लेखक परिचय

विनोद कुमार सर्वोदय

विनोद कुमार सर्वोदय

राष्ट्रवादी चिंतक व लेखक ग़ाज़ियाबाद

जिहादी जनून से जलता कश्मीर

Posted On & filed under राजनीति.

क्या यह उचित है कि दुश्मन के छदम युद्धों का सिलसिला बना रहें और हम उसे कायराना हमला कहकर निंदा करके अपने दायित्वों से भागते रहें ? यह कितना दुर्भाग्यपूर्ण है कि शनिवार 10 फरवरी को सुबह जम्मू में सेना की सुंजवां ब्रिगेड पर हुए जैश-ए-मोहम्मद के आतंकियों के हमले को अभी नियंत्रित भी नही… Read more »

इस्लाम का इस्लाम से भाईचारा

Posted On & filed under समाज.

पिछले माह  (18 जनवरी 2018)  मुम्बई में इजराइल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू द्वारा बुलाये गए बॉलीवुड सम्मेलन में एक भी बड़ा मुस्लिम कलाकर शाहरुख, सलमान, अमीर,सैफ, जावेद अख्तर, शबाना आज़मी आदि नही पहुँचे , जानते हैं क्यों ? क्योंकि वे तथाकथित शांतिदूत पहले मुसलमान हैं  और उनकी निष्ठा सर्वप्रथम इस्लाम में निहित होती हैं। क्या… Read more »



व्यक्तिवाद , राष्ट्रवाद और राजनीति

Posted On & filed under राजनीति.

व्यक्तिवाद विश्व के एकमात्र विशाल संगठन  “राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ” की राष्ट्रवाद , सनातन वैदिक धर्म व संस्कृति की रक्षार्थ डॉ हेडगेवार जी ने कुछ समर्पित महान विभूतियों के साथ अपने अथक पराक्रम से स्थापना की थी। भारतीय संस्कृति व सभ्यता की रक्षार्थ अपने अनेक  आनुषांगिक संस्थाओं द्वारा इस विश्वव्यापी संगठन के दशकों से चल… Read more »

“जनसंख्या नियंत्रण” पर कानून बनें …

Posted On & filed under समाज.

यह सर्वविदित है कि हमारे प्रिय देश भारत में बढ़ती जनसँख्या एक भयानक रुप ले चुकी है ? जिससे देश में विभिन्न धार्मिक जनसँख्या अनुपात निरंतर असंतुलित हो रहा है । इससे भविष्य में बढ़ने वाले अनेक संकटों का क्या हमको कोई ज्ञान है ? क्या हम अपने अस्तित्व पर आने वाले संकट के प्रति… Read more »

दुर्जन से कैसी सज्जनता …

Posted On & filed under राजनीति.

क्या पाकिस्तान के अनेक अपमानजनक  व अमर्यादित कटु व्यवहारों के बाद भी हम मौन रहें और उसे  सहते रहें , पर कब तक और क्यों ? अधिक पीछे न जाते हुए अभी पिछले सप्ताह ऐसा ही एक प्रकरण हुआ जिसमें पाकिस्तान की एक जेल में बंद हमारे नागरिक कुलभूषण जाधव से मिलने गई उनकी माँ… Read more »

हमारा भारत महान….कैसे हो..?

Posted On & filed under समाज.

क्या भारत में भारत के ही मूल धर्म व संस्कृति को नष्ट करने वालों के विरुद्ध कोई राजनैतिक दल सक्रिय होगा या केवल उनकी धार्मिक भावनाओं का दोहन करके उनकी वोटों से सत्ता के सुख में मस्त होकर अपना दायित्व भूल जाएगा ? ध्यान करों  2011 का वह हिंदुओं को एकतरफा दोषी घोषित करने वाला … Read more »

क्या यह  लव “जिहाद” होगा….?

Posted On & filed under समाज.

यह सर्वविदित ही हैं कि मुगलकालीन इतिहास को छोड़कर भी देखे तो वर्तमान में दशकों से जिहादी मानसिकता के अंतर्गत मुसलमान गैर मुस्लिम लड़कियों को छदम रुप से बहला-फुसलाकर अपने प्रेमजाल में फंसाते आ रहें हैं। तत्पश्चात उससे निकाह करके या बिना निकाह किये भी उनका अनेक दुराचारों द्वारा उत्पीडन करके उसके जीवन को नर्क… Read more »

राष्ट्रवाद की जीत

Posted On & filed under राजनीति.

गुजरात व हिमाचल के चुनाव परिणामों से यह स्पष्ट होता है कि अभी भी राष्ट्रवादियों को मोदी जी और भाजपा से बहुत आशा हैं । हिमाचल प्रदेश के संभावित मुख्यमंत्री श्रीमान धूमल की हार के उपरांत भी वहां के चुनावों में भाजपा की बड़ी जीत ने राष्ट्रवादियों को उत्साहित किया हैं। इस बार गुजरात के… Read more »

न बोल बुरा___

Posted On & filed under राजनीति.

निसंदेह अब कांग्रेस का निरंतर होने वाले पतन को कोई नही रोक सकता । जब तक मणिशंकर अय्यर व दिग्विजय सिंह जैसे नेता अपने तुच्छ विचारों को परोसते रहेंगे राष्ट्रवादियों की विजय निश्चित होती ही रहेगी। देश में प्रचंड बहुमत से चुने हुए प्रधानमंत्री को “नीच” जैसे शब्दों के द्वारा तीर चलाना या अपनी जलन… Read more »

ओबामा के अनुचित बोल..

Posted On & filed under विविधा.

भूतपूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति बराक हुसैन ओबामा ने अपनी प्रथम स्वतंत्र भारत यात्रा पर आकर अपने को  इस्लाम से सशक्तरूप से जुड़ें रहने की मनोवृति का परिचय दिया है। एक अंग्रेजी समाचार पत्र हिंदुस्तान टाइम्स के कार्यक्रम में शुकवार (01.12.2017) को नई दिल्ली में उनके संबोधन व साक्षात्कार में कुछ ऐसा आज के समाचार पत्रों में… Read more »