डॉ. पवन सिंह मलिक

लेखक माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय, भोपाल में सहायक प्राध्यापक है मोबाइल :- 8269547207

स्वामी विवेकानंद: बस वही जीते हैं, जो दूसरों के लिए जीते हैं

-     डॉ. पवन सिंह मलिक "जिंदगी बड़ी होनी चाहिए लंबी नहीं".... मात्र 39 वर्ष, 5 मास और 23 दिन की अल्पायु में जिन्होंनें चिरसमाधि प्राप्त की।  जिन्होंनें इस...

स्वामी विवेकानंद: युवाओं की प्रेरणा व दिलों की धड़कन

-    डॉ. पवन सिंह मलिक -      हिन्दुस्थान नौजवान है, युवाशक्ति से भरा हुआ है। युवा के मन में व आँखों में...

सिटिज़न जर्नलिज़्म: प्रोत्साहन के साथ-साथ प्रशिक्षण भी जरुरी

डॉ. पवन सिंह मलिक सिटिज़न जर्नलिज़्म शब्द जिसे हम नागरिक पत्रकारिता भी कहते है आज आम आदमी की आवाज़ बन...

19 queries in 0.354