अरविन्‍द विद्रोही

एक सामाजिक कार्यकर्ता--अरविंद विद्रोही गोरखपुर में जन्म, वर्तमान में बाराबंकी, उत्तर प्रदेश में निवास है। छात्र जीवन में छात्र नेता रहे हैं। वर्तमान में सामाजिक कार्यकर्ता एवं लेखक हैं। डेलीन्यूज एक्टिविस्ट समेत इंटरनेट पर लेखन कार्य किया है तथा भूमि अधिग्रहण के खिलाफ मोर्चा लगाया है। अतीत की स्मृति से वर्तमान का भविष्य 1, अतीत की स्मृति से वर्तमान का भविष्य 2 तथा आह शहीदों के नाम से तीन पुस्तकें प्रकाशित। ये तीनों पुस्तकें बाराबंकी के सभी विद्यालयों एवं सामाजिक कार्यकर्ताओं को मुफ्त वितरित की गई हैं।

अखिलेश सरकार – सपा संगठन और दावेदार

-अरविन्द विद्रोही- उत्तर-प्रदेश में सत्तारूढ़ समाजवादी पार्टी ने जिलों से लेकर प्रदेश स्तर तक की लोकसभा चुनावों में शर्मनाक पराजय...

उत्तर प्रदेश में तीसरा मोर्चा- स्वप्न या हकीकत

-अरविन्द विद्रोही- गैर कांग्रेस - गैर भाजपा दलों के गठबंधन से अलग तीसरे गठबंधन यानि कि तीसरे मोर्चा का स्वरुप...

बेतुके बयानों के बादशाह और जनता जनार्दन

-अरविन्द विद्रोही-  उच्च शिक्षा का ही व्यक्ति के व्यक्तित्व के ,चरित्र के निर्माण में योगदान नहीं होता है। व्यक्ति के...

उत्तर प्रदेश में चुनावी समर- हत्या, दंगों और विकास के मुद्दों का असर

-अरविन्द विद्रोही-    लोकसभा चुनाव का जंग लड़ने व जीतने के लिए राजनेताओं-राजनैतिक दलों ने चुनावी रण में अपने-अपने योद्धाओं...

उत्तर-प्रदेश की जातीय जकड़न में दम तोड़ती जन राजनीति

उत्तर-प्रदेश में राजनैतिक दलों के प्रभाव के साथ-साथ राजनैतिक व्यक्तियों,  सामाजिक संगठनों के कर्ता धर्ताओं,  बाहुबलियों का भी प्रभाव अलग...

उत्तर-प्रदेश की राजनैतिक चौसर पर बिछती बिसाते

- बेनी के बोल अनमोल अरविन्द विद्रोही उत्तर-प्रदेश की राजनीति में हासिये पर खड़ी भारतीय जनता पार्टी मरता क्या ना...

जंग ए आजादी में किसानों के सशस्त्र संघर्ष और आजादी के जश्न

अरविन्द विद्रोही  लम्बी मुगलकालीन दासता के पश्चात् ब्रितानिया हुकूमत की गुलामी की बेड़ियों को काटने के अनवरत संग्राम का सुखद...

राजनैतिक चक्रव्यूह में फंसते मुलायम सिंह यादव

अरविन्द विद्रोही  देश को गैर कांग्रेस - गैर भाजपा गठबंधन के स्थान पर एक नया धर्मनिरपेक्ष समाजवादी मोर्चे का विकल्प देने...

उम्मीदों के युवराज पर भारी सत्ता का जंजाल ,नौकरशाही बेलगाम और मुलायम

अरविन्द विद्रोही उत्तर-प्रदेश की स्याह व संकीर्ण हो चुकी राजनीति में आशा व उम्मीद की जो किरण वर्ष 2012 के...

अखिलेश सरकार -समाजवादी घोषणापत्र व कृषि भूमि अधिग्रहण

अरविन्द विद्रोही अन्नदाता किसानों के लिए राहुल सांस्कृतायन के लिखे-कहे शब्द ,-- " किसानों सावधान हो जाओ और आँख खोल...

19 queries in 0.381