मनोरंजन

Entertainment

भोजपुरी सिनेमा के पचास साल पर पटना में होगी बहस

16 फरवरी को भोजपुरी सिनेमा के पचास साल पूरे हो रहे हैं। इस मौके पर एफएमसीसीए (फाउंडेशन फॉर मीडिया कल्‍चर...

देश राग के सर्वोत्तम स्वर: पंडित भीमसेन जोशी

विजय कुमार 1985 में दूरदर्शन पर अनेक कलाकारों को मिलाकर बना कार्यक्रम‘देश-राग’ बहुत लोकप्रिय हुआ था। सुरेश माथुर द्वारा लिखित...

‘यमला पगला दीवाना’ मे हंसी का फव्वारा

डॉ. मनोज चतुर्वेदी एन. आर. आई. सम्मेलन में भारत सरकार ने प्रवासी भारतियों लिए विशेष सुविधाओं का प्रावधान किया है। अपना...

‘नो वन किल्ड जेसिका’ में न्यायिक सड़ांध

डॉ. मनोज चतुर्वेदी यह भारत का दुर्भाग्य हैं कि जिस भारत की दुहायी वेदों, उपनिषदों तथा अन्य भारतीय ग्रंथों में...

समान्तर सिनेमा के प्रभाव की तरह का एक नाटक ‘लाल देद’

प्रमोद कुमार बर्णवाल समान्तर सिनेमा की एक उल्लेखनीय विशेषता चीजों, घटनाओं, स्थितियों, परिस्थितियों, अवस्था और दशा को ठीक उसी तरह...

22 queries in 0.435