक्षा.

वंदना गुप्ता  ‘प्रोस्तोर’ एक लघु उपन्यास एम. एम. चन्द्रा जी द्वारा लिखा डायमंड बुक्स से प्रकाशित है. आज बड़े बड़े उपन्यास लिखे जाने के दौर में लघु उपन्यास लिखा जाना भी साहस का काम है और यही कार्य लेखक ने किया है. शायद चुनौतियों से आँख मिला सके वो ही सच्चे साहित्यकार की पहचान होती… Read more »

डॉ॰ भीमराव आंबेडकर और उनकी धर्म विषयक अवधारणा

Posted On & filed under समाज.

विवेकानंद तिवारी डॉ॰ भीमराव आंबेडकर  को हम संविधान निर्माता के रूप में जानते हैं,हालांकि विधि विशेषज्ञ होने के साथ-साथ डॉ॰ भीमराव आंबेडकर  एक प्रख्यात अर्थशास्त्री ,शिक्षा शास्त्री और सबसे बढ़कर मानवतावाद की पोषक थे. भारतीय समाज व्यवस्था में सामाजिक न्याय के योद्धा के रूप में भीमराव अंबेडकर का योगदान बहुत ही महत्वपूर्ण है. डॉ॰ भीमराव आंबेडकर  का एक… Read more »

रोहिंगिया मुसलमान और राष्ट्रीय एकता

Posted On & filed under राजनीति.

डॉ.प्रेरणा चतुर्वेदी रोहिंग्या लोग ऐतिहासिक तौर पर अरकानी भारतीय के नाम पर पहचाने जाते हैं. म्यांमार देश के रखाइन राज्य और बांग्लादेश के चटगांव इलाके में बसने वाले राज्य विहीन हिंद-आर्य लोगों का नाम है .रखाइन राज्य पर बर्मी कब्जे के बाद अत्याचार के माहौल से तंग आकर बड़ी संख्या में रोहिग्या मुसलमान लोग थाईलैंड… Read more »

लालू यादव के बड़े बेटे तेजप्रताप के शादी से लेकर , आडवाणी युग से जवानी युग में लौट रहे कुमार विश्वास

Posted On & filed under कला-संस्कृति, टॉप स्टोरी, मनोरंजन, राजनीति.

तेजप्रताप के शादी के बाद तेजस्वी के शादी में क्या मिलेगा बारातियों को ? केजरीवाल के बेवफाई के बाद कुमार को मिला भाजपा का विश्वास। लालू यादव के बड़े बेटे तेजप्रताप के शादी से लेकर , आडवाणी युग से जवानी युग में लौट रहे कुमार विश्वास की पूरी कहानी जानने के लिए क्लिक करें दिए… Read more »

बदबूदार शव की तरह हैं अरविंद केजरीवाल- कपिल मिश्रा

Posted On & filed under राजनीति, वीडियो.

अरविंद केजरीवाल के पुराने साथी और आम आदमी पार्टी के बाग़ी विधायक कपिल मिश्रा ने दिल्ली के मुख्यमंत्री पर अब तक का  सबसे बड़ा हमला किया है। प्रवक्ता.कॉम के संवाददाता से बात करते हुए उन्होंने ने मुख्यमंत्री केजरीवाल पर कई संगीन आरोप लगाया। इसके साथ ही उन्होंने अरविन्द केजरीवाल की तुलना बदबूदार शव से कर… Read more »

हाइपरटेंशन : जो बनता है किडनी की बीमारियों का कारण

Posted On & filed under समाज.

विश्व हाइपरटेंशन दिवस  Umesh Kumar Singh वल्र्ड हाइपरटेंशन लीग (डब्ल्यूएचएल) द्वारा 2005 में शुरू किया गया विश्व हाइपरटेंशन दिवस उच्च रक्तचाप और संबंधित बीमारियों के प्रति जागरूकता बढ़ाने के लिए प्रत्येक वर्ष 17 मई को मनाया जाता है। कई अध्ययनों और कहानियों के साथ उच्च रक्तचाप और कार्डिएक बीमारियों के बीच स्थापित संबंध है, लेकिन… Read more »

मिले न जब मन का मीत,मनमीत तुम किसे बनाओगी ?

Posted On & filed under कविता.

मिले न जब मन का मीत,मनमीत तुम किसे बनाओगी ? मै मीरा बनकर अपने मनमोहन को मनमीत बनाऊँगी जब तोड़ दे कोई ह्रदय तुम्हारा,फिर किसके द्वार तुम जाओगी ? जब तोड़ेगा कोई ह्रदय मेरा,अपने द्वारकाधीश के द्वार जाऊंगी जब मिले न कोई संग-साथ,फिर किसको संगीत सुनाओगी ? जब मिलेगा न कोई संग-साथ,मीरा बनकर भजन सुनाऊंगी… Read more »